ताज़ा खबर
 

मैकेनिकल इंजीनियर ने अरविंद केजरीवाल को लिखा खुला खत, जूते खरीदने के लिए भेजे 364 रुपए

सुमित अग्रवाल ने ओपन लेटर में लिखा है- इन पैसों से केजरीवाल अपने लिए जूते खरीद लें, ताकि अगली बार किसी खास मौके पर सैंडल पहनकर न चले जाएं।
Author नई दिल्‍ली | February 5, 2016 09:36 am
सुमित लिखते हैं कि दिल्ली के सीएम की सैलरी करीब 2 लाख रुपए है। फिर भी वह ऐसे खास मौकों पर सैंडल पहनकर चले जाते हैं।

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नाम विशाखापत्तनम के मैकेनिकल इंजीनियर सुमित अग्रवाल का ओपन लेटर सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। फेसबुक पर लिखे खुले खत में उन्‍होंने गणतंत्र दिवस के मौके पर सैंडल पहनकर पहुंचने पर अरविंद केजरीवाल की आलोचना करते हुए 364 रुपए का डिमांड ड्राफ्ट भेजने की भी बात कही है। आपको बता दें कि जनवरी में राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में केजरीवाल सैंडल पहनकर फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद से मिले थे। सुमित अग्रवाल ने ओपन लेटर में लिखा है- इन पैसों से केजरीवाल अपने लिए जूते खरीद लें, ताकि अगली बार किसी खास मौके पर सैंडल पहनकर न चले जाएं।

सुमित लिखते हैं कि दिल्ली के सीएम की सैलरी करीब 2 लाख रुपए है। फिर भी वह ऐसे खास मौकों पर सैंडल पहनकर चले जाते हैं। वह हौज खास पर किसी दोस्त की बर्थडे पार्टी नहीं थी, राष्ट्रपति भवन का डिनर था। हर मौके की अपनी अहमियत होती है। शो-ऑफ करना अच्छी बात नहीं, लेकिन अपनी सादगी का जरूरत से ज्यादा प्रदर्शन और भी बुरी बात है।

सुमित ने खत में केजरीवाल को संबोधित करते हुए लिखा- मेरे शहर में इस वीकेंड पर इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू का आयोजन होगा। ऐसे मौके अपनी क्षमता का प्रदर्शन करने और दूसरे देशों के साथ दोस्ती का संबंध बनाने के लिए होते हैं। इस मौके पर 60 देशों के प्रतिनिधि आएंगे। संभावना है कि आपको (केजरीवाल को) भी आमंत्रण मिले। बस इसी वजह से मैं आपको यह खत लिख रहा हूं।

सुमित आगे लिखते हैं- सर, आपकी तरह मैं भी एक मैकेनिकल इंजीनियर हूं। हालांकि, आईआईटी या ऐसे ही किसी दूसरे प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थान से नहीं पढ़ा हूं। आपकी तरह मैं मारवाड़ी (बनिया) भी हूं, लेकिन, आपकी तरह मेरे अंदर आम आदमी का वह नैचुरल आकर्षण नहीं है, इसीलिए बहुत कोशिश के बाद भी मैं बस 364 रुपये जुटा पाया हूं। हालांकि, इतने पैसे एक मुख्यमंत्री के लिए काफी नहीं हैं, लेकिन मेरा आपसे अनुरोध है कि कृपया इस छोटे से योगदान को स्वीकार करें और अपने लिए एक जोड़ी बढ़िया ब्लैक फॉर्मल शूज खरीद लें। अगर आपको और पैसों की जरूरत हो तो मुझे लिखें, जरूरत पड़ी तो मैं कुछ और पैसे जुटाने के लिए पूरे शहर का चक्कर लगा आऊंगा।

आखिर में सुमित ने लिखा कि केआर नारायणन की तरह कुछ पूर्व राष्ट्रपतियों ने अपने मेहमानों के लिए ड्रेसकोड तय कर दिया था। अगर केजरीवाल अपने तरीके नहीं बदलते हैं, तो शायद राष्ट्रपति भवन को अपना तरीका बदलना पड़े और पुराना नियम अपनाना पड़े।  (पूरा ओपन लेटर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

Visakhapatnam engineer, open letter to Arvind Kejriwal, demand draft, DD, Kejriwal Rs 364, Aam Aadmi Party, AAP chief, Sumit Agrawal, Kejriwal new shoes, Rashtrapati Bhavan, French President, Fancois Hollande, arvind kejriwal latest news, news in hindi सुमित अग्रवाल ने अरविंद केजरीवाल को डीडी भेजकर लिखा है कि वह इस पैसे से काले जूते खरीद लें। Visakhapatnam engineer, open letter to Arvind Kejriwal, demand draft, DD, Kejriwal Rs 364, Aam Aadmi Party, AAP chief, Sumit Agrawal, Kejriwal new shoes, Rashtrapati Bhavan, French President, Fancois Hollande, arvind kejriwal latest news, news in hindi सुमित अग्रवाल ने अपने फेसबुक अकाउंट पर राष्‍ट्रपति भवन की ओर से भेजे गए निमंत्रण पत्र की फोटो पोस्‍ट की है, जिसमें ड्रेस कोड के बारे में लिखा गया है। Visakhapatnam engineer, open letter to Arvind Kejriwal, demand draft, DD, Kejriwal Rs 364, Aam Aadmi Party, AAP chief, Sumit Agrawal, Kejriwal new shoes, Rashtrapati Bhavan, French President, Fancois Hollande, arvind kejriwal latest news, news in hindi सुमित अग्रवाल ने स्‍पीड पोस्‍ट से भेजा अरविंद केजरीवाल को 364 रुपए का डीडी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    Babubhai
    Feb 4, 2016 at 6:51 pm
    Me rajkumae or ramswarup se sahmat hoo.mukesh be accha nahi likha.
    (0)(0)
    Reply
    1. A
      aapiya
      Feb 6, 2016 at 9:06 am
      इसके घर में पानी नहीं आये तो बीजेपी को दोष......इसको दस्त लगे तो बीजेपी दोष दे ये khujarilal
      (0)(1)
      Reply
      1. A
        aapiya
        Feb 6, 2016 at 9:04 am
        गांधी के baccbe विदेश में नही पड़ते the
        (0)(0)
        Reply
        1. Amar Sachan
          Feb 5, 2016 at 5:28 am
          महात्‍मा गांधी जिस तरह से केवल एकधोती पहनते थे, वैसे ही हमारे साहब सी एम श्री केजरीवाल जी चप्‍पल पहनते हैं। पहनना और खाना मानव का मूल संवैधानिक अधिकार है।
          (1)(1)
          Reply
          1. D
            Dinesh Singh
            Feb 4, 2016 at 1:46 pm
            Nice to see you sending money for the shoes. But its hypocritical of leaders wearing designer shoes and flying high when your half of the potion cant even eat Daal and roti properly. No shame in leader wearing what a aam aadmi is wearing. But its real shame that such a wealthy nation where an industrialist lives in 2.2 billion dollar home, but hundreds of thousands sleep in drain pipes as their homes in the same city. Will you do something for them Mr. Agarwal? or is it to gather some 15 मं
            (1)(0)
            Reply
            1. R
              ritesh
              Feb 5, 2016 at 6:01 am
              गांधी २ लाख प्रति माह सैलरी नही लेते थे !!! तब देश गुलाम था !! अब देश के राजय के प्रितिनिधि का पहनावा देश की शान बताता है I तोह भाई ने ३०० रुपए ही भेजे है कोण से ३००० हज़ार भेजे है !!
              (0)(1)
              Reply
              1. Kanwar Lal Kamboj
                Feb 6, 2016 at 4:58 am
                में मोदी जी को १० lac सूट के लिए दू तो क्या खबर बनेगी? नहीं न
                (0)(0)
                Reply
                1. Mukesh Gairola
                  Feb 4, 2016 at 4:05 pm
                  इस नालयक बाप के औलाद को ये पता नहीं है की महंगे पहनावा से आदमी बारे नहीं हो जाता ......केजरीवाल जी हाई कुआलिफ़िएड आई आई टी होल्डर और आई आर एस हैं ..................इसका मतलब महात्मा गांधी जी धोती मैं रहते थे...........तो वो महान नहीं हैं और वो ........तो फिर राट्रपति और प्रधानमंत्री उनके लिए शिर kuan झुकाते हैं ..मैं केजरीवाल जी की तुलना गांधी जी से नहीं कर रहा हूँ ...पर कोई सादगी से रहता है तो ..सुमित अग्रवाल को कौं दर्द हो रहा है .........नालायक इंशान
                  (0)(1)
                  Reply
                  1. H
                    hari
                    Feb 4, 2016 at 5:00 pm
                    काम बोल..तुजे काया कोई प्रॉब्लम है काया....
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. गजेन्र्द
                      Feb 5, 2016 at 4:02 pm
                      नालायक सुमित नहि नालायक आप है हर चिज कि अपनि एक गरिमा होति है रहि बात जुते पहहनने कि तो क्या केजरिवाल जि कभि जुते नहि पहने हैं या सादगि का मतलब दिखावा होता है सादगि अच्छि है पर दिखावा नहि।
                      (0)(1)
                      Reply
                      1. R
                        ritesh
                        Feb 5, 2016 at 5:59 am
                        गांधी २ लाख प्रति माह सैलरी नही लेते थे !!! तब देश गुलाम था !! अब देश के प्रितिनिधि का पहनावा देश की शान बताता है , आप या आपका बेटा क्या चपल पहन कर स्कूल या ऑफिस जाता है ???
                        (0)(0)
                        Reply
                      2. r
                        r.n.yadav
                        Feb 4, 2016 at 2:53 pm
                        भाई कपङो और जूतो से हर चीज तय नही होती
                        (1)(0)
                        Reply
                        1. R
                          ritesh
                          Feb 5, 2016 at 6:05 am
                          होती है, ये दोगला है !! २ लाख रूपए सैलरी ले रहे हो तो किउन राजय की इज्जत मिटटी में मिला रहे हो !!! महात्मा गांधी गुलाम देश का एक स्वयंसेवक क्रन्तिकारी था ,कुल सम्पति शून्य थी , सक्रीय राजनीती में नही था , आय शून्य थी !! केजरीवाल ड्रामा करने के लिए ऐसा करता है !!! समजो इस बात को मेरे भाई !
                          (0)(0)
                          Reply
                        2. P
                          pooran Singh
                          Feb 6, 2016 at 11:49 am
                          भाई अपने पी एम साहब को भी दस लाख का चैक भेज दे। वह भी ओबामा से मिले थे सैंडल पहनकर।
                          (1)(0)
                          Reply
                          1. R
                            raj kumar
                            Feb 4, 2016 at 12:21 pm
                            आम आदमी पार्टी की नक़ली सादगी शीला दिक्सित सरकार के २६ करोड़ के विज्ञापन बजट को ५२६ करोड़ कर दिया जगह जगह अपना विज्ञापन कर रहे हे साल भर सिर्फ विज्ञापन ही करते आ रहे हे काम कुछ भी नहीं सरे प्रोजेक्ट रुके पड़े हे रेडिओ फम और टीवी पर सिर्फ अपना प्रचार करते हैं दिल्ली संभालती नहीं और जगह मुह मारने की कोशिश कर रहे हैं
                            (2)(2)
                            Reply
                            1. Ravi Yadav
                              Feb 4, 2016 at 6:09 pm
                              The invitation letter is of year 2002 when K R Narayanan was president... Please check so rest is all fake...
                              (0)(0)
                              Reply
                              1. A
                                Abhinandan
                                Feb 5, 2016 at 2:58 am
                                भाई पुराना इन्विटेसन लैटर ये बताने के लिए है की उसपे ड्रेस कोड लिखा होता है। तो इनके वाले पे भी लिखा होगा। हर चीज को फट से फेक ्लेअर कर दो बस एक पल में।
                                (0)(0)
                                Reply
                              2. R
                                RAM SARUP
                                Feb 4, 2016 at 12:45 pm
                                I am very much agree with Raj Kumar, Sh kejriwal is very much bussy in fighting with Cetre , specially with PM & LG and done nothing for Delhi, No body will say this is a Aam Pary, Look the Facilities He & his MLA are availing I think there no need of telling , everybody knows his working,
                                (1)(2)
                                Reply
                                1. B
                                  babbar
                                  Feb 5, 2016 at 6:17 am
                                  kejriwal jaisa hai waise hi uske supporter hai....desk hi ijjat ka khayal hi nahi....publicity ke chakkar me ye log bhi marwa sakte hai......shame of him...!!
                                  (0)(1)
                                  Reply
                                  1. B
                                    babbar
                                    Feb 5, 2016 at 6:25 am
                                    मुकेश जी पुराने टाइम की बातें न करें.गांधी जी ने वस्त्रो और विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया हुआ था यही कारण था की वो खादी वस्त्र पहनते थे .मुझे लगता है की आप अरविन्द केजरीवाल जैसे ढोंगी की तुलना गांधी जी से करके उनका और एक देश भगत का अपमान कर रहे है !
                                    (0)(1)
                                    Reply
                                    1. Load More Comments
                                    सबरंग