December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

देश के सबसे बड़े एक्सप्रेस-वे का सीएम अखिलेश यादव ने किया उद्घाटन, टच डाउन हुए फाइटर जेट

इससे पहले शुक्रवार को एक्सप्रेस-वे पर फाइटर जेट उतारने के लिए ट्रायल किया गया था। ऐसा डिफेंस मिनिस्ट्री के प्लान के तहत किया गया था।

18 नवंबर को फाइटर जेट उतारकर लिया गया एक्सप्रेस वे का ट्रायल। (PTI Photo)

उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव और उनके पिता सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव सोमवार को देश के सबसे लंबे एक्सप्रेस-वे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया। उद्घाटन में फाइटर जेट विमान शामिल हुए। एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन लखनऊ से 50 किलोमीटर दूर उन्नाव में किया गया। जिसके बाद यह पब्लिक के लिए खुल गया है। समारोह में वायुसेना के 4 सुखोई और 4 मिराज विमान शामिल होने थे। सुखोई विमान बरेली और मिराज विमान ग्वालियर से उड़ान भरेंगे और एक्सप्रेस वे पर टच डाउन करेंगे। यह पहली बार होगा जब किसी रोड के उद्घाटन समारोह में जहाज शामिल हुए। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस हाई-वे के निर्माण की लागत 15000 करोड़ बताई जा रही है।

इससे पहले शुक्रवार को एक्सप्रेस-वे पर फाइटर जेट उतारने के लिए ट्रायल किया गया था। ऐसा डिफेंस मिनिस्ट्री के प्लान के तहत किया गया था, जिससे यह जांचा जा सके कि आपातकाल की स्थिति में एयर फील्ड्स खाली न होने पर फाइटर जेट को हाई-वे पर उतारा जा सकता है या नहीं। इस जेट लैंडिंग के गवाह रहे अधिकारी सड़क दुर्घटना में घायल हो गए थे। हाल ही में सीएम अखिलेश यादव ने अपने परिवार के साथ एक्सप्रेस-वे की यात्रा की थी और उसके बाद लोगों को चेतावनी दी थी। उन्होंने लोगों से एक्सप्रेस-वे पर सावधानी से गाड़ी चलाने और 100 से ज्यादा स्पीड न रखने का आग्रह किया था।

302 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस वे को महज 23 महीने में बनाया गया है। अधिकारियों ने कहा कि धुंध और दुर्घटना कम हो इसके लिए ऑटोमैटिक मैनेजमेंट सिस्टम का इस्तेमाल किया गया है। समारोह के दौरान रेसिंग कारों का एक काफिला भी होगा जो दिल्ली तक आएगा। राज्य सरकार ने कार्यक्रम को शूट करने के लिए आठ कैमरा सेटअप हायर किया है।

वीडियो: उद्घाटन समारोह में टच डाउन हुआ मिराज 2000

पिछले साल मई महीने में भी वायुसेना ने मथुरा के नजदीक राया गांव में यमुना एक्सप्रेस-वे पर अपना फाइटर विमान मिराज 2000 उतारा था। यह एक ट्रायल था, यह जांचने के लिए कि युद्ध की स्थिति में कितने एक्सप्रेस-वे पर फाइटर जेट उतारे जा सकते हैं। जब यमुना एक्सप्रेस-वे पर फाइटर जेट उतारा गया था, तब इसे रात से ही बंद कर दिया गया था। यह एक गुप्त ट्रायल ऑपरेशन था। भारतीय वायुसेना द्वारा इस तरह का प्रयोग भारत में पहली बार किया गया था। अभी जर्मनी, पौलेंड, स्वीडन, दक्षिण कोरिया, ताइवान, फिनलैंड, सिंगापुर, चकोस्लोवाकिया और पाकिस्तान ने अपने एक्सप्रेस-वे और हाईवे पर ऐसी सुविधा बनाई है कि इमरजेंसी की स्थिति में उन पर फाइटर जेट उतारे जा सकते हैं।

देखिए फाइटर जेट के ट्रायल का वीडियो

पिछले साल मई महीने में यमुना एक्सप्रेस-वे पर वायुसेना का लड़ाकू विमान उतरा था, नीचे देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 11:41 am

सबरंग