December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

2000 रुपए के नोट में ट्रैक करने वाली NGC चिप की बात सच्ची या झूठी, जानिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (8 नवंबर) को बड़ा फैसला लेते हुए 500 और 1000 रुपए के नोट पर रोक लगा दी।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी 2000 का नया नोट। (फोटो- ट्विटर)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (8 नवंबर) को बड़ा फैसला लेते हुए 500 और 1000 रुपए के नोट पर रोक लगा दी। मोदी ने कहा कि पुराने नोट आने वाले वक्त में कागज की कीमत के बराबर हो जाएंगे। इसके साथ ही पीएम ने 500 और 2000 के नए नोट की घोषणा की। पीएम की घोषणा के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर एक मेसेज फॉरवर्ड होने लगा उसमें कहा जा रहा था कि नोट में नेनो जीपीएस चिप होगी जिसे NGC कहा जाता है। वह नोट को कहीं भी ट्रेक कर सकती है। लेकिन सोशल मीडिया पर फैल रहा यह मैसेज फेक या कह सकते हैं फर्जी साबित हो रहा है। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, आरबीआई ने अपनी वेबसाइट पर दोनों नए नोटों के बारे में जानकारी दी है लेकिन ऐसी किसी NGC चिप का जिक्र नहीं किया। ऐसे में मैसेज पर यकीन नहीं किया जा सकता। मैसेज में कहा जा रहा है कि 2000 के नोट पर सरकार द्वारा पतली सी जीपीएस चिप को चढ़ा दिया गया है। जिससे जमीन से 120 मीटर अंदर नोट को छिपाने के बाद भी सिग्नल भेजे या रिसीव किए जा सकते हैं। इस बात पर भी बिल्कुल विश्वास नहीं किया जा सकता। दरअसल, चिप की मदद से बेहद छोटी दूरी की जानकारी मिल सकती है।

वीडियो: 500 और 1000 के नोट बंद, क्या होगा इसका असर?

मंगलवार को पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संदेश में कहा कि नए नोट जल्द से जल्द सरकुलेट कर दिए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की कि मंगलवार आधी रात से 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए जाएंगे।

नौ और 10 नवंबर के बीच एटीएम से पैसे निकालने की बंदिश होगी। 11 नवंबर तक अस्‍पतालों में पुराने नोट दिए जा सकेंगे। 9 और 10 नवंबर को एटीएम नोट काम नही करेंगे। 72 घंटे तक पुराने नोट से रेलवे, सरकारी बसों और एयरपोर्ट पर टिकट खरीद सकेंगे। वहीं बैंक ट्रांजेक्‍शन जारी रहेगा। ऑनलाइन पेमेंट, डेबिट, क्रेडिट और डिमांड ड्राफ्ट से भुगतान भी जारी रहेगा। नौ नवंबर को सारे बैंक बंद रहेंगे। आगे से ये सिर्फ कागज का टुकड़ा रह जाएंगे। पुराने नोट के बंद होने के बाद और जो नए नोट जारी किए जाएंगे।

देखिए आरबीआई ने 2000 के नोट की किन खूबियों को गिनवाया है –

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 2:09 pm

सबरंग