ताज़ा खबर
 

शोधः ज्यादा टीवी देखने से बढ़ता है मोटापा

ज्यादा टीवी देखने की वजह से मोटापा बढ़ने की संभावनाएं कम टीवी देखने वालों के मुकाबले दोगुनी होती हैं
ज्यादा टीवी देखने से सुस्ती और मोटापे का खतरा काफी बढ़ जाता है।

मोटापा बढ़ने की कई वजहें हो सकती हैं। असंयमित खान-पान, कम शारीरिक मेहनत या फिर नियमित व्यायाम न करने की आदत मोटापा बढ़ाने में अहम योगदान देती हैं। कुल मिलाकर जीवनशैली में अनियमितता वजन बढ़ने के लिए जिम्मेदार होती है। मोटापे के बढ़ने से शरीर में कई तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में उनसे बचाव के लिए कई तरह के शोध किए गए हैं ताकि उनका उचित इलाज ढूंढा जा सके। ऐसे ही एक शोध में कहा गया है कि ज्यादा टीवी देखने पर मोटापा की समस्या हो सकती है। आइए जानते हैं कि इस शोध ने मोटापे को लेकर और क्या-क्या निष्कर्ष निकाले हैं।

सींडेटरी बिहेवियर एंड ओबेसिटी नाम के इस शोध मे बताया गया है कि ज्यादा टीवी देखने से सुस्ती और मोटापे का खतरा काफी बढ़ जाता है। कनाडा में 20 साल से 64 साल तक की उम्र के तकरीबन 42600 लोगों पर किए गए शोध में यह पाया गया है कि हफ्ते में 21 घंटे या उससे ज्यादा टीवी देखने वाले लोग उन लोगों के मुकाबले ज्यादा वजनी थे जो सप्ताह में केवल 5 घंटे या उससे कम टीवी देखते हैं। इसके अलावा कंप्यूटर पर भी देर तक काम करने वालों में मोटापे की वृद्धि देखी गई। शोध के मुताबिक हफ्ते में औसतन 5 घंटे तक कंप्यूटर पर काम करने वाले लोगों के मुकाबले 11 घंटे या उससे अधिक काम करने वाले लोगों में मोटापे का स्तर बढ़ने का खतरा ज्यादा होता है।

शोध के अनुसार हफ्ते में 21 घंटे टीवी का सामने रहने वाले लोगों में औसतन 5 घंटे टीवी देखने वालों के मुकाबले मोटापा बढ़ने का खतरा लगभग दोगुना होता है। हालांकि मोटापा बढ़ने के लिए सिर्फ टीवी देखना ही जिम्मेदार नहीं होता, इसके अलावा भी कई वजहें हैं जो वजन को बढ़ाकर मोटापे की गर्त में ढकेलने का काम करती हैं। लोगों की व्यस्त दिनचर्या ने उनके जीवन में व्यायाम को बिल्कुल जगह नहीं दी है। मोटापा होने का यह सबसे महत्वपूर्ण कारक है।फास्ट फूड, जंक फूड आदि के सेवन की वजह से न सिर्फ मोटापा बढ़ता है बल्कि कई तरह की अन्य बीमारियों का भी खतरा बना रहता है। इसके अलावा शारीरिक श्रम न करना, दवाइयां या फिर अन्य बीमारियां, तनाव, आनुवांशिक कारणों की वजह से भी मोटापे की समस्या जीवन में दस्तक देती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग