ताज़ा खबर
 

कैबिनेट विस्तार से पहले मोदी ने स्पेशल टीम से हर सांसद-मंत्री पर करवाई थी रिसर्च, केवल 10 को मिले फुल मार्क्स

सूत्रों का कहना है कि 2014 में जब मोदी पीएम बने थे उस समय कैबिनेट पर शाह, जेटली और आरएसएस का प्रभाव था।
Author July 8, 2016 09:10 am
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से किए गए कैबिनेट विस्‍तार से पहले स्‍पेशल टीम से सांसदों और मंत्रियों की रिसर्च कराई थी।

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से किए गए कैबिनेट विस्‍तार से पहले स्‍पेशल टीम से सांसदों और मंत्रियों की रिसर्च कराई थी। इसके तहत टॉप के मंत्रालयों को इस प्रक्रिया से दूर रखा गया था। वहीं अनुशासन, जाति व विचारधारा को भी मानक बनाया गया। सांसदों को परखने के लिए पीएम मोदी और भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह ने मिलकर फॉर्मूला बनाया था। इसके तहत मतदाताओं के रूख, संसद में प्रदर्शन और मंत्रालय में काम के आधार पर नंबर दिए गए। लोकसभा में भाजपा के 282 सांसदों में से 165 पहली बार चुने गए हैं। इनके बारे में माना जाता है कि ये मोदी लहर में जीतकर आए। पार्टी सूत्रों के अनुसार इस फॉर्मूले के जरिए इन सांसदों की जमीनी पकड़ की हकीकत भी जानी गई।

शाह के नेतृत्‍व में हुए आंकलन के बाद मोदी ने कैबिनेट में बदलाव किया। सूत्रों का कहना है कि केवल 10 सांसदों को ही 100 में से 100 अंक मिले। आंकलन में राजनाथ सिंह, सुषमा स्‍वराज और नितिन गडकरी को शामिल नहीं किया गया। अरुण जेटली से सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय लिया गया लेकिन माना जा रहा था कि इस मंत्रालय को संभालने को लेकर जेटली भी हिचहिचा रहे थे। अब यह मंत्रालय वैंकेया नायडू को दिया गया है।

भुलाया मिनिमम गवर्नमेंट: मनमोहन सरकार से भी बड़ी हुई मोदी कैबिनेट, UP से अब तक के सबसे ज्‍यादा 12 मंत्री

स्‍मृति ईरानी का कद घटाकर यह संदेश दिया गया है कि पार्टी अनुशासन सबसे बड़ा है। स्‍मृति ने कई आरएसएस नेताओं और मोदी की ओर से सुझाए नामों को भी कई मौकों पर नजरअंदाज कर दिया था। सूत्रों ने बताया कि इन सब बातों को नजर में रखा गया। साथ ही स्‍मृति के बयान भी उनके खिलाफ गए। एक वरिष्‍ठ नेता ने कहा, ”हमें मंत्रालय में विद्वान नहीं चाहिए लेकिन ऐसा व्‍यक्ति चाहते हैं जिसे पता हो कि विद्वानों से कैसे घुलमिल सकते हैं।”

स्‍मृति ईरानी से छीना गया HRD तो सदानंद गौड़ा ने गंवाया कानून मंत्रालय, जानिए किसे मिला कौन सा मंत्रालय

राजस्थान से सांसद अर्जुन राम मेघवाल को मंत्री बनाए जाने से संघ परिवार में भी खुशी है। जयंत सिंहा को वित्‍त मंत्रालय से बाहर किए जाने को उनके विद्रोही पिता के लिए संदेश बताया जा रहा है। सिंहा को अब उड्डयन मंत्रालय में भेजा गया है। सभी 19 मंत्रियों में से रमेश जिगजिनगी को छोड़कर बाकी सभी उत्‍तर या विंध्‍य क्षेत्र से आते हैं। दक्षिण भारत से सबसे कम मंत्री बनाए गए हैं। एमजे अकबर को मंत्री बनाने के पीछे भारतीय इस्‍लाम की दुनिया को जानकारी देने का उद्देश्‍य है। मोदी ने गांव, गरीब और किसान का संदेश देने के लिए दो आदिवासी, पांच दलित, दो अल्‍पसंख्‍यक और दो महिलाओं को शामिल किया।

मोदी से तीन बड़े मुद्दों पर मतभेद के चलते स्मृति ईरानी से छिनी HRD मिनिस्ट्री

सूत्रों का कहना है कि 2014 में जब मोदी पीएम बने थे उस समय कैबिनेट पर शाह, जेटली और आरएसएस का प्रभाव था। मोदी अपने ज्‍यादातर सांसदों को नहीं जानते थे। दो साल बाद अप्रैजल के जरिए उनके सामने असल तस्‍वीर आ गर्इ। इसलिए पांच जुलाई को किया गया मंत्रिमंडलीय बदलाव गुजराती पीएम ने एक अन्‍य गुजराती के साथ मिलकर किया।

मोदी ने बनाए 19 नए मंत्री, देखिए उनके शपथ की तस्‍वीरें और जानिए 20 खास बातें

cabinet reshuffle, modi cabinet ministers list, modi cabinet ministers list 2016, modi new cabinet ministers, modi cabinet reshuffle 2016, cabinet reshuffle 2016, Modi, Narendra Modi, PM Modi, Narendra modi cabinet ministers list, modi cabinet ministers list 2016, Anupriya Patel, SS Ahluwalia, Ramesh Chandappa Jigjinagi, Parshottam Rupala, MJ Akbar, Arjun Ram Meghwal, Anil Madhav Dave, Vijay Goel, Rajen Gohain, Mahendra Nath Pandey, CR Chaudhary, PP Chaudhary, Ramdas Athawale, Subhash Ramrao Bhamre, Politcs News  (Photo Source: PIB)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग