ताज़ा खबर
 

अरविंद केजरीवाल को आया गुस्सा, इस्तीफे की दे डाली धमकी

आप प्रमुख अरविन्द केजरीवाल ने आज इस्तीफा देने की धमकी दी और पार्टी के संस्थापक सदस्यों प्रशांत भूषण तथा योगेंद्र यादव की तीखी आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि वह पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल थे। केजरीवाल ने दोनों सदस्यों को राष्ट्रीय कार्यकारिणों से हटाए जाने के कुछ समय पहले यह टिप्पणी की। सूत्रों के […]
Author March 29, 2015 11:14 am
अरविंद केजरीवाल ने इस्तीफे की धमकी दी (फोटो: अमित मेहरा)

आप प्रमुख अरविन्द केजरीवाल ने आज इस्तीफा देने की धमकी दी और पार्टी के संस्थापक सदस्यों प्रशांत भूषण तथा योगेंद्र यादव की तीखी आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि वह पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल थे। केजरीवाल ने दोनों सदस्यों को राष्ट्रीय कार्यकारिणों से हटाए जाने के कुछ समय पहले यह टिप्पणी की।

सूत्रों के अनुसार दिल्ली के मुख्यमंत्री ने पार्टी की राष्ट्रीय परिषद में अपने भाषण की शुरुआत आप के अब तक के सफर से की। एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि उन्होंने पिछले साल सरकार से हटने के बाद की स्थिति, लोकसभा चुनावों में भारी हार से लेकर दिल्ली विधानसभा चुनावों में ऐतिहासिक जीत का जिक्र किया।

लेकिन इसके तुरंत बाद उन्होंने दोनों असंतुष्ट नेताओं पर तीखा हमला बोला और सदस्यों से उन दोनों नेताओं या केजरीवाल में से कोई एक विकल्प चुनने को कहा। इस पर यादव और भूषण ने उन पर आरोप लगाया कि वे सदस्यों को भड़का रहे हैं।

उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि प्रशांत भूषण और उनके पिता शांति भूषण तथा यादव ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में आप की हार के लिए हर प्रयास किया। पार्टी नेता ने कहा कि उन्होंने कहा कि जब पूरी पार्टी चुनावों में अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही थी, वे लोग इसकी हार की जुगत लगा रहे थे।

यादव ने बाद में एक संवाददाता सम्मेलन में केजरीवाल पर आरोप लगाया कि बाउंसरों द्वारा राष्ट्रीय परिषद के कुछ सदस्यों पर हमले की कथित घटना के दौरान वह मूक दर्शक बने रहे।

पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल बाद में फिर बैठक में लौट आए। इसके पहले वह आधिकारिक कार्य का जिक्र करते हुए बैठक से चले गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    Mehta Yk
    Mar 29, 2015 at 1:26 pm
    एक ईमानदार व्यक्ति जो व्यवस्था को बदलने का मादा रखता है उसके खिलाफ सब बेईमान और राजनीतिक इच्छाधारी और अपने आपको जो वो नहीं हैं दर्शाने वाले एकजुट हो जाते हैं I बातें करना और वाहवाही लूटना ही उनका उद्देश्य रहता है I समाज में, परिवार में, हम सब देखते और जानते हैं कि सबके घर में एक ही मुखिया होता है और जहाँ सब बाप बनाने को आतुर हों वहां क्या होगा ? क्या इन लोगों कि घर में भी ऐसा होता है !!! ज़रा सोचिये !!!
    Reply
सबरंग