ताज़ा खबर
 

अरविंद केजरीवाल सरकार को चुनाव आयोग ने भेजा इनविटेशन कार्ड, कहा- आकर सीखिए चुनाव प्रबंधन और लोकतंत्र का पाठ

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने निगम चुनाव में मतदान वाले दिन ट्वीट करके चुनाव आयोग पर निशाना साधा था। उन्होंने अपने ट्वीच में लिखा- ‘पूरी दिल्ली से ईवीएम की गड़बड़ियों के रिपोर्ट सामने आ रही है, वोटर स्लिप होने के बावजूद लोगों को वोट नहीं देने दिया जा रहा है।
Author April 29, 2017 14:33 pm
अरविंद केजरीवाल सरकार को चुनाव आयोग ने भेजा निमंत्रण पत्र। (Representative Image)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी सरकार द्वारा ईवीएम में गड़बड़ी के आरोप लगाए जा रहे हैं। केजरीवाल सरकार के इन्हीं सवालों का जवाब देने के लिए अब राज्य निर्वाचन आयोग ने दिल्ली सरकार को इनविटेशन कार्ड भेजा है। दिल्ली सरकार को चुनाव आयोग द्वारा निर्वाचन आयोग म्युजियम आने का निमंत्रण दिया गया है ताकि वह देश में होने वाले चुनाव प्रबंधन के स्वर्ण मानकों और लोकतंत्र का पाठ पढ़ सकें। इस निमंत्रण पत्र को दिल्ली सरकार के सामाजिक कल्याण और पुनर्वास सेवाएं विभाग ने गुरुवार को प्रकाशित किया।

चुनाव आयोग द्वारा दिल्ली सरकार को जारी निमंत्रण पत्र इलेक्शन ऑफिसर, मुख्य निर्वाचन अधिकारी ओर से प्राप्त हुआ है। जिसमें दिल्ली सरकार के अधिकारियों और कर्मचारियों को म्यूजियम आने के लिए कहा गया है ताकि हमारे चुनावी विरासत के बारे में जाना जा सके। इस सरकुलर को जारी करने के पीछे का उद्देश्य चुनाव प्रबंधन (इलेक्शन मैनेजमेंट) के स्वर्ण मानकों के बारे में जानने में मदद मिले और लोकतंत्र के बारे में जान सकें। वहीं, दिल्ली सरकार के प्रवक्ता की ओर से कहा गया निमंत्रण पत्र को ईवीएम मशीनों के बारे में उठाई गई चिंताओं से नहीं जोड़ा जाना चाहिेए। उन्होंने आगे कहा कि अभी तक हमने पत्र नहीं देखा है। इससे पहले भारत के ऐतिहासिक चुनावी विरातस के बारे में पब्लिक को बताने के लिए भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त नसीम जैदी द्वारा ‘जर्नी थ्रू इलेक्शंस’ सेंटर खोला गया था।

गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने निगम चुनाव में मतदान वाले दिन ट्वीट करके चुनाव आयोग पर निशाना साधा था। उन्होंने अपने ट्वीच में लिखा- ‘पूरी दिल्ली से ईवीएम की गड़बड़ियों के रिपोर्ट सामने आ रही है, वोटर स्लिप होने के बावजूद लोगों को वोट नहीं देने दिया जा रहा है। आखिर राज्य चुनाव आयोग क्या कर रहा है?’ यहीं, नहीं चुनाव के नतीजे आने पर आम आदमी पार्टी को बहुत बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था। हार के लिए भी आप ने ईवीएम मशीनों को ही दोषी ठहराया था। हालांकि शनिवार (29 अप्रैल) को किए गए ट्वीट में केजरीवाल ने अपनी कमियों को मानते हुए हार स्वीकार की और आगे काम पर ध्यान देने की बात लिखी।

 

 

शुंगलू समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा- "केजरीवाल सरकार ने किया सत्ता का दुरुपयोग"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    Rakeshwar Pokhriyal
    Apr 30, 2017 at 12:25 am
    चुनाव आयोग का सबसे पहला काम है कि जनता का विश्वास डेमोक्रेसी में बना रहे और इसके लिये उन्हे हर एक शंका का निवारण वैग्यानिक विधि के ारे करना चाहिये ना कि दो टूक शब्दों में जनता पर अपना फैसला थोपे ! भले ही चुनाव को कुछ दिनो के लिये टालना पड़े पर हर हाल में देश की जनता को विश्वास में लेना चाहिये ! जैसा कि केरल के चुनाव आयोग ने दो दिन चुनाव को टाला ताकि VVPAT मशीन का इस्तेमाल हो सके ! ऐसा ही फैलला उत्तर प्रदेश के चुनाव आयोग ने लिया पर दिल्ली के चुनाव आयोग ने मोदी शाह के दबाव में आकर ना सिर्फVVPAT मशीन नहीं लगने दी बल्की २००६ से पहले की कंडम ईवीएम मशीन का इस्तेमाल किया जो कई जगह खराब होने की वजह से शक के दायरे में आई हैं ! यदि ईवीएम मशीन में कोई धाधली कर सकता है तो वह सिर्फ सरकार ही कर सकती है क्योंकि सरकार से बाहर रहकर जो विपक्षी दल ईवीएम मशीन को कठघरे में खड़ा करता है वही दल सत्ता में आकर तुरंत कैसे बदल जाता है कि ईवीएम मशीन फिक्स नही की जा सकती है ! चाहे वह कांग्रेस हो या भाजपा सिद्ध करता है कि ये सत्ता का दुरउपयोग करते हैं !
    Reply
  2. A
    AK
    Apr 29, 2017 at 12:44 pm
    AAP should not accept invitation, but reject it on the ground that till Modi himself don't come excercise is futile. Afterall​ blame game has to continue. We can't afford EC to come clean .
    Reply
सबरंग