ताज़ा खबर
 

बाल बेचकर तिरुपति मंदिर को दो महीने में हुई 17 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई

मंदिर प्रशासन ने इस वर्ष 39.32 लाख लीटर टोंड दूध खरीदने का निर्णय लिया है। ये दूध मंदिर में दर्शन करने आए श्रद्धालुओं के दूधपीते बच्चों को पीने के लिए मुफ्त दिया जाएगा।
तिरुपति बालाजी की फाइल फोटो (Express photo by Dilip Kagda)

आंध्र प्रदेश स्थित तिरुपति वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर में जुलाई और अगस्त में भक्तों चढ़ाए गए बालों को बेचने से मंदिर को 17.82 करोड़ रुपये की आय हुई है। बालाजी मंदिर के नाम से भी जाने जाने वाले इस मंदिर में जुलाई में चढ़ाए गए बालों को 11.88 करोड़ रुपये में बेचा गया। वहीं अगस्त में 5.94 करोड़ रुपये के बाल चढ़ावे के रूप में चढ़ाए गए। ये जानकारी मंदिर का प्रबंधन करने वाले तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) ने मीडिया को दी। देश के सर्वाधिक प्राचीन मंदिरों में गिने जाने वाले इस मंदिर में हर साल लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। तिरुपति बालाजी को विष्णु का अवतार माना जाता है।

टीटीडी बोर्ड के मासिक बैठक के बाद चेयरमैन चाडलवडा कृष्णमूर्ति और कार्यकारी अधिकारी डॉक्टर डी संबाशिव राव ने पत्रकारों को बताया कि मंदिर प्रशासन ने इस वर्ष 39.32 लाख लीटर टोंड दूध खरीदने का निर्णय लिया है। ये दूध मंदिर में दर्शन करने आए श्रद्धालुओं के दूधपीते बच्चों को पीने के लिए मुफ्त दिया जाएगा। मंदिर प्रशासन को अनुमान है कि इसके लिए उसे करीब 11.28 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे।

मंदिर प्रशासन ने हरियाणा के करनाल मिल्क फूड्स लिमिटेड से 376 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से 2.25 लाख किलोग्राम गाय का घी खरीदने का भी फैसला लिया है। इस घी का उपयोग मंदिर में प्रसाद के तौर पर दिए जाने वाले “तिरुपति लड्डू” बनाने में किया जाएगा। ये बज़ट अगले छह महीने के लिए निर्धारित किया गया है। टीटीडी के जनसंपर्क अधिकारी डॉक्टर तलारी रवि ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि साल 2016-17 में बालों को बेचने से करीब 150 करोड़ रुपये की आय होने की उम्मीद है। मंदिर का 2016-17 के लिए सालाना बज़ट 2678 करोड़ रुपये का है।  मंदिर में हर साल करीब एक करोड़ श्रद्धालु आते हैं जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल होते हैं। श्रद्धालु अपनी मन्नतें पूरी होने के बाद मंदिर में प्रवेश से पहले श्रद्धा के तौर पर अपने बाल चढ़ाते हैं। माना जाता है कि तिरुपति बालाजी मंदिर करीब दो हजार साल पुराना है।

Read Also:8 नवंबर से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण शुरू करने की घोषणाः हिंदु महासभा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.