ताज़ा खबर
 

खुदकुशी पर केजरीवाल ने मांगी माफ़ी

बुधवार को आप की रैली के दौरान राजस्थान के किसान गजेंद्र सिंह की खुदकुशी के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने समारोह स्थगित नहीं करने के लिए आज माफी मांगी और स्वीकार किया...
Author April 25, 2015 08:35 am
केजरीवाल ने माना कि इस त्रासदी के बाद भी भाषण जारी रखना एक भूल थी, पुलिस से सहयोग को तैयार। (फ़ोटो-पीटीआई)

बुधवार को आप की रैली के दौरान राजस्थान के किसान गजेंद्र सिंह की खुदकुशी के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने समारोह स्थगित नहीं करने के लिए आज माफी मांगी और स्वीकार किया कि भाषण जारी रखना एक ‘भूल’ थी। इस मुद्दे पर चौतरफा आलोचना का सामना कर रहे आप प्रमुख ने मीडिया और विपक्षी पार्टियों की भी निंदा की और कहा कि किसानों की दुर्दशा को लेकर बहस ‘वास्तविक मुद्दे’ से भटक गई है। विवादास्पद विधेयक के खिलाफ आप की रैली में हुई घटना के बाद का जिक्र करते हुए केजरीवाल ने कहा कि मैं कहता हूं कि यह घटना दिल्ली के मुख्यमंत्री के सामने हुई। मैं पूरी रात सो नहीं पाया।

केजरीवाल ने कहा कि मैं एक घंटा लंबा भाषण देने वाला था लेकिन मैंने 10-15 मिनट में भाषण समाप्त किया। मुझे लगता है कि यह मेरी गलती थी। संभवत: मुझे नहीं बोलना चाहिए था। अगर किसी की संवेदनाओें को ठेस लगी है तो मैं माफी चाहता हूं। उन्होंने कहा- मैं दोषी हूं, मुझे दोष दो, मुझे लगता है कि रैली रोक देनी चाहिए थी। पर कृपया किसानों के वास्तविक मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करें और राजनीति नहीं करें। जो कोई भी दोषी हो उसे फांसी दे दो लेकिन बहस इस पर केंद्रित होनी चाहिए कि किसान खुदकुशी क्यों कर रहे हैं।

घटना की जांच पर दिल्ली पुलिस के साथ उनकी सरकार के टकराव को ज्यादा अहमियत नहीं देते हुए केजरीवाल ने कहा कि अगर जरूरत हुई तो वे पुलिस के समक्ष अपना बयान देने के लिए भी तैयार हैं। उन्होंने कहा कि जिला मजिस्ट्रेट का अधिकार क्षेत्र सीआरपीसी के तहत जांच करने का है और पुलिस एफआइआर के आधार पर आपराधिक जांच करती हैऔर अगर पुलिस उन्हें बुलाती है तो वे अपना बयान दर्ज कराने जाएंगे।

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने केजरीवाल को याद दिलाया कि जब वह ‘धरना की राजनीति’ कर रहे थे, उस समय वे विपक्ष में नहीं थे। उन्होंने कहा कि दोषारोपण के बजाय एक मुख्यमंत्री के तौर पर उनका बयान अधिक जिम्मेदारी वाला होना चाहिए। किसी की खुदकुशी या मौत पर राजनीति करना सही नहीं है। आप नेताओं के दिल्ली पुलिस पर तीखा हमला किए जाने के एक दिन बाद केजरीवाल ने अपने लहजे में नरमी लाते हुए कहा कि रैली में मंच से लगातार अनुरोध करने पर भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की।

केजरीवाल अपनी पार्टी के इस रुख में भी नरमी लाए कि रैली स्थल पर पुलिसकर्मी दुखद घटना के मूकदर्शक थे और उन्होंने किसान को बचाने की कोई कोशिश नहीं की। उन्होंने कहा कि हमें यह नहीं कहना चाहिए कि सभी पुलिस वाले बुरे हैं। एक-दूसरे पर आरोप नहीं लगाना चाहिए। मेरा मानना है कि अगर पुलिस को जरा सा भी आभास होता तो वह उसे बचाने का प्रयास करती। उन्होंने वाकई में ऐसा नहीं सोचा होगा कि वहां इस तरह की घटना होगी।

केजरीवाल ने उन्होंने कहा कि पिछले दो दिनों से जो कुछ भी हो रहा है वह सही नहीं है। इस मुद्दे को टुकड़ों में न बांटे। इससे आपको टीआरपी मिल जाएगी लेकिन किसानों को इससे कुछ नहीं मिलेगा। केजरीवाल ने कहा कि मैंने मुआवजे के रूप में जो राशि घोषित की है उससे दिल्ली के किसान खुश हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग