ताज़ा खबर
 

आमिर खान का पलटवार- जिस फूहड़ तरीके से लोग मुझ पर चिल्‍ला रहे हैं, उससे मेरी बात सही साबित होती है

देश में कथित तौर पर असहिष्‍णुता बढ़ने को लेकर दिए गए एक बयान पर एक्‍टर आमिर खान ने सफाई दी है।
Author नई दिल्‍ली | May 8, 2017 15:03 pm
आमिर खान ने पिछले साल नवबंर में रामनाथ गोयनका अवॉर्ड में दिया था असहिष्‍णुता पर बयान। उसके बाद से उठा विवाद अभी तक शांत नहीं हुआ है।

देश में कथित तौर पर असहिष्‍णुता बढ़ने को लेकर दिए गए एक बयान पर एक्‍टर आमिर खान ने सफाई दी है। उनका कहना है कि उन्‍हें भारतीय होने पर गर्व है और वे देश नहीं छोड़ने जा रहे। आमिर ने मीडिया में बयान जारी करके अपनी बात कही है।

क्‍या है आमिर का बयान?

सब से पहले मैं एक बात साफ करना चाहूंगा। न मेरा, न मेरी पत्‍नी का कोई इरादा है ये देश छोड़ने का। न हमारा ऐसा कोई इरादा था, न है और न रहेगा। जो  कोई भी ऐसी बात फैलाने की कोशिश कर रहा है, उसने या तो मेरा इंटरव्‍यू नहीं देखा, या जानबूझकर गलतफहमी फैलाना चाह रहा है। भारत मेरा देश है, मैं उससे बेइंतिहा प्‍यार करता हूं और यही मेरी सरजमीं है।

दूसरी बात, इंटरव्‍यू के दौरान जो भी मैंने कहा है, मैं उस पर अटल हूं।

जो लोग मुझे देशद्रोही कह रहे हैं, उनसे मैं कहूंगा, मुझे गर्व है अपने हिंदुस्‍तानी होने पर, और इस सच्‍चाई के लिए मुझे न किसी की इजाजत की जरूरत है, और न ही किसी सर्टिफिकेट की।

जो लोग इस वक्‍त मुझे भद्दी गालियां दे रहे हैं क्‍योंकि मैंने अपने दिल की बात कही है, उनसे मैं कहना चाहूं‍गा कि मुझे बड़ा दुख है कि मेरा कहा वो सच साबित कर रहे हैं।

और, उन सारे लोगों को मैं शुक्रिया अदा करना चाहूंगा जो आज इस वक्‍त मेरे साथ खड़े हैं। हमें हमारे इस खूबसूरत और बेमिसाल देश के खूबसूरत चरित्र को सुरक्षित रखना है। हमें सुरक्षित रखना है इसकी एकता को, इसकी अखंडता को, इसकी विविधता को, इसकी सभ्‍यता और संस्कृति को, इसके इतिहास को, इसके अनेकतावाद के विचार को, इसकी विविध भाषाओं को, इसके प्‍यार को, इसकी संवेदनशीलता को और इसके जज्‍बाती ताकत को।

अंत में मैं रविंद्रनाथ टैगोर की एक कविता दोहराना चाहूंगा। कविता नहीं बल्‍कि ये एक प्रार्थना है

जहां उड़ता फिरे मन बेखौफ,
और सर हो शान से उठा हुआ,
जहां ज्ञान हो सबके लिए बेरोकटोक बिना शर्त रखे हुए,
जहां घर की चौखट सी छोटी सरहदों में न बंटा हो जहां,
जहां सच की गह‍राईयों से निकले हर बयान,
जहां बाजुएं बिना थके लकीरें कुछ मुकम्‍मल तराशें,
जहां सोच को धुंधला न पाए उदास मुर्दा रवायतें,
जहां दिलों दिमाग तलाशें नए ख्‍याल और उन्‍हें अंजाम दे,
ऐसी आजादी के स्‍वर्ग में, ऐ भगवान, मेरे वतन की हो नई सुबह।

जय हिंद

आमिर खान।

क्‍या कहा था आमिर ने? आमिर ने सोमवार शाम रामनाथ गोयनका एक्‍सीलेंस इन जर्नलिज्‍म अवॉर्ड फंक्‍शन में कहा था कि देश में छह-आठ महीने में माहौल ज्‍यादा खराब हुआ है। असुरक्षा का माहौल बढ़ा है। उन्‍होंने कहा कि अपने बच्‍चों की सुरक्षा को लेकर चिंता के मारे उनकी पत्‍नी किरण राव ने एक बार उनके सामने सवाल रखा कि क्‍या हमें भारत छोड़ कर कहीं और बसना चाहिए? आमिर ने असहिष्‍णुता बढ़ने का विरोध करते हुए लेखकों, साहित्‍यकारों, फिल्‍मकारों आदि के द्वारा अवॉर्ड लौटाए जाने को भी सही बताया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. H
    Harikesh
    Nov 26, 2015 at 12:52 pm
    देश के खिलाफ कुछ भी बोलेगा तो सुनेगे काया .. अपने काम धंदा ढक देश के लिए किया कुछ नहीं बस लिया है ,. जा भरा जा यूरोप या अमेरिका जैसे बोलेगा आमिर खान हू , खान सुनते ही कपडे उत्तर वा लेंगे तब पता चलेगा . की हिंदुस्तान काया .जिसने तुम्हे सब दिया बस फ्लिम पब्लिसिटी के लिए कुछ बोलना . जय हिन्द
    (0)(2)
    Reply
    1. N
      Nikita Akulwar
      Dec 1, 2015 at 4:19 pm
      Amir Khan is right, m with him Sachme India nhi he surak ,lekin log ye nhi dekh rahe ,agar log sachme desh bhakt he to unhehi amir ki bat samjhme ayegi varna ba logoki tara unke galat famike shikar hoke galat kam karenge
      (1)(0)
      Reply
      1. D
        Devender Kumar
        Nov 27, 2015 at 8:35 am
        सभी भारतीओं को समान हक़ है अपने मन्न की बात सबके स्पष्ट रखने का. आमिर भी एक भारतीय है, किसी बी बात के पीछे हिन्दू या मुस्लिम लगाने से बात को एक गलत दिशा दी जाती है एक गलत मतलब दिया जाता है, और ये गलत है. मै आमिर जी की इस बात से मत हूँ की उन्होंने ऐसा कुछ नई कहा जो की गलत हो. अगर कोई देश में फले गलत माहोल के लिए कुछ कहना चाहता है तो बिलकुल कह ता है.
        (2)(0)
        Reply
        1. j
          j.c.goyat
          Nov 29, 2015 at 6:31 am
          Amirji gali dein desh ko phir bhi sabko chup rahna chahiye?
          (0)(0)
          Reply
          1. M
            MANISH
            Nov 27, 2015 at 12:45 pm
            ये सभी कुछ गलत हे किसी इंसान को अपनी बात रखने का हक़ हे बो भी इसी देश का नागरिक हे
            (1)(0)
            Reply
            1. Nadeem Ghodke
              Nov 27, 2015 at 3:13 pm
              Agar aamirkhan ke muh pe kaliq to sadvi muh par kina I
              (0)(0)
              Reply
              1. G
                GURSEWAK
                Dec 1, 2015 at 11:32 am
                आमिर खान ने इस में गलत क्या कहा वाकया ही कुंज महीनो से देश दस हालात बहुत ख़राब है कोई भी ऐसे माहौल में रहना नही चाहेगा जो लोग इस को गलत समज रहे है वो ये बताये की वो रहना चाहेंगे ऐसे माहौल में
                (1)(0)
                Reply
                1. P
                  priye mohan
                  Nov 26, 2015 at 1:21 pm
                  फूहरता का जवाब फूहरता से ही दिया जा सकता है |
                  (1)(0)
                  Reply
                  1. P
                    pran sharma
                    Nov 26, 2015 at 12:43 pm
                    Aamir Ji , Aapke Ghatiya Byaan Se To Desh Ka Har Bachchaa Bhee Baukhla Uthaa Hai . Aap Jis Thaali Mein Khaate Hain , Us Mein Mat Kijiye .
                    (1)(3)
                    Reply
                    1. P
                      polo
                      Nov 26, 2015 at 9:00 am
                      Aamir Khan is absolutely right.. As a girl and as an Indian i am feeling very much insecure...
                      (3)(1)
                      Reply
                      1. V
                        VIJAY MADHUKAR
                        Nov 28, 2015 at 8:08 am
                        मई तो कहता हु की भारत में दूसरे देश के हिसाबसे सबसे जयादा आजादी है अगर आमिर खान दूसरे देश में जाकर देखे तो वह इतनी आजादी नहीं है और नहीं इतना सम्मान मिलेगा hamara भारत कैसा भी हो pyara है और सभी जाती धर्मो को एक साथ लेकर चलने wala है नहीं तो यहाँ पैर हर रोज ही दंगे होते वो तो कुछ नसम्ज़ लोगो की वजह se जगडे चलते रहते है.
                        (0)(1)
                        Reply
                        1. Load More Comments