December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

बार-बार पैसा बदलने आ रहे लोगों पर लगेगा अंकुश, बैंक करेंगे स्याही का प्रयोग

देशभर में बैंक शाखाओं में मंगवार को कई स्थानों पर एक-एक किलोमीटर लंबी कतारें लग गईं।

Author नई दिल्ली | November 15, 2016 23:25 pm
स्याही लगाए जाने को लेकर यूजर्स ने उड़ाया सरकार का मजाक ।

नोटबंदी के बाद लोगों की परेशानियां मंगलवार (15 नवंबर) को भी जारी रहीं। कई स्थानों पर बैंकों का आईटी नेटवर्क बाधित हुआ और एटीएम के बाहर लाइन लगाकर खड़े लोगों को खाली हाथ लौटना पड़ा। इस स्थिति के बीच आम लोगों की परेशानी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने अप्रचलित नोटों को बदलवाने वालों की ऊंगली पर अमिट स्याही लगाने तथा जन धन खातों में संदिग्ध जमाओं की निगरानी करने का फैसला किया है। सरकार ने यह कदम नोटों की अदला बदली करवाने में कई गिरोहों के सक्रिय होने की रपटों के बाद उठाया है। ऐसी रपटें हैं कि ऐसे गिरोह के सदस्य बार-बार कतारों में लगकर नोट बदलवा रहे हैं। इससे वास्तविक जरूरतमंदों को परेशानी हो रही है। एक दिन की छुट्टी के बाद बैंक मंगलवार को फिर खुले। देशभर में बैंक शाखाओं में मंगवार को कई स्थानों पर एक-एक किलोमीटर लंबी कतारें लग गईं।

एक तरफ सरकार नए 2000 और 500 के नोट की आपूर्ति बढ़ाने की तैयारी कर रही है वहीं कई बैंक शाखओं का नेटवर्क मंगलवार को बैठ गया। इसके अलावा सरकार ने कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा की अगुवाई में एक उच्चस्तरीय समिति गठित की है जो आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की निगरानी करेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार रात भी हालात की समीक्षा की। इसके बाद ये कदम उठाए गए हैं। रविवार और सोमवार रात हुई बैठकों में वित्त मंत्री अरुण जेटली तथा रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल तथा कई अन्य अधिकारी शामिल हुए। आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने संवाददाताओं को इन बैठकों की जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘सरकार के नोटिस में आया है कि अनेक जगह वही लोग बार बार नोट बदलवाने आ रहे है और इस तरह की भी रपटें हैं कि कुछ असामाजिक तत्व भोले भाले लोगों को फांसकर अपने कालेधन को वैध बनाने की कोशिश कर रहे हैं। ये तत्व ऐसे लोगों को कभी इस बैंक तो कभी उस बैंक में नोट बदलवाने के लिए भेजते हैं।’

इसके अलावा संवेदनशील क्षेत्रों में जाली मुद्रा के चलन की निगरानी के लिए एक कार्यबल का भी गठन किया गया है जो प्रणाली में कालेधन को जमा करने पर निगाह रखेगा। दास ने कहा, ‘जहां बैंकों में भीड़ है और नकदी निकासी का फायदा कुछ ही लोगों को मिल रहा है.. इस तरह के दुरुपयोग को रोकने के लिए बैंक नकदी लेने वाले के हाथ पर जल्दी नहीं मिटने वाली स्याही लगाएंगे।’ उन्होंने कहा कि इससे लोग बार-बार नोट बदलवाने आने से बचेंगे और नोट बदलवाने वाले गिरोहों पर भी लगाम लगाई जा सकेगी। दास ने कहा कि इसी तरह सरकार की जनधन खातों में जमाओं पर भी करीबी निगाह है। अनेक मामलों में इस तरह के खातों का इस्तेमाल कालाधन जमा कराने के लिए किया गया है। उन्होंने जनधन खाताधारकों से अपील की है कि वे सावधान रहे और अपने बैंक खातों का दुरुपयोग नहीं होने दें। अमिट स्याही के बारे में दास ने कहा कि इस बारे में इस्तेमाल संबंधी दिशा निर्देश बैंक तैयार करेंगे। इसके साथ ही जाली मु्रदा प्रचलन में लाने पर रोक आदि के लिए एक कार्यबल गठित किया गया है। यह कार्यबल यह सुनिश्चित करेगा कि प्रणाली में कालाधन नहीं
आ पाए।

नोटबंदी पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इंकार; केंद्र सरकार से पूछा- ‘पैसे निकालने की सीमा बढ़ाई क्यों नहीं जाती?’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 11:25 pm

सबरंग