ताज़ा खबर
 

राजस्थान के मंत्रियों को Good Governmence का पाठ पढ़ाएंगे शाह

भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने राजस्थान में पार्टी की सरकार में सुधार की कवायद तेज कर दी है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जल्द ही यहां मंत्रियों की क्लास के साथ उन्हें सुशासन के लिए प्रशिक्षण भी देंगे।

भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने राजस्थान में पार्टी की सरकार में सुधार की कवायद तेज कर दी है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जल्द ही यहां मंत्रियों की क्लास के साथ उन्हें सुशासन के लिए प्रशिक्षण भी देंगे। प्रदेश में भाजपा सरकार आगामी 13 दिसंबर को दो साल पूरा कर रही है। इसके बाद ही प्रदेश के मंत्रियों के कामकाज का लेखा-जोखा केंद्रीय नेतृत्व नापेगा।
राज्य में भाजपा सरकार के दो साल पूरे होने के बाद अब मंत्रियों के कामकाज का आकलन होगा। इसके लिए प्रदेश भाजपा ने 15 और 16 दिसंबर को यहां मंत्रियों की कार्यशाला का प्रस्ताव केंद्रीय नेतृत्व को भेजा है। इसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को बुलाया गया है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय नेतृत्व के निर्देशों के तहत ही मंत्रियों की दो दिन की कार्यशाला प्रस्तावित है। प्रदेश की तरफ से 15 और 16 दिसंबर की तारीख इसके लिए केंद्रीय नेतृत्व को भेजी गई है। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मंजूरी मिलने के बाद इसे अंतिम रूप दिया जाएगा। इससे पहले 13 दिसंबर को जयपुर में सरकार के दो साल पूरे होने के मौके पर भी प्रदेश भाजपा बड़ा अयोजन कर रही है। इसमें भी शाह को बुलाया गया है। प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी अभी भरतपुर जिले में शहरी निकायों के चुनाव में व्यस्त है। पार्टी में सरकार की दूसरी सालगिरह मनाने की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। इस कार्यक्रम में प्रदेश भर से करीब तीन लाख कार्यकर्ताओं के आने का अनुमान है।

प्रदेश भाजपा के मुताबिक, मंत्रियों की प्र्रस्तावित कार्यशाला को लेकर भी संगठन ने तैयारी कर ली है। केंद्रीय नेतृत्व से मंजूरी मिलने के बाद मंत्रियों को इस कार्यशाला में मौजूद रहना जरूरी है। इसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मंत्रियों से सीधा संवाद करेंगे। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी की मौजूदगी में होने वाली इस कार्यशाला के लिए मंत्रियों ने अपने विभागों के अब तक के कामकाज खंगालना शुरू कर दिया है। इसके साथ ही आने वाले तीन साल के प्रस्तावित कामकाज की रूपरेखा तैयार की जा रही है।

सूत्रों का कहना है कि मंत्रियों से जनता के हित में बनाई गई योजनाओं और उनके नतीजों की जानकारी ली जाएगी। सरकार की तरफ से दो साल में किए गए कामों और सुधारों के बारे में भी मंत्रियों को बताना होगा। भाजपा सूत्रों का कहना है कि राष्ट्रीय नेतृत्व को मंत्रियों की कार्यशैली को लेकर कई शिकायतें मिल रही हैं। इनमें कार्यकर्ताओं को तवज्जो नहीं देने और जनहित के कामों पर तेज गति से काम नहीं होना प्रमुख है। पार्टी के जमीनी कार्यकर्ताओं की शिकायत है कि सरकार के अच्छे कामों का भी जनता पर असर नहीं हो रहा है।

जनता के हित की कोई बड़ी योजना की शुरुआत नहीं होने से सरकार की छवि बिगड़ रही है। प्रदेश में ज्यादातर मंत्रियों के मूल भाजपाई नहीं होने से विचारधारा से जुड़े कार्यकर्ताओं को अनदेखी का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा प्रदेश में सरकारी निगम, बोर्ड और आयोगों में तैनाती नहीं होने से कार्यकर्ताओं में मायूसी पनपने लग गई है। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पिछले दौरे के दौरान भी संघ के प्रदेश पदाधिकारियों ने मंत्रियों के कामकाज के तरीकों को लेकर शिकायतें की थीं। उस समय शाह ने सुधार का भरोसा दिया था। मंत्रियों की कार्यशाला में इस मुद्दे के उठने के आसार भी हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग