ताज़ा खबर
 

गर्मियों में ऐसे करें योगा और रहें हमेशा कूल, जानिए कुछ जरूरी आसन और प्राणायाम

गर्मियों में योगा के ये आसन और प्राणायाम करके आप खुद को स्वस्थ, फ्रेश और ज्यादा कूल रख सकते हैं।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (फाइल फोटो)

योगा के कई फायदे होंते हैं इस बात से आप सभी परिचित हैं लेकिन गर्मियों में किन आसनों को करना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होगा इस बात से आप शायद ही परिचित हों। चलिए जानते हैं गर्मियों में योगा के किन आसनों और प्राणायाम को करके आप खुद को स्वस्थ, फ्रेश और ज्यादा कूल बनाए रख सकते हैं।

प्राणायाम- योगा में कई तरह के प्राणायाम होते हैं जिनसे आप अपनी सांसों पर काबू पाते हैं। जब आप लंबी और गहरी सांस लेते हैं तो आपका दिमाग रिलैक्स होता है और साथ ही शरीर का तापमान भी कम होता है। ऐसे में गर्मियों अगर आप सभी तरह के प्रणायाम करें तो ये आपके स्वास्थ्य के लिए तो अच्छा होगा ही बल्कि आपको कूल रहने में मदद भी करेगा। वहीं शीतली प्राणायाम करने के कई लाभ है और यह शरीर का तापमान कम करने के लिए भी बेस्ट उपाय है। साथ ही अनुलोम विलोम भी एक कारगर प्राणायाम है जिसमें आप अपनी सांसों को नियंत्रित करते हैं। अनुलोम विलोम आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए भी एक कारगर प्राणायाम है।

आसन- गर्मियों में किसी एक खास तरह के ही आसन करें यह जरूरी नहीं लेकिन कुछ आसन ऐसे हैं जो आपको गर्मियों के मौसम में खास फायदा पहुंचाते हैं। शवआसन उन्हीं में से एक है। शवआसन में आप अपने शरीर को किसी शव की तरह एक दम निष्क्रिय छोड़ देते हैं। इस आसन को करने के लिए आप जमीन पर सीधे लेटते हैं और फिर काफी देर तक ऐसे ही पड़े रहते हैं। ऐसे में आपकी बॉडी ज्यादा रिलैक्स होती है जो आपका तापमान कम करने में मदद करता है। वहीं ध्यान रहे की शवआसन आप सबसे आखिर में करें क्योंकि यह एक रिलैक्सिंग आसन है, जबकि बाकी ज्यादातर आसनों में आपको बॉडी मूवमेंट्स करनी पड़ती हैं जो एक तरह का वर्कआउट होता है और जिसमें शरीर का तापमान बढ़ता है।

इसके अलावा मेडिटेशन करने आपके दिमाग के साथ-साथ आपका शरीर भी शांत होता है। गर्मियों में मेडिटेशन करने से भी आप अपने शरीर के तापमान पर काबू रख पाते हैं और यह काफी रिलैक्सिंग भी होता है। ऐसे में मेडिटेशन हर मौसम करने के साथ-साथ गर्मियों में भी खास फायदा पहुंचाती है।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग