ताज़ा खबर
 

BJP सांसद ने भी किया था संसद में सुरक्षा नियमों का उल्लंघन, नहीं हुआ था कोई एक्‍शन, बाद में राज्‍यसभा भी भेजे गए थे

2005 में भाजपा सांसद विजयेन्द्र पाल सिंह को भी संसद के सुरक्षा मानकों का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया था।
आम आदमी पार्टी से सांसद भगवंत मान। (फाइल फोटो)

संसद की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने के मामले में आप सांसद भगवंत मान के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन द्वारा भाजपा सांसद किरिट सोमैया की अध्यक्षता में गठित पैनल को दुविधा का सामना करना पड़ रहा है। पैनल के सामने मान के खिलाफ कार्रवाई करने में दुविधा यह आ रही है कि इससे पहले 2005 में भाजपा सांसद विजयेन्द्र पाल सिंह को भी संसद के सुरक्षा मानकों का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया था। लेकिन, तब उनको सिर्फ चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था और बाद में भाजपा ने उन्हें राज्यसभा भी भेजा था। अगस्त 2005 में सांसद विजयेन्द्र पाल सिंह ने अपनी मर्सिडीज कार पर फर्जी स्टीकर लगाकर संसद परिसर में प्रवेश किया था। जब यह मुद्दा उठा तो भाजपा सांसद ने इंक्वायरी कमिटी के सामने अपनी सफाई में कहा कि वह यह बताना चाहते थे कि संसद की सुरक्षा व्‍यवस्‍था में चूक है और इसलिए वह अपनी गाड़ी पर फर्जी स्टीकर लगाकर संसद परिसर में आए थे। सुरक्षाबलों ने भी बिना गहन छानबीन के उन्हें अंदर आने दिया था।

अब भगवंत मान के खिलाफ एक्शन लेने में पैनल के सामने विजयेन्द्र पाल सिंह का मामला आड़े आ रहा है। आप सांसद ने इस मामले में पहले ही लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन से यह कहते हुए माफी मांग ली है कि उनका इरादा संसद की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने का नहीं था। लोकसभा अध्यक्ष ने मान को इस मामले में कोई अंतिम फैसला न हो जाने तक संसद न आने का आदेश दिया था। संसद के अन्य सदस्यों ने मान के इस कदम की तीखी आलोचना की थी। इस मामले में पैनल के सदस्य का कहना है, ‘यदि हम मान के खिलाफ कोई कड़ा फैसला लेते हैं तो परेशानी खड़ी हो सकती है। आखिरकार, ऐसे ही एक मामले में विजयेन्द्र पाल सिंह को सिर्फ चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था।’

Read Also: भगवंत मान ने कहा- PM मोदी ने देश की सुरक्षा खतरे में डाली, उन्‍हें भी संसद से सस्‍पेंड करो

एक अन्य सांसद का कहना है कि यदि इस मामले में संगरूर से लोकसभा सांसद भगवंत मानद के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई की जाती है या उन्हें संसद आने से रोका जाता है तो यह विवाद का कारण बन सकता है और वो इसे मुद्दा बना सकते हैं कि बीजेपी पंजाब से जुड़े मुद्दे उठाने नहीं दे रही है। पैनल के सदस्यों के सामने एक समस्या यह भी है कि वे मान के खिलाफ आखिर किस नियम के उल्लंघन के तहत कार्रवाई करें? क्योंकि संसद के रूल बुक में ऐसे मामलों के उल्लंघन से जुड़ा कोई नियम ही नहीं है। एक पैनल सदस्य का कहना है, ‘हमें नहीं पता कि मान ने कौन सा नियम तोड़ा है, क्योंकि ऐसा कोई नियम रूल बुक में है ही नहीं।’ इस मामले के बाद पैनल इस संबंध में संसदीय कार्य मंत्री को नियम बनाने का सुझाव दे सकती है।

Read Also: एक वीडियो ने बढ़ाया था AAP के भगवंत का मान, पर इस बार कराया अपमान

वहीं भगवंत मान ने अपने बचाव में पीएम मोदी को भी घसीट लिया था। उन्होंने कहा था कि अगर उन्होंने गलती की है तो फिर पीएम मोदी ने ISI के लोगों को पठानकोट का एयरबेस घुमाकर भी गलती की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.