ताज़ा खबर
 

‘असहिष्णुता’ के दंगल में चारों ओर से घिर गए आमिर खान

चर्चित अभिनेता आमिर खान देश में ‘असहिष्णुता’ के कारण ‘बढ़ती बेचैनी’ संबंधी अपनी टिप्पणी के लिए आलोचनाओं के घेरे में आ गए हैं।

चर्चित अभिनेता आमिर खान देश में ‘असहिष्णुता’ के कारण ‘बढ़ती बेचैनी’ संबंधी अपनी टिप्पणी के लिए आलोचनाओं के घेरे में आ गए हैं। भाजपा ने उनके बयान को देश को बदनाम करने की कांग्रेस की ‘गहरी राजनीतिक साजिश’ से जोड़ा। केंद्र सरकार ने भी उनके बयान को अवांछनीय करार दिया है। चौतरफा घिरने और विरोध की आशंका के बीच मुंबई में उनके घर के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है। हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को मुंबई के उपनगरीय क्षेत्र बांद्रा स्थित आमिर के घर के बाहर विरोध प्रदर्शन किए।

फिल्म जगत में आमिर के सहयोगियों ने भी अपना गुस्सा निकाला और उनमें से एक ने आमिर से पूछा कि उन्होंने पूर्व में ‘बेहद खराब समय’ के दौरान देश छोड़ने की बात क्यों नहीं की। उन पर तंज कसे गए कि वे आज जो कुछ भी है वह भारत ने ही उन्हें बनाया है और वे अब इसके खिलाफ क्यों हो रहे हैं। वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने उनका बचाव करते हुए सरकार से अपने आलोचकों को ‘देशद्रोही, राष्ट्र विरोधी या प्रेरित’ करार देने की बजाय लोगों तक पहुंच बनाने के लिए कहा।

गौरतलब है कि सोमवार शाम राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित रामनाथ गोयनका अवार्ड समारोह के दौरान आमिर ने पिछले छह से आठ महीनों में देश में असहिष्णुता की घटनाओं में हुई कथित बढ़ोतरी को लेकर चिंता और निराशा जताते हुए कहा था कि उनकी पत्नी किरण राव ने उनसे यहां तक कहा कि उन्हें शायद यह देश छोड़ना पड़े। इंडियन एक्सप्रेस की ओर से आयोजित ‘रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस इन जर्नलिज्म’ पुरस्कार समारोह में आमिर ने अप्रत्यक्ष रूप से उन लोगों का समर्थन भी किया था जो कि अपने पुरस्कार लौटा रहे हैं। उन्होंने कहा था कि रचनात्मक लोगों द्वारा पुरस्कार लौटाना उनके क्षोभ को प्रकट करने का एक तरीका है।

आमिर पर पलटवार करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा, आमिर और उनका परिवार भारत के अलावा कहां जाएंगे। भारत जैसा बेहतर और कोई देश नहीं है और एक भारतीय मुसलमान के लिए एक हिंदू से अच्छा पड़ोसी कोई नहीं है। मुस्लिम देशों और यूरोप में क्या स्थिति है? हर जगह असहिष्णुता है। उन्होंने कहा, भारत सबसे अधिक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है जहां मुस्लिमों को समान अधिकार प्राप्त हैं। हमारे देश में एक कलाकार को उसकी जाति और धर्म से नहीं बल्कि उसकी कला से जाना जाता है।

मुंबई में शाहनवाज हुसैन ने कहा, यह असहिष्णुता का माहौल पैदा कर कांग्रेस द्वारा देश को बदनाम करने की ‘गहरी राजनीतिक साजिश’ है। उन्होंने साथ ही इस बात पर हैरानी जताई कि आमिर खान को सलाह कौन दे रहा है। शाहनवाज ने कहा, कांग्रेस सिखों के नरसंहार और कई सांप्रदायिक दंगों की जिम्मेदार है। पार्टी को देश को सहिष्णुता और असहिष्णुता के बारे में पाठ नहीं पढ़ाना चाहिए। आमिर खान को यह पता होना चाहिए कि यह अतुल्य भारत है और किसी को इसकी छवि खराब करने के लिए कुछ नहंीं करना चाहिए। आमिर ने सभी भारतीयों के प्यार और सम्मान से ही सम्मान, लोकप्रियता और धन हासिल किया है। जब आप एक स्टार बन जाते हैं तो आपकी टिप्पणियां हो सकता है कि आपको सुर्खियों में ला दें और अच्छा कवरेज मिले। लेकिन दुश्मनों द्वारा उनका इस्तेमाल देश के खिलाफ किया जाता है । हुसैन ने कहा कि आमिर की टिप्पणियां यह दर्शाती हैं कि उन्हें डर नहीं लग रहा है बल्कि वे दूसरों को डरा रहे हैं और भाजपा उनके आरोप को खारिज करती है ।

उधर सरकार ने बढ़ती हुई असहिष्णुता पर सुपरस्टार आमिर खान की टिप्पणी को यह कहकर गलत एवं अनुपयुक्त बताया है कि ऐसे बयान देश के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए असम्मानजनक हैं। गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि असहिष्णुता पर उनकी टिप्पणी पूरी तरह से अनुपयुक्त है। इस तरह की टिप्पणियां देश और प्रधानमंत्री मोदी की छवि को खराब करेंगी। रिजिजू ने बताया कि मई 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से देश में सांप्रदायिक घटनाएं कम हुई हैं।

उधर आमिर की टिप्पणियों को लेकर ट्विटर पर भी तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है और फिल्म जगत में उनके सहयोगी अनुपम खेर और राम गोपाल वर्मा ने उन्हें घेरते हुए पूछा है कि आपके लिए ‘अतुल्य भारत’ कब ‘असहिष्णु भारत’ बन गया। ‘दिल’, ‘दिल है कि मानता नहीं’ सहित अन्य फिल्मों में आमिर के साथ काम कर चुके अनुपम खेर ने उन पर हमला बोलते हुए कहा है, भारत ने उन्हें वह बनाया, जो वह हैं।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, खान । क्या आपने किरण से पूछा कि वे कौन से देश जाना पसंद करेंगी ? क्या आपने उन्हें बताया कि इसी देश ने आपको आमिर खान बनाया । क्या आपने किरण को बताया कि आप बुरे दौर में इस देश में रहे हैं। लेकिन आपने कभी बाहर जाने के बारे में नहीं सोचा । आमिर के ‘अतिथि देवो भव:’ अभिय्प्रिय आमिर खान और उनके लोकप्रिय टीवी कार्यक्रम ‘सत्यमेव जयते’ को लेकर कटाक्ष करते हुए खेर ने कहा है, ‘प्रिय आमिर खान। आपके लिए ‘अतुल्य भारत’ कब ‘असहिष्णु भारत’ बन गया ? क्या केवल 7-8 महीनों में ? अतिथि देवो भव: ।

अभिनेता ऋषि कपूर ने ट्वीट किया, श्रीमान और श्रीमती आमिर खान। चीजें कब गलत हो गईं और प्रणाली को सुधार, मरम्मत की जरूरत पड़ी। इससे भागिए नहीं। यही पराक्रम है। आमिर का नाम लिए बिना रवीना टंडन ने ट्वीट किया, वे सभी लोग जो मोदी को प्रधानमंत्री नहीं बनते देखना चाहते थे, वे इस सरकार को गिराना चाहते हैं। दुख की बात है कि राजनीति की वजह से वे देश को शर्मसार कर रहे हैं। उन्होंने ट्वीट किया,अगर पूरे देश की छवि खराब किए बिना यह बात खुलकर कहने का साहस है तो मुझे किसी तरह के विरोध प्रदर्शन में समस्या नहीं है। लेकिन जब देश के सम्मान की बात आती है और उसने आपके लिए क्या किया है? तो उससे पहले खुद से पूछिए कि आपने देश के लिए क्या किया है?

आमिर के खिलाफ ट्विटर
ऋषि कपूर: श्रीमान और श्रीमती आमिर खान। चीजें कब गलत हो गईं और प्रणाली को सुधार, मरम्मत की जरूरत पड़ी। इससे भागिए नहीं। यही पराक्रम है।
रवीना टंडन: जो मोदी को प्रधानमंत्री नहीं बनते देखना चाहते थे, वे इस सरकार को गिराना चाहते हैं। दुख की बात है कि राजनीति की वजह से वे देश को शर्मसार कर रहे हैं।
अनुपम खेर: क्या आपने किरण से पूछा कि वे कौन से देश जाना पसंद करेंगी? क्या आपने उन्हें बताया कि इसी देश ने आपको आमिर खान बनाया।
रामगोपाल वर्मा: आमिर खान, आपके लिए ‘अतुल्य भारत’ कब ‘असहिष्णु भारत’ बन गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.