ताज़ा खबर
 

असदुद्दीन ओवैसी का आरोप-सरकार मुस्लिम इलाकों में नहीं पहुंचा रही नई करेंसी, नकवी का जवाब- मुसलमानों के नाम पर कर रहे राजनीति

ओवैसी ने कहा कि नोटबंदी का फैसला बिना सोचे समझे किसी तैयारी के लिया गया है, इस फैसले से देश की अर्थव्यवस्था डूब जाएगी।
ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असद्दुद्दीन ओवैसी (पीटीआई फाइल फोटो)

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने नोटबंदी पर विवादित बयान दिया है। हैदराबाद में आज (सोमवार को) एक रैली को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार नोटबंदी लागू कर मुसलमानों को परेशान कर रही है। उन्‍होंने आरोप लगाया कि मुस्लिम बहुल इलाकों के एटीएम खाली पड़े हैं। वहां नई करेंसी के नोट नहीं पहुंचाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज की तारीख में मुसलमान एक-एक पैसे के लिए तरस रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिन इलाकों में मुसलमान रहते हैं वहां बैंक भी नहीं खोला जाता है।

ओवैसी ने कहा कि पिछले दिनों बैंकों व एटीएम से पैसे निकलवाते समय कई लोग मर गए। बाजारों में लोगों को काफी दिक्‍कतें हो रही हैं। ओवैसी ने बीते दिनों कहा था कि नोटबंदी का फैसला बिना सोचे समझे किसी तैयारी के लिया गया है, इस फैसले से देश की अर्थव्यवस्था डूब जाएगी।

उधर, बीजेपी की तरफ से केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ओवैसी के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि ओवैसी लोगों को बांटने वाली राजनीति कर रहे हैं। नकवी ने कहा कि एटीएम तक पैसा पहुंचाने में न तो सरकार न ही कोई सरकारी एजेंसी भेदभाव कर रही है।

वीडियो देखिए- नोटबंदी का विरोध: एटीएम का किया अंतिम संस्कार, पंडित ने करवाया क्रियाकर्म

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bhagat
    Dec 12, 2016 at 11:54 am
    राजनीती भारत में हे इसलिए इतनी आवाज निकल रही रही हे किसी और देश में होते तो दुम दबा के चलते
    (0)(0)
    Reply
    1. S
      shivshankar
      Dec 12, 2016 at 10:22 pm
      ओवैसी मुसलमानों के नाम पर राजनीती कर रहे हैं और नक़वी जी को मुसलमानी नाम होने की वजह से बीजेपी पाल रही है . दुम हिलाते रहिये टुकड़े मिलते रहेंगे
      (0)(0)
      Reply