ताज़ा खबर
 

GST बिल पास होने पर अरुण जेटली ने दफ्तर में की पार्टी, विपक्षी नेताओं ने भी लिया राजस्थानी खाना का मजा

संसद में जीएसटी बिल पास होने के बाद सांसदों ने खुशियां मनाईं। इसके लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली के ऑफिस में पार्टी रखी गई।
वित्त मंत्री अरुण जेटली। (फाइल फोटो)

संसद में जीएसटी बिल पास होने के बाद सांसदों ने खुशियां मनाई हैं। इसके लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली के ऑफिस में पार्टी रखी गई और पार्टी में बीजेपी के अलावा विपक्षी पार्टी के लोग भी शामिल हुए। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, पार्टी में जेटली के सहयोगी रविशंकर प्रसाद, अनंत कुमार, निर्मला सीतारमण और हरसिमरत कौर मौजूद थीं। इसके साथ ही कांग्रेस के आनंद शर्मा, सपा के रामगोपाल यादव, एनसीपी के प्रभुल्ल पटेल, SAD के नरेश गुजराल भी वहां थे। गृह सचिव राजीव महऋषि और राजस्थान कैडर के आईएएस ऑफिसर भी वहां मौजूद थे।

था राजस्थानी खाना: इस पार्टी में राजस्थानी खाना मंगवाया गया था। जिसमें पापड़ खंटिया सब्जी, पकोड़ा कडही, मसाला रोटी, खिचड़ी, धनिया पूरी शामिल थे। इसके अलावा पांच तरह के मिठाई भी थी।

जीएसपी बिल मई 2015 में लोकसभा से पास हो गया था। जिसके बाद भी इसे पिछले हफ्ते राज्यसभा भेजा गया था, वहां से पास होने के बाद 8 अगस्त को संशोधित बिल को लोकसभा में फिर से पेश किया गया। लोकसभा में सर्वसम्मति से बिल पास हो गया है। संविधान संशोधन बिल होने के कारण इसे 15 राज्यों के विधानसभा में मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। तत्पश्चात राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह बिल कानून बनेगा।

Read Also: खड़गे का PM मोदी से सवाल, जब UPA सत्ता में थी तो क्यों किया था GST बिल का विरोध

जहां तक जीएसटी के सकारात्मक पक्ष का सवाल है, विदेशी निवेशकों को अब यहां निवेश करने में अड़चनें कम होंगी। इससे टैक्स चोरी पर भी अंकुश लगेगा। तभी तो मूडीज और फिच जैसी अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजंसियों से लेकर फिक्की, एसोचैम, सीआइआइ और पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स जैसे तमाम बड़े देसी व्यवसायिक संगठन जश्न मना रहे हैं। सरकार ने भी दावा किया है कि कुछेक चीजों को छोड़ कर ज्यादातर चीजों की कीमतों में कमी ही आएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    Sidheswar Misra
    Aug 10, 2016 at 4:32 am
    कार्यकर्त्ता लड़ते रहे नेता मिल कर मजे लुटे रहे . लोकतंत्र की यही खासियत होती है .पहले दंगा करने की ट्रेनिग दी अब कहते असामाजिक तत्व है
    Reply
सबरंग