ताज़ा खबर
 

इन 5 मौके पर हुई थी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और LG नजीब के बीच ‘जंग’

एक तरफ केजरीवाल उन पर केंद्र के इशारों पर काम करने का आरोप लगाते थे तो दूसरी ओर नजीब जंग अपने संवैधानिक अधिकारों के तहत काम करने की बात कहते थे।
नजीब जंग और अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पद से इस्तीफा दे चुके नजीब जंग के बीच तनातनी की बात किसी से छिपी नहीं है। एक तरफ केजरीवाल उन पर केंद्र के इशारों पर काम करने का आरोप लगाते थे तो दूसरी ओर नजीब जंग अपने संवैधानिक अधिकारों के तहत काम करने की बात कहते थे। आइए आपको बताते हैं एेसे कुछ मुद्दे जिन पर दिल्ली सरकार और राजनिवास के बीच तनातनी साफ नजर आई

डीडीसी का गठन :  केजरीवाल और जंग के बीच कड़वाहट उस वक्त नजर आई जब दिल्ली महिला आयोग में आईएएस दिलराज कौर की नियुक्ति मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा निरस्त करने के एक दिन बाद ही उपराज्यपाल निवास ने दिल्ली डायलॉग कमीशन (डीडीसी) के गठन से जुड़ी फाइलें की जांच कराने के संकेत दे दिए थे। उपराज्यपाल नजीब जंग ने डीडीसी के गठन से संबंधित फाइल गत 8 दिसंबर को मंगा ली थी। इसके अलावा डीडीसी की गतिविधि और उपयोगिता व अभी तक के खर्च से संबंधित आंकड़े उपलब्ध कराने के लिए कहा गया था।

नियुक्तियों पर बवाल ः अगस्त में जब हाई कोर्ट ने कहा कि नजीब जंग दिल्ली के प्रशासनिक प्रमुख हैं तो दिल्ली सरकार को बड़ा झटका लगा। इसके बाद उपराज्यपाल सचिवालय ने दिल्ली सरकार से वो सभी फाइलें मंगवा ली थीं, जिन पर पिछले डेढ़ साल में फैसला लिया गया था। इनमें से कई फैसले ऐसे थे, जिन पर उपराज्यपाल की मंजूरी लेनी जरूरी थी, लेकिन सरकार ने विवाद के चलते वो फाइल उपराज्यपाल के पास भेजनी जरूरी नहीं समझीं थीं।  इन फैसलों में कई तरह की नियुक्तियां भी शामिल थीं, जो बिना उपराज्यपाल की अनुमति के दिल्ली सरकार में की गईं थीं। इसको लेकर दोनों में दूरियां और बढ़ गईं।

भ्रष्टाचार का आरोप ः जून में बुराड़ी में एक राशन की दुकान का निलंबित लाइसेंस बहाल करने के मामले में दिल्ली सरकार ने उप-राज्यपाल नजीब जंग को निशाने पर ले लिया था। दिल्ली सरकार का आरोप था कि लेफ्टिनेंट गवर्नर ने पद का दुरुपयोग करते हुए लाइसेंस बहाल किया और नियमों की अनदेखी की गई। इसको लेकर दिल्ली विधानसभा में मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिए नौ सदस्यीय कमिटी के गठन का प्रस्ताव पास किया गया था।

प्रीमियम बस योजना ः जंग और केजरीवाल के बीच तल्खी उस वक्त भी दिखी थी जब नजीब जंग ने दिल्ली सरकार की प्रीमियम बस योजना और बस लेन में पार्किंग पर जुर्माना मामले में आपत्ति दर्ज कराई थी। दिल्ली कैबिनेट ने दोनों मामले में जवाब भेजने का फैसला किया था। अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर उपराज्यपाल और मोदी सरकार पर दिल्ली सरकार की हर फाइल पर बाधा डालने का आरोप लगाया था।

केजरीवाल के बेबाक आरोप ः अरविंद केजरीवाल ने कई मौकों पर ऩजीब जंग पर सीधे आरोप लगाए थे। उन्होंने नजीब जंग को हिटलर तक कहा। इसके अलावा केजरीवाल ने ट्वीट कर यह भी कहा था कि आप (नजीब जंग) पीएम मोदी के कहने पर कितना भी असंवैधानिक, गैर कानूनी काम कर लें, मोदी कभी आपको उपराष्ट्रपति नहीं बनाएंगे।”

दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने दिया अपने पद से इस्तीफा; फैसले के पीछे कारण नहीं है केजरीवाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.