January 24, 2017

ताज़ा खबर

 

दलाली के बयान पर दंगल, अमित शाह बोले- राहुल ने किया जवानों का अपमान, जनता की अदालत जाएंगे

भाजपा अध्यक्ष ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी प्रहार किया और कहा कि वे ‘भारत विरोधी’ नेताओं में शामिल हैं।

Author नई दिल्ली | October 8, 2016 03:08 am
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह। (फाइल फोटो)

नियंत्रण रेखा के पार लक्षित हमले के मुद्दे को लोगों के बीच ले जाने पर जोर देते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ‘दलाली’ शब्द का इस्तेमाल करने वाले राहुल गांधी पर शुक्रवार को करारा प्रहार किया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने ‘सभी सीमाएं लांघ’ दी हैं जो सशस्त्र बलों की वीरता का ‘अपमान’ है। शाह ने कहा कि कांग्रेस लक्षित हमलों पर लोगों के उत्साह में शामिल होने की बजाए पाकिस्तान के दर्द को बयां करने में लगी है। लक्षित हमलों की प्रामाणिकता पर सवाल खड़े करने वालों को ‘भारत विरोधी’ नेता करार देते हुए शाह ने कहा कि पूरा देश, भाजपा और उसकी सरकार सेना के साथ खड़ी है। हम भारत विरोधी नेताओं की टिप्पणियों पर यकीन नहीं करते। हम सेना की गोलियों पर यकीन करते हैं। शाह ने कहा कि लक्षित हमलों का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए लेकिन स्पष्ट किया कि इस मुद्दे पर ‘सेना का मनोबल उठाने’ के लिए भाजपा जनता के बीच जाएगी।

भाजपा अध्यक्ष ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी प्रहार किया और कहा कि वे उन ‘भारत विरोधी’ नेताओं में शामिल हैं जिन्होंने सेना की कार्रवाई पर सबसे पहले सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में हैशटैग ‘पाकस्टैंडविदकेजरीवाल’ ट्रेंड कर रहा है। यह अपने आप में स्पष्ट करता है कि उनके बयानों से किसको फायदा हो रहा है।
भाजपा अध्यक्ष शाह ने कांग्रेस उपाध्यक्ष के बयान के बाद पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक पर सार्वजनिक बयान दिया और खुल कर पत्रकारों के सवालों के  जवाब दिए। उनका कहना था कि केंद्र सरकार का इस पर किसी भी तरह से राजनीति करने का इरादा नहीं था। इसीलिए इस कारवाई का ब्योरा रक्षा मंत्री के बजाय सेना ने मीडिया को दिया। कांग्रेस उपाध्यक्ष के सैनिकों के लिए दलाली शब्द का प्रयोग करने को ‘काफी दुर्भाग्यपूर्ण’ करार देते हुए उन्होंने चुटकी ली कि यह कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है क्योंकि यह शब्द विपक्षी दल का पर्यायवाची है जिनके नेता हजारों करोड़ रुपए के कई घोटालों में संलिप्त रहे। दलाली शब्द केवल कांग्रेस तक ही सीमित है। शाह ने कहा कि राहुल के बयान से लोग ‘गुस्से’ में हैं और सेना का मनोबल गिरा है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि राहुल के दिमाग में ‘दलाली’ शब्द इसलिए आया क्योंकि उनकी पार्टी की सरकार ने बोफोर्स, एम्ब्रायर, 2जी और कोयला ब्लॉक आबंटन करारों में ‘दलाली’ की, लेकिन हमलों के मामले में ऐसा शब्द इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था। भाजपा पर इन हमलों का राजनीतिक इस्तेमाल करने का आरोप लगने पर शाह ने कहा कि पार्टी के किसी भी शीर्ष नेता ने कोई बयान नहीं दिया और रक्षा मंत्री ने नहीं बल्कि डीजीएमओ ने प्रेस कांफ्रेंस कर सेना की ओर से किए गए हमलों का एलान किया।  शाह ने कांग्रेस नेताओं के इस दावे को भी खारिज कर दिया कि लक्षित हमले पहले भी हुए हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार सैनिकों ने आतंकवादियों के अड्डों को नष्ट करने के लिए नियंत्रण रेखा पार की है। भाजपा अध्यक्ष ने दावा किया कि थलसेना के पूर्व अधिकारियों ने कहा है कि ऐसा पहले कभी नहीं हुआ।

भाजपा नेताओं के बयानबाजी और प्रधानमंत्री की इसके लिए मनाही के सवाल पर उन्होंने कहा कि देश की जनता सेना की कारवाई से खुश है, भाजपा के कार्यकर्ता भी उसी तरह खुश हैं जिले स्तर पर कहीं पोस्टर आदि लगे लेकिन बड़े पैमाने पर भाजपा ने कुछ नहीं किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इसी पर ध्यान दिलाया था। कांग्रेस को अपने गिरेबां में झांकना चाहिए। 1971 की लड़ाई के बाद हुई बयानबाजी से अभी की तुलना करनी चाहिए। दिल्ली से उत्तर प्रदेश के देवरिया तक मार्च के दौरान राहुल गांधी के कार्यक्रमों की सफलता पर पूछे गए सवाल पर अमित शाह ने कांग्रेस उपाध्यक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें किसानों के लिए ‘आलू की फैक्टरी’ पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए क्योंकि खेती की उनकी समझ वहीं तक सीमित है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 8, 2016 3:08 am

सबरंग