December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

”अरनब गोस्वामी को मोदी सरकार से नहीं मिली Y श्रेणी की सिक्योरिटी”

अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी को Y श्रेणी की सुरक्षा नहीं दी गई है। यह बात अरनब के एक करीबी दोस्त ने बताई।

अरनब गोस्वामी टीवी चैनल टाइम्स नाउ के एडिटर-इन-चीफ हैं।

अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी को Y श्रेणी की सुरक्षा नहीं दी गई है। यह बात अरनब के एक करीबी दोस्त ने बताई। बता दें कि बीते दिनों खबर आई थी  आतंकियों द्वारा अरनब को धमकी मिलने के बाद सरकार ने उन्हें Y श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करने का फैसला किया था। रैडिफ डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक गोस्वामी के हवाले से बोलते हुए उनके मित्र ने कहा कि अरनब को इस बात की जानकारी नहीं है कि यह खबर कहा से आई कि उन्हें सिक्योरिटी दी गई है। उन्होंने बताया कि करीब एक हफ्ते पहले एक दैनिक समाचार पत्र की ओर से इस संबंध में फोन और कॉल्स की गई थी, जिसे नहीं उठाया गया। जिसके बाद कई अखबारों और न्यूज वेबसाइट्स ने यह रिपोर्ट आ गई। सुरक्षा को लेकर उनके दोस्त ने कहा कि अरनब को किसी भी तरह की सिक्योरिटी, Y, Z कुछ भी नहीं दी गई है। सुरक्षा को ध्यान रखते हुए उनके पास प्राइवेट सिक्योरिटी है, बस और कुछ नहीं। आगे उन्होंने कहा कि न तो सरकार अरनब को सिक्योरिटी देने के लिए आगे आई और न ही उन्होंने सरकार से किसी तरह की सिक्योरिटी की मांग की है।

वीडियो: एलओसी पर सुरक्षा स्थिति का जायज़ा लेने के लिए पीएम मोदी ने तत्काल मीटिंग बुलाई

गौरतलब है कि एक अंग्रेजी अखबार अपनी रिपोर्ट में गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के हवाले से लिखा था कि आईबी की सिफारिश के आधार पर गोस्वामी को धमकी मिलने के बाद सुरक्षा दी जा रही है। उन्हें पाकिस्तानी आतंकियों की तरफ से धमकी मिली थी। उन्हें यह धमकी टाइम्स नाउ पर उन पर की गई टिप्पणी के बाद मिली है।’ गृह मंत्रालय इसे बारे में महाराष्ट्र पुलिस से कहेगी, क्योंकि गोस्वामी मुंबई में रहते हैं। इस कैटेगरी के तहत गोस्वामी की सुरक्षा में 24 घंटे दो पर्सनल सिक्यूरिटी ऑफिसर सहित 20 सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे। सरकार दो तरह की सुरक्षा प्रदान करती है। एक सुरक्षा पद के आधार पर दी जाती है, वहीं दूसरी धमकी के आधार पर प्रदान की जाती है। पद के आधार पर मिलने वाली सुरक्षा किसी पद पर तैनात व्यक्ति को उसके पद के आधार पर दी जाती है। इसमें कैबिनेट मंत्री और सुप्रीम कोर्ट के जज शामिल हैं। वहीं दूसरी कैटेगरी में किसी को मिली धमकी के आधार पर दी जाती है, इसकी सिफारिश आईबी करती है।

READ ALSO: …तो रिलायंस Jio मार्च 2017 तक के लिए बढ़ा सकती है फ्री ‘वेलकम ऑफर’

कई पत्रकार हैं जिन्हें केंद्र सरकार की ओर से सुरक्षा मुहैया कराई गई है। जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी को एक्स कैटेगरी के तहत, समाचार प्लस के उमेश कुमार को वाई कैटेगरी के तहत और पंजाब केसरी के अश्विनी चोपड़ा को जेड प्लस सुरक्षा मिली हुई है। चोपड़ा लोकसभा सांसद हैं और तीन दशक पहले उनके पिता और दादा की आतंकियों ने हत्या कर दी थी। इसके बाद उन्हें यह सुरक्षा दी गई थी।

READ ALSO: 2 करोड़ में वर्जिनिटी बेच रही लड़की, कहा- परिवार के खातिर कर रही हूं सबकुछ

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 12:15 pm

सबरंग