April 24, 2017

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी पर बाबा रामदेव बोले- जब सैनिक कई दिनों तक भूखे रह सकते हैं तो हम देश के लिए ऐसा क्यों नहीं कर सकते?

बाबा रामदेव ने पहले नोटबंदी के फैसले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की थी।

Author नई दिल्ली | November 13, 2016 15:44 pm
पतंजलि बिस्कुट बनाने वाली निर्माता कंपनी औऱ पतंजलि प्रोडक्ट बेचने वाले दुकानदार पर जुर्माना लगा । (FilePhoto by Neeraj Priyadarshi/Indian Express)

योगगुरु बाबा रामदेव ने रविवार को कहा कि अगर हमारे जवान सीमा पर जंग लड़ते हुए कई दिनों तक बिना खाना रह सकते हैं। तो जो लोग पैसे निकालने के लिए बैंकों के बाहर खड़े हैं वो ऐसे क्यों नहीं कर सकते? न्यूज एजेंसी एएनआई ने रामदेव के हवाले से लिखा है, ‘युद्ध के दौरान हमारे जवान 7-8 दिन तक बिना खाना खाए रहते हैं तो क्या हम हमारे देश के लिए ऐसा नहीं कर सकते?’ पैसा निकालने और जमा कराने कि लिए लोगों की बैंकों और एटीएम के बाहर लगी लंबी लाइनों ने मीडिया की सुर्खियों का हिस्सा बनी हैं। शनिवार को मध्यप्रदेश में स्थानीय लोगों ने राशन की एक दुकान को इसलिए लूट लिया, क्योंकि उसके मालिक ने 500 और 1000 रुपए के नोट लेने से मना कर दिया। इसके साथ ही बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की लंबी लाइनें लगी हैं। लोग पूरे-पूरे दिन लाइन में खड़े होकर पैसे बदलवाने के लिए अपनी बारी का इंतजाार कर रहे हैं।

बाबा रामदेव ने इससे पहले 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की थी। उन्होंने कहा था कि इससे आतंकवाद, नक्सलवाद और गैर-कानूनी धंधों पर रोक लगाने में मदद मिलेगी। रामदेव ने कहा था, ‘पूरा देश कालाधन, भ्रष्टाचार, गैरकानूनी धंधों पर रोक लगाने के फैसले के लिए पीएम मोदी को बधाई दे रहा है।’ रामदेव ने गुरुवार को जयपुर में कहा था ‘नरेन्द्र मोदी प्रथम प्रधानमंत्री है जिन्होंने साहसी कदम उठाया है ,इसके दूरगामी परिणाम निकलेंगे। नरेंद्र मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान मैं गुजरात गया था। उस वक्त मैंने भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए पांच सौ और एक हजार रूपये का नोट बंद करने का सुझाव दिया था। लेकिन उस वक्त उनके पास यह शक्ति नहीं थी जब अधिकार मिला तो उन्होंने (नरेंद्र मोदी) साहस भरा निर्णय लिया। प्रधानमंत्री के इस निर्णय से नक्सलवाद और अपराधों पर अंकुश लगेगा।’

साथ ही उन्होंने कहा था, हम तो बाबा जी है, बैंक में खाता खोला ही नहीं है, हजार और पांच सौ के नोट अपने पास तो थे ही नहीं इन नोट को बंद करके बहुत अच्छा काम किया है, यहां तो जेब ही नहीं है।’

बता दें, बाबा रामदेव ने 2011 में अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन के दौरान तत्कालीन कांग्रेस सरकार को 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने की सलाह दी थी।

वीडियो में देखें- 500 रुपए और 1000 रुपए के नोट बंद करने पर बोले योग गुरु बाबा रामदेव; कहा- “ईमानदार, देशभक्त पीएम मोदी को मुबारकबाद देता हूं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 2:37 pm

  1. A
    Avie
    Nov 13, 2016 at 10:40 pm
    Patanjali k products logo ko kuch dino k liye free me supply karo baba ramdev, ye bhi ek desh seva hi hogi, waise bhi billions of rupees kama liye issi janta se ab unki seva karne ka mauka mila hai to kar lo seva
    Reply
    1. S
      santosh
      Nov 13, 2016 at 5:03 pm
      शर्म की बात है कि सरकार सैनिको को खाना भी नहीं दे पा रही।
      Reply
      1. L
        lalan kumar
        Nov 13, 2016 at 10:43 am
        besharmi ki had hai....chhappan bhog khanewale bhookhe rahane ki baat kar raha hai, pahale to batayen ki eitane kam dino me tata-virala ko takkar kaise dene lag e? kahaan se barsi kripa ? yoga cl se to eitana arjan sambhav nahin hai, par aapki jaanch kaun karega - hindustan ke sabse imandaar-mahaan adami ki god me aap jo baithe hain...eis desh me parakh kisako hai ki aap dwara becha ja rahaa sarson ka tail sarson ka hai hi nahi....dawa par dawa kiye ja rahe hain....
        Reply
        1. L
          lalan kumar
          Nov 13, 2016 at 10:46 am
          sarason aur rai me antar hota hai yoga-vaidyacharya ji ! aapaka sarason tail darasal rai ka tail hota hai !
          Reply
          1. M
            Mahendra Sharma
            Nov 13, 2016 at 1:54 pm
            A kaniya baba ke kapde me khisha nahi hai.par jis gadi me ghumta hai.uski dikkito bahot badi hai.aur uska jo pahenawa hai.usase to gathri banai ja sakti hai.jab garib ghar me dabbe me jama kiya hua pasa jama kara sakte hain to baaba kyu nahin? magar a kaniya bab a toh pageld se hi,kale dhan ko banko me jama kara chuka tha.j aise bangal me bjp ne jama karaya.a jitne bhi bjp ke chamche hain.sab ko inam me bjp ne yahi inam to diya hai.baki gtib logo ko pareshanan .kiya.addani,am bani dikhe hi nahin
            Reply
            1. S
              shivshankar
              Nov 13, 2016 at 7:39 pm
              बाबाजी आप तो ५०० और हज़ार का नोट बंद करवाना चाहते थे अब तो आप की ोलियत के लिए २००० का भी आ रहा है
              Reply
              1. S
                shivshankar
                Nov 13, 2016 at 7:35 pm
                बेशर्म बाबा की बेशर्म बातें
                Reply
                1. V
                  Vinay Totla
                  Nov 18, 2016 at 8:46 am
                  आप ी कह रहे है बाबा जी लेकिन शायद आपको यह नहीं पता की सीमा पे जो जवान खड़े रहते है उनको इस बात के प्रशिक्षण मिलता है|हमारे देश में जहा पहले से ही कितने ही लोग भविष्य के लिए पैसे बचाने के लिए या खाने के लिए पैसे नहीं होने की वजह से भूखे रहते है|और आयुर्वेद में भी कहा गया है की हफ्ते में एक बार उपवास करना चाहिए लेकिन कितने लोग करते है|चलिए आपकी बात मान कर काफी लोग यह भी कर ले तो बच्चो के लिए क्या करे| उन्हें भी २-४ दिनों के लिए भूखा ही रहने दे| १/२
                  Reply
                  1. V
                    Vinay Totla
                    Nov 18, 2016 at 8:53 am
                    बाबा जी आपका क्या आप तो जहाँ जहाँ जाते हो आपके चेले आपके लिए आगे से आगे इंतेजाम रखते है| आप तो योग भी मंच पर बैठ कर करते हो आने जाने के लिए कारो और हवाई जहाज़ इंतेजाम रहता है लेकिन गरीब की सोचो ५-१० किलोमीटर तक चलता है क्योकि उसे घर गुज़ारे के लिए नकद चाहिए उसका क्या सिर्फ बाते करने से इसका हल मिल जाये तो क्या कहना| सभी कर रहे है आपकी ही तरह|अब तो सरकार से सिर्फ यही गुज़ारिश है की जल्द से जल्द व्यवस्था को ठीक करे नहीं तो कही स्थिति विस्फोटक नहीं हो जाये|
                    Reply
                    1. Load More Comments

                    सबरंग