ताज़ा खबर
 

कर्नाटक को कांग्रेस मुक्त करने की तैयारी, राज्य सभा सीट या उपाध्यक्ष का पद देकर एसएम कृष्णा को बीजेपी में लाएंगे अमित शाह!

एस एम कृष्णा को इसी हफ्ते बीजेपी में शामिल होना था लेकिन उनकी बहन के निधन के बाद यह कार्यक्रम कुछ समय के लिए टाल दिया गया है।
पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा बीजेपी में होंगे शामिल। ( File Photo)

कर्नाटक के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री रहे एस एम कृष्णा को इसी हफ्ते बीजेपी में शामिल होना था लेकिन उनका यह कार्यक्रम अब कुछ समय के लिए टाल दिया गया है। बीते बुधवार (15 मार्च) को उनके भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के कार्यक्रम को संपन्न किया जाता लेकिन ऐसा नहीं हो सका। इसकी वजह उनकी बहन के निधन की दुखद खबर है। एस एम कृष्णा इसी हफ्ते दिल्ली आए थे लेकिन उन्हें वापिस बेंगलुरु लौटना पड़ा। एस एम कृष्णा ने कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। कृष्णा के एक सहयोगी ने जानकारी दी कि उनका बीजेपी में शामिल होने का कार्यक्रम कुछ समय के लिए रद्द कर दिया गया है। अब यह कार्यक्रम बाद में संपन्न किया जाएगा। कृष्णा इसी हफ्ते दिल्ली आए थे और पार्टी में उनके शामिल होने को लेकर उनकी अमित शाह के साथ मीटिंग हुई थी।

कर्नाटक बीजेपी अध्यक्ष बीएस येदुरप्पा ने कृष्णा को पार्टी में शामिल होने का निमंत्रण दिया था। बता दें कि कृष्णा कर्नाटक के दिग्गज नेता माने जाते हैं। वह लगभग 46 साल तक कांग्रेस पार्टी से जुड़े रहे। 84 वर्षीय कृष्णा पूर्व केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं। इसके अलावा वह साल 1999 से 2004 तक राज्य के मुख्यमंत्री भी रहे थे। वहीं कयास लगाए जा रहे हैं कि कृष्णा को राज्यसभा में भेजा जा सकता है या फिर उन्हें पार्टी उपाध्यक्ष का पद भी दिया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कृष्णा पार्टी में दरकिनार किये जाने से निराश चल रहे थे और इसी वजह से उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने का फैसला लिया। कृष्णा पांच दशक से भी अधिक समय तक कांग्रेस से जुड़े रहे।

वहीं खबरों के मुताबिक कृष्णा आगामी 9 अप्रैल से बीजेपी के लिए राज्य में चुनाव प्रचार की शुरुआत करेंगे। कर्नाटक में मयसूर की नन्जंगुड और गुंडलुपेट विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव होने हैं। भारतीय जनता पार्टी को पूरी उम्मीद है कि कृष्णा को पार्टी में लाने से उसकी स्थिति मजबूत होगी। राज्य में 2018 में विधानसभा चुनाव होने हैं। भारतीय जनता पार्टी का मानना है कि कृष्णा को पार्टी में लाने से राज्य में कांग्रेस सीएम सिद्धरमैया की स्थिति को उनके गढ़ में कमजोर किया जा सकेगा, जो आगे चलकर 2018 के विधानसभा में एक अहम भूमिका निभाएंगे।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.