ताज़ा खबर
 

80 फीसदी दोपहिया चालक नहीं पहचानते यातायात संकेत!

अग्रणी दोपहिया वाहन निर्माता होंडा मोटरसाइकिल द्वारा देश में दोपहिया चालकों में यातायात संकेत साक्षरता को लेकर किए गए सर्वे में खुलासा हुआ है कि 80 दोपहिया चालक 50 फीसदी यातायात संकेतों को नहीं पहचानते।
Author नई दिल्ली | January 24, 2017 03:25 am
(express Photo)

अग्रणी दोपहिया वाहन निर्माता होंडा मोटरसाइकिल द्वारा देश में दोपहिया चालकों में यातायात संकेत साक्षरता को लेकर किए गए सर्वे में खुलासा हुआ है कि 80 दोपहिया चालक 50 फीसदी यातायात संकेतों को नहीं पहचानते। संकेत पहचानने के मामले मुंबई सबसे अधिक जागरूक शहर रहा, जहां के 79 प्रतिशत दोपहिया सवारों ने 50 फीसदी सड़क सुरक्षा संकेतों को बिल्कुल सही पहचाना। इस मामले में पुणे (63 प्रतिशत) दूसरे और बेंगलुरू (41 प्रतिशत) तीसरे स्थान पर रहा। होंडा के ‘होंडा रोड साइन आईक्यू सर्वे’ का उद्घाटन राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान 10 प्रमुख भारतीय शहरों में लगभग 1,500 दोपहिया चालकों की भागीदारी के साथ किया गया। कंपनी के बयान के मुताबिक, सर्वेक्षण से एक बार फिर पुष्टि हुई है कि सड़क सुरक्षा से जुड़े इनफोर्समेंट, इंजीनियरिंग और एजुकेशन में बेहतर जागरूकता की आवश्यकता है, क्योंकि करीब 80 प्रतिशत दोपहिया सवार अभी भी सचेत करने वाले यातायात संकेतों और अनिवार्य सड़क संकेतों में अंतर से अनभिज्ञ हैं।

राष्ट्रीय स्तर पर किए गए सर्वेक्षण में शामिल 26 प्रतिशत महिलाओं ने 50 फीसदी सड़क संकेतों को पहचाना, जबकि पुरुषों के मामले में यह आंकड़ा 21 प्रतिशत (पुरुषों के बहुसंख्य सवार होने के बावजूद) रहा। विभिन्न आयु वर्ग के बीच, 20 से 24 वर्ष के युवा राष्ट्रीय सड़क संकेतों के प्रति सबसे अधिक (31 प्रतिशत) जागरूक पाए गए, जबकि 25 से 44 आयु वर्ग के महज 18 प्रतिशत प्रतिभागी ही आधे सड़क संकेतों को पहचानने में सफल रहे। दिलचस्प है कि 45 वर्ष से अधिक आयु के 30 प्रतिशत प्रतिभागी आधे सड़क संकेतों को पहचान सके।

सर्वेक्षण में शामिल 63 प्रतिशत दोपहिया सवारों ने कहा कि वे खुद की सुरक्षा के लिए हेलमेट पहनते हैं। जबकि 16 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे जुर्माने से बचने के लिए हेलमेट पहनते हैं, वहीं 16 प्रतिशत अन्य लोगों ने कहा कि वे पारिवारिक दबाव के कारण हेलमेट पहनते हैं। 55 प्रतिशत सवार पीछे बैठने पर हेलमेट नहीं पहनते हैं और इस प्रकार अपनी जान जोखिम में डालते हैं। सर्वेक्षण में शामिल 51 प्रतिशत सवारों ने कहा कि 2016 में उन्होंने न तो जुर्माना भरा और न ही लाल बत्ती को पार किया। लेकिन जोखिमपूर्ण सवारी अभी भी जारी है क्योंकि 30 प्रतिशत सवारों ने कहा कि वे सप्ताह में 1-2 बार लाल बत्ती पार कर जाते हैं।

सर्वेक्षण के खुलासों और सड़क सुरक्षा को प्रोत्साहित करने की दिशा में होंडा के प्रयासों के बारे में बताते हुए होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया प्रा. लि. के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (बिक्री एवं विपणन) यादविंदर सिंह गुलेरिया ने कहा, “देश में सड़क दुर्घटनाओं के कारण सबसे अधिक मृत्यु (31.5 प्रतिशत) दोपहिया वाहनों के मामले में होती है। भारतीय सड़कों पर प्रत्येक दो सेकेंड में एक नया दोपहिया वाहन उतर रहा है और ऐसे में जागरूकता बहुत जरूरी है। होंडा के 11 यातायात पार्को में अब तक 10 लाख से अधिक लोगों को शिक्षित किया जा चुका है, इनमें 38 प्रतिशत बच्चे हैं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.