ताज़ा खबर
 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तर्ज पर कांग्रेस के असलम शेर खान बनायेंगे ‘राष्ट्रीय कांग्रेस स्वयंसेवक संघ’

यह मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में ठीक उसी तरह से कांग्रेस की मदद करेगी, जैसे आरएसएस चुपके-चुपके पिछले दरवाजे से चुनावों में भाजपा की सहायता करती है।’’
Author भोपाल | March 29, 2017 20:09 pm
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व ओलंपियन असलम शेर खान ।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व ओलंपियन असलम शेर खान ने बुधवार को घोषणा की है कि मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में वर्ष 2018 में होने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा को टक्कर देने के लिए वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तर्ज पर ‘राष्ट्रीय कांगे्रस स्वयंसेवक संघ’ :आरसीएसएस: बनायेंगे। पूर्व केन््रदीय मंत्री असलम ने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘‘मैं आज ‘राष्ट्रीय कांगे्रस स्वयंसेवक संघ’ के गठन की घोषणा करता हूं। यह मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में ठीक उसी तरह से कांग्रेस की मदद करेगी, जैसे आरएसएस चुपके-चुपके पिछले दरवाजे से चुनावों में भाजपा की सहायता करती है।’’ उन्होंने कहा कि आरसीएसएस का ढांचा ठीक उसी प्रकार का होगा, जैसे आरएसएस का है। लेकिन आरसीएसएस का कोई परिधान नहीं होगा, जैसा कि आरएसएस स्वयंसेवकों का है।

असलम ने बताया, ‘‘मैंने आरसीएसएस बनाने का निर्णय लिया है, क्योंकि जमीनी स्तर पर कांग्रेस के पास कार्यकर्ताओं की भारी कमी है, जबकि एक राजनीतिक दल के लिए चुनाव जीतने के लिए जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं का होना जरूरी है।’’ उन्होंने कहा कि आरसीएसएस में उन लोगों को स्वयंसेवकों के रूप में शामिल किया जायेगा, जो किसी राजनीतिक दल से न जुड़े हों और धर्मनिरपेक्ष होने के साथ-साथ कांग्रेस के समान विचार रखने वाले हों। असलम ने बताया कि हाल ही में हुए उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणामों से स्पष्ट हो गया है कि यदि कांग्रेस केवल अल्पसंख्यक वोटों के बल पर ही सत्ता में आना चाहती है, तो यह संभव नहीं है। जब उनसे सवाल किया गया कि वह आरसीएसएस क्यों बना रहे हैं, जबकि आरएसएस के पहले ही ‘कांग्रेस सेवा दल’ बनाया था, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस सेवा दल लगभग खत्म हो चुका है।’’ कांगे्रस नेता असलम ने बताया कि कांग्रेस सेवा दल की स्थापना एन एस हार्डिकर ने अंग्रेजों से देश की आजादी हासिल करने के लिए किया था।

उन्होंने कहा, ‘‘यह उद्देश्य हमने कई साल पहले वर्ष 1947 में हासिल कर लिया है, इसलिए अब यह :कांग्रेस सेवा दल: लगभग खत्म हो गया है।’’असलम ने बताया कि आरएसएस की स्थापना के. बी. हेडगेवार ने भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए किया है और उनका यह सपना अब तक पूरा नहीं हुआ है। इसलिए आरएसएस बहुत ज्यादा सक्रिय है और अब भी काम कर रहा है।हालांकि, उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन््रद मोदी द्वारा देश की कमान संभालने के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ मिलकर मोदी आरएसएस के इस सपने :भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने का: को साकार करने के लिए युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं।असलम ने कहा कि हेडगेवार ने आरएसएस का गठन मात्र चार लोगों से की थी और वह भी भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने का काम कर रहे थे।उन्होंने दावा किया, ‘‘अगले साल तक आरसीएसएस में एक लाख तक स्वयंसेवक हो जाएंगे।’’ असलम ने बताया कि आरसीएसएस की मदद से कांग्रेस आने वाले दिनों में भाजपा को चुनावों में कड़ी टक्कर देगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा- "सूर्य नमस्कार और नमाज एक समान"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Mar 29, 2017 at 10:18 pm
    असलम खान साहिब ! कांग्रेस की ये देशद्रोही लाइन जनता पूरी तरह नकार चुकी है और अब २०१९ तक ,इंशा-अल्लाह , हिन्दोस्तान कांग्रेसमुक्त भी होगा और हिन्दुराष्ट्र भी बनेगा ! आरएसएस के सामने, आपके आरसीएसएस की , ठीक वैसे ही कोई हैसियत नहीं होगी जैसे गंगा मैया के सामने ,बरसाती नदी की कोई हैसियत नहीं होती !
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Mar 29, 2017 at 10:06 pm
      असलम शेर खान साहिब ,आप कोई डॉ केशव बलिराम हेडगेवार जैसी प्रातःस्मरणीय ,महान वि ि नहीं हो जो आरएसएस के समान कोई संगठन खड़ा कर लोगे ! ताजमहल की भी कई प्रतिकृतियां ५००रुपये मैं आगरा की दुकानों मैं मिल जाती हैं ,असली ताजमहल के सामने उन प्रतिकृतियों की जो कीमत होती है ,ठीक वही कीमत आरएसएस की नक़ल यानि की आपके संगठन आरसीएसएस की होगी. आरएसएस के सदस्यों ने अपने प्राण न्योछावर करके ,कई दफा देश के नागरिकों को बाढ़,भूस्खलन ,आगजनी इत्यादि आपदाओं मैं बचाया है . आरएसएस के स्वयंसेवक बिना किसी लालच के चना चबेना कहकर भी निरंतर ,देशसेवा के काम करते रहते हैं . देशभक्ति की अटूट भावना और महाराणा प्रताप ,छत्रपति शिवाजी, वीर सावरकर,, महारानी लक्ष्मीबाई ,गुरु गोलवलकर, बालासाहेब देवरस जैसे राष्ट्रीय आदर्श स्वयं सेवकों को ऊर्जा और प्रेरणा देते हैं. आपकी आरसीएसएस के प्रेरणा स्त्रोत तो जेएनयू मैं देशद्रोही नारे लगाने वाले कन्हैया कुमार ,उमर खालिद ,अनिर्बान भट्टाचार्य, आतंकवादी इशरतजहां और बाटला हाउस एनकाउंटर मैं मारे गए आतंकवादी ही होंगे.
      (0)(0)
      Reply