ताज़ा खबर
 

वीडियोः दफ्तर में बैठे-बैठे ही कर सकते है बाबा रामदेव के ये योग आसन

ऑफिस में किए जाने वाले इन आसनों से सरदर्द, कमरदर्द और गर्दन में दर्द से काफी राहत मिलती है
ऑफिस में बैठे-बैठे सिरदर्द, गर्दन में दर्द, कमर में दर्द और तनाव जैसी समस्याओं से दो चार होना पड़ता है।

आजकल बात जब व्यायाम या फिर योग की आती है तो लोग अक्सर समय की कमी का बहाना करते पाए जाते हैं। सुबह से शाम तक ऑफिस में काम करने वाले लोगों के पास योगासन आदि करने का समय होता भी नहीं है। ऐसे में उन्हें विभिन्न प्रकार की शारीरिक तकलीफों का सामना करना पड़ता है। ऑफिस में बैठे-बैठे सिरदर्द, गर्दन में दर्द, कमर में दर्द और तनाव जैसी समस्याओं से दो चार होना पड़ता है। लगातार कुर्सी पर बैठे-बैठे दिनभर काम करने वाले लोग अपने काम के बीच थोड़ा सा समय निकाल कर कुछ विशेष तरह के आसान व्यायाम कर सकते हैं, जिससे न सिर्फ उन्हें शारीरिक तकलीफों से आराम मिलेगा बल्कि वो और अधिक ऊर्जा से अपने काम में मन लगा पाएंगे।

ऑफिस में किए जाने वाले आसनों के बारे में बताते हुए बाबा रामदेव कहते हैं कि इन आसान से आसनों को करने के बाद अलग से व्यायाम करने की जरूरत नहीं पड़ती। बाबा रामदेव के मुताबिक ऑफिस में बैठे-बैठे जब भी कभी कंधों में दर्द होने लगे या फिर कमर में दर्द होने लगे तो ऐसे में थोड़ा सा वक्त निकालकर अर्धचक्रासन और पादहस्तासन कर सकते हैं। ये आसन आप जहां हैं वहीं थोड़ी देर के लिए खड़े होकर कर सकते हैं। इसके अलावा ऑफिस की अन्य समस्याओं में चिड़चिड़ापन, तनाव और सिरदर्द की तकलीफ होती है।

चिड़चिड़ापन और तनाव से बचने के लिए हास्य योग किया जा सकता है। इसमें आप जोर का ठहाका लगा सकते हैं। अगर ऑफिस में ठहाका लगाना संभव न हो तो आप मुस्कराकर भी यह योग कर सकते हैं। चेहरे पर हल्की सी मुस्कुराहट आपके बड़े से बड़े तनाव को दूर कर सकती है। लगातार कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम करते-करते आंखों में कई तरह की समस्याएं पैदा हो जाती हैं। आंखों का फड़कना, उनमें पानी आना, दर्द करना आदि आंखों की कुछ प्रमुख समस्याएं हैं। इनसे निपटने के लिए प्राणायाम से बेहतर कोई विकल्प नहीं है। अनुलोम विलोम, भ्रामरी और उद्गीथ प्राणायाम से न सिर्फ आंखों की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं बल्कि सिर दर्द, तनाव और चिड़चिड़ापन की समस्या से भी काफी राहत मिलती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग