December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

अबतक 3 लाख करोड़ रु की नई करेंसी आई,14 लाख करोड़ रु के थे 500-1000 के पुराने नोट, समाधान निकालने के लिए आज मीटिंग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंगलवार को घोषणा के बाद 500 और 1000 के 14 लाख करोड़ रुपए कीमत के नोटों को चलन से बाहर किया गया है।

एक एटीएम के बाहर पैसे निकालने के लिए लगी कतार (फाइल फोटो)

500-1000 के नोट बंद होने के दो दिन बाद तीसरे दिन यानी शुक्रवार को भी लोगों की परेशानी कम नहीं हुई। लोग बैंकों और एटीएम के बाहर अब भी लंबी लाइनें लगाकर खड़े हैं। इस समस्या को देखते हुए वित्त मंत्रालय के कुछ अधिकारी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के अधिकारीयों के मुलाकात करके इस समस्या का समाधान निकालने के बारे में सोचेंगे। इस बात पर विचार किया जाएगा कि कैश की कमी क्यों है और इसे कैसे पूरा किया जाए। वित्त मंत्रालाय के अधिकारी ने कहा, ‘हम लोगों ने पर्याप्त मात्रा में नई करेंसी का इंतजाम किया था। इस वजह से मीटिंग बुलाई गई है ताकी पता चल सके कि परेशानी कहां आ रही है।’ अधिकारी ने बताया कि 2000 के 1.5 बिलियन नोट छापे गए थे जिनकी कीमत 3 लाख करोड़ रुपए होती है। वे सभी मार्केट में आ भी चुके हैं। आने वाले दिनों में इतने ही और नोट भी बाजार में आ जाएंगे। RBI की तरफ से इंडियन एक्सप्रेस को बताया गया कि 500 के नोट फिलहाल केवल दिल्ली और मुंबई में लाए गए हैं। आने वाले दो सप्ताह के अंदर उन्हें पूरे देश में फैला दिया जाएगा।

वीडियो: नोट बदलने के लिए बैंक पहुंचे राहुल गांधी, कतार में खड़े रहे; कहा- “लोगों का दर्द बांटने आया हूं”

एटीएम में कैश डालने-निकालने के लिए देश में 40 हजार लोग कार्यरत हैं। कुल 8800 गाड़ियां इस काम में लगी हुई हैं। इन लोगों ने देश-भर के कुल 25000 एटीएम में पैसा डाला है। पिछले 48 घंटों में इन लोगों के देशभर के एटीएम से ना सिर्फ पुराना पैसा निकाला बल्कि उनकी सेटिंग में बदलाव करके ऐसा बनाया कि ज्यादातर नोट सौ-सौ के निकलें। देशभर में कुल 2.2 लाख एटीएम हैं। लेकिन उनमें से फिलहाल 40 प्रतिशत ही काम कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंगलवार को घोषणा के बाद 500 और 1000 के 14 लाख करोड़ रुपए कीमत के नोटों को चलन से बाहर किया गया है। गौरतलब है कि सरकार ने शुक्रवार को बताया कि 500-1000 के नोट अब 14 नवंबर तक चलाए जा सकते हैं। ये नोट पेट्रोल पंप, बिजली दफ्तर, हॉस्पिटल में चलेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 12, 2016 7:42 am

सबरंग