ताज़ा खबर
 

Rohith Vemula Suicide: एबीवीपी नेता ने कहा- याकूब मेमन के लिए उन लोगों ने पढ़ी थी नमाज

हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी से सस्‍पेंड किए जाने के बाद आत्‍महत्‍या करने वाले छात्र रोहित वेमुला और चार अन्‍य के खिलाफ बीते साल अगस्‍त महीने में एबीवीपी नेता सुशील कुमार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी।
Author हैदराबाद | January 21, 2016 13:45 pm
रोहित वेमुला के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराने वाले एबीवीपी नेता ने दावा किया है कि वेमुला और उसके दोस्‍तों ने उनकी जमकर पिटाई की। (Source: NDTV)

हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी से सस्‍पेंड किए जाने के बाद आत्‍महत्‍या करने वाले छात्र रोहित वेमुला और चार अन्‍य के खिलाफ बीते साल अगस्‍त महीने में एबीवीपी नेता सुशील कुमार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। सुशील ने आरोप लगाया था कि इन पांचों ने मिलकर उनकी पिटाई की। इस शिकायत की वजह से ही कोर्ट केस हुआ और यूनिवर्सिटी की ओर से दो बार जांच भी। अब सुशील कुमार का कहना है कि वे (रोहित वेमुला और उनके साथी) मुंबई बम धमाकों के दोषी याकूब मेमन के लिए नमाज पढ़ रहे थे।

एबीवीपी नेता ने न्‍यूज चैनल एनडीटीवी से बातचीत में बताया कि अंबेडकर स्‍टूडेंट्स असोसिएशन के सदस्‍य वेमुला और उसके दोस्‍त आतंकी याकूब मेमन की फांसी का विरोध कर रहे थे। सुशील ने कहा, ”उन्‍होंने याकूब के लिए नमाज पढ़ी। कोई भी मौत की सजा का विरोध कर सकता है। इस मुद्दे पर एक सकारात्‍मक बहस सही है, लेकिन उनके बयान मसलन- ‘हर घर से निकलेगा एक याकूब’ परेशान करने वाला था।” सुशील के मुताबिक, उन्‍होंने वेमुला और उनके दोस्‍तों को को अपने फेसबुक अकाउंट पर ‘गुंडे’ करार दिया था। इसके बाद, वेमुला और उनके साथ देर रात आए। इसके बाद, उन पर ऐसा गंभीर हमला हुआ और वे हॉस्‍प‍िटल में भर्ती हुए। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक, सुशील कुमार दो दिन बाद अस्‍पताल में भर्ती हुए और उनका अपेंडिक्‍स का ऑपरेशन हुआ था। हालांकि, सुशील ने गुरुवार को कहा कि वे उसी रात भर्ती हुए थे।

सुशील ने कहा, ”रोहित ऐसा शख्‍स नहीं था जो इतनी आसानी से आत्‍महत्‍या कर ले। किस वजह से वो इतने डिप्रेशन में चला गया, ये सवाल हम भी उठा रहे हैं। इस मामले की समुचित जांच होनी चाहिए और दोषियों को सजा भी होनी चाहिए।” सुशील ने कहा, ”जिन परिस्‍थ‍ितियों में निशाम की मौत हुई, वो संदेह के घेरे में है। उसके दोस्‍त क्‍या कर रहे थे?”

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    AP Bharati
    Jan 21, 2016 at 2:37 pm
    अंतिम पंक्ति में नीशाम लिखा है, खबर रोहित के बारे में है !
    (0)(0)
    Reply
    1. I
      Indian
      Jan 22, 2016 at 1:59 pm
      abvp (rss/bjp) student wing leader sushil of Hyderabad univ is a liar, untill and unless a person is not a Muslim by believe , by act will not and can not perform h/Namaz.
      (0)(0)
      Reply
      1. A
        Ashim
        Jan 22, 2016 at 6:18 am
        After a terrible bungling by MHRD,.. now they are looking for a scapegoat..! To save the uneducated Minister..! !!
        (1)(0)
        Reply
        1. G
          Golok
          Jan 22, 2016 at 6:20 am
          The BJP government at the centre has made it a habit to put the foot in to its mouth and finding it difficult to take it out. This is another such case. The media pressure and actions by various people have compelled the university to rescind its earlier decision. Pathetic administration.
          (0)(0)
          Reply
          1. K
            Kunal
            Jan 22, 2016 at 6:17 am
            Why this media is so hate monger ? Some time religion some times cast ? to divide people this one Quality of Demon !
            (0)(0)
            Reply
            1. Pardeep Punia
              Jan 21, 2016 at 6:39 pm
              एबीवीपी नेता सुशील कुमार की सीबीआई जांच होनी चाहिए ................अ.बी.व्.प. की भी . दलित की इतनी हिम्मत नहीं हुए है इस देश में वो किसी उप्पेर कासते को मारे पिटे ....ये शकष जूठ बोल रहा है .
              (0)(0)
              Reply
              1. R
                Risheshwar Upadhyay
                Jan 22, 2016 at 1:37 am
                इस बात पर मंथन होना चाहिए कि क्यों एक दलित हिन्दू परिवार में जन्म लेने वाला नौजवान जब सोचने समझने लायक हो जाता है तो इनमे से अधिकांश भारतीय सामाजिक व्यवस्था, सँस्कृत एवं परम्पराओं के प्रति वैसी सोच नहीं रखता जैसा तथाकथित उच्चजाति के नौजवान रखते है। एक इस व्यवस्था को बनाये रखना चाहता है और दूसरा इसको बदलकर समतामूलक समाज बनाना चाहता है। इन्ही विरोधाभाषी विचारो के संघर्ष का ही फल रोहित वामुळे की आत्महत्या है। हमें यथास्थितवादी एवं रूढ़िवादी शक्तियों को पहचनाना होगा और इनसे लड़ना होगा ।
                (0)(0)
                Reply
                1. S
                  Sanjukta
                  Jan 22, 2016 at 6:18 am
                  they are unfortunately using Brits tricks of divide and rule and fools are falling for it..dia was such a great nation...wealthy and knowledgeable... started losing them since Islamic invasions and then East India company...and we never went back thanks to politicians
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. S
                    Sayan
                    Jan 22, 2016 at 6:20 am
                    Well said .... i am from hyderabad and i dont see any one talking about this more than people media is making noise .....
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. S
                      Subhas
                      Jan 22, 2016 at 6:19 am
                      All miscreants must be permanently expelled
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. Load More Comments
                      सबरंग