December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

मुलायम, लालू और शिवपाल की मौजूदगी में अखिलेश बोले- हाथ में तलवार है तो चलाऊंगा क्यों नहीं

सपा के रजत जयंती कार्यक्रम में अखिलेश यादव ने यह साफ कर दिया है कि सरकार के सुप्रीमो तो वही हैं।

Author लखनऊ | November 5, 2016 18:40 pm
यूपी के सीएम अखिलेश यादव अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव के साथ पार्टी के सिल्वर जुबली कार्यक्रम में। (PTI Photo)

मुख्यमंत्री के रूप में अपनी कैबिनेट से चाचा शिवपाल सिंह यादव सहित चार मंत्रियों को बर्खास्त कर चुके अखिलेश यादव ने आज कहा, ‘‘ऐसा कैसे हो सकता है कि मेरे हाथ में तलवार थमायी जाए और फिर कहा जाए कि उसे चलाऊं नहीं।’’ अखिलेश ने यहां सपा के रजत जयंती समारोह में कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति का नाम लेते हुए कहा, ‘‘प्रजापति को कहेंगे कि हमें आप तलवार दे देते हो भेंट में और उधर कहते हो कि मैं तलवार ना चलाऊं। ऐसा कैसे हो सकता है।’’ समारोह के संयोजक गायत्री ने मंच पर बैठे सभी अतिथियों का तलवार देकर स्वागत किया था। गायत्री को अखिलेश एक बार अपनी कैबिनेट से बर्खास्त कर चुके हैं। अखिलेश ने इसी बहाने संभवत: यह समझाने की कोशिश की कि मुख्यमंत्री बनाया गया है तो वह अपने अधिकारों का इस्तेमाल करेंगे। सपा के भीतर मचे घमासान का परोक्ष रूप से उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि राम मनोहर लोहिया ने कहा था कि लोगों को उनकी बात समझ आएगी लेकिन उनके मरने के बाद। ‘‘मैं इसी बात को दूसरे रूप में कहता हूं कि लोगों को समझ में आएगा लेकिन सपा का नुकसान हो जाने के बाद।’’

वीडियो: CM Akhilesh Yadav responds to Shivpal’s taunts, says nobody needs to give an exam

उन्होंने कहा, कि उत्तर प्रदेश भारत का भविष्य है। आने वाले समय में जो चुनाव :विधानसभा: होने जा रहा है, वह भारत का भविष्य तय करेगा, वह निर्धारित करेगा कि देश किस तरफ जाएगा। अखिलेश ने कहा कि केंद्र की सत्ता में बैठी भाजपा ने लोगों में मतभेद पैदा किये हैं। भाजपा के लोगों ने दूरियां पैदा की हैं। उनका सत्ता का रास्ता वहीं से निकलता है। उत्तर प्रदेश की जनता ने भाजपा को 70 से अधिक सांसद दिये लेकिन राज्य को आदर्श गांव योजना से ज्यादा कुछ नहीं मिला। अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ और नौजवान नेता सभी बसपा और भाजपा के खिलाफ लडे हैं। उन्होंने साइकिल चलायी है और खून पसीना बहाया है। साथ ही बोले कि वह हर तरह की परीक्षा देने को तैयार हैं।

हमारा लक्ष्य बसपा और भाजपा की पराजय सुनिश्चित करना है। उन्होंने विश्वास जताया कि प्रदेश के 2017 विधानसभा चुनाव में एक बार फिर सपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी। ‘‘दुनिया में जितने भी लोग हैं, वो महसूस करते हैं समाजवादी विचारधारा ही हर वर्ग के लोगों को आगे बढाने का काम करती है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से सपा के रजत जयंती वर्ष की शुरूआत हो रही है और प्रदेश में सपा की सरकार है। हम चाहते हैं कि जब रजत जयंती समारोह संपन्न हों, तब भी सपा की ही सरकार रहे। उन्होंने कहा कि सपा 2017 में तो सरकार बनाएगी ही, 2019 में भी उत्तर प्रदेश में ऐतिहासिक फैसला होगा। यह कहकर अखिलेश ने भविष्य में जनता परिवार और समान विचारधारा वाले दलों के साथ गठबंधन की संभावना से इंकार नहीं किया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 5, 2016 6:40 pm

सबरंग