December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

इन आठ बातों ने उड़ा रखी है हम भारतीयों की नींद

सर्वे में सामने आया है कि दुनिया भर के लोग आतंकवाद, गरीबी और स्वास्थ्य की समस्याओं से ज्यादा चिंतित हैं।

प्रतिकात्मक फोटो।

दौड़ भाग से भरी आधुनिक जीवनशैली में स्ट्रेस और चिंता  की शिकायत अब आम बात हो गई है। भारत समेत दुनिया के कई बड़े देशों में लोग किसी न किसी वजह से चिंतित रहते हैं। दुनिया भर के लोग किन विषयों को लेकर सबसे ज्यादा चिंतित हैं यह जानने के लिए Ipsos MORI ने दुनिया के 22 देशों में सर्वे कर यह पता लगाने की कोशिश की  इन 22 देशों में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन, जर्मनी, हंगरी, इजराइल, इटली, जापान, मैक्सिको, पोलैंड, पेरू, रूस, सऊदी अरब, साउथ अफ्रीका, साउथ कोरिया, स्पेन, स्वीडन, तुर्की, अमेरिका और भारत शामिल हैं। इस सर्वे में जो एक मुख्य बात सामने आयी वह है कि दुनिया भर के लोग आतंकवाद, गरीबी और स्वास्थ्य की समस्याओं से चिंतित हैं। इस सर्वे में सामने आया कि दुनिया की सबसे बड़ी चिंता इस समय बेरोजगारी की है। दुनिया के कुल 38 प्रतिशत लोग बेरोजगारी को लेकर चिंतित थे । वहीं भारत में आर्थिक धोखाधड़ी से लोग सबसे ज्यादा चिंतित हैं।भारत के कुल 49 प्रतिशत लोगों को धोखाधड़ी की चिंता सताती है।

इसके बाद भारतीयों की सबसे बड़ी चिंता देश में बढ़ रही हिंसा और अपराध हैं। इससे 37 प्रतिशत भारतीय चिंतित हैं। देश गरीबी की समस्या व्यापक है और इससे दुनिया के 33 और भारत में 32 प्रतिशत लोग चिंतित हैं।

आतंकवाद भारतीयों की एक बड़ी चिंता है दुनिया में कुल 21 प्रतिशत और भारत में 32 प्रतिशत लोग आतंकवाद को चिंता का विषय मानते हैं।

वीडियो: महबूबा मुफ्ती बोलीं- ‘जब तक कश्‍मीर से आतंकवाद खत्‍म नहीं होता, AFSPA नहीं हटेगा’

 

शिक्षा के स्तर में पिछले कुछ समय में बेहतरी हुई है पर भारत के 18 प्रतिशत लोगों की चिंता शिक्षा भी है। बढ़ती महंगाई से भारत के 16 प्रतिशत लोगों को नींद नहीं आती। दुनिया के 8 प्रतिशत लोग क्लाइमेट चेंज को चिंता का विषय मानते हैं जबकि भारत में 9 प्रतिशत लोग इसे चिंता का विषय मानते हैं।

Read Also: सप्ताहांत सर्वे : हिलेरी और ट्रंप के बीच कांटे की टक्कर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 7, 2016 5:23 pm

सबरंग