ताज़ा खबर
 

हिन्दी दिवस 2017: अगर आपको भी देना है भाषण तो ऐसे करें तैयारी, जीतें इनाम और तालियां

Hindi Diwas 2017 Speech, Bhashan Hindi: निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल। बिन निज भाषा-ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल।।- भारतेंदु हरिश्चंद्र
Hindi Diwas 2017: 1953 से हर साल 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाया जाता है। (जनसत्ता ग्राफिक्स)

आज 14 सितंबर को हिन्दी दिवस है। हर हिन्दी भाषा भाषी के लिए एक खास दिन। नौकरीपेशा लोगों और छात्रों के लिए तो ये दिन भाषण और निबंध प्रतियोगिता का दिन भी होता है। हिन्दी दिवस मनाने का उद्देश्य है इसका प्रचार-प्रसार करना। इस मकसद से स्कूल-कॉलेज और विभिन्न सरकारी और गैर-सरकारी संस्थान इस दिन नाना-नाना प्रकार की प्रतियोगिताएं कराते हैं। अगर आपको भी ऐसी किसी प्रतियोगिता में शामिल होना है तो हम आपकी मदद करेंगे। हिन्दी पर भाषण या निबंध के लिए सामग्री आपको नीचे पढ़ सकते हैं लेकिन उससे पहले ये जान लें कि आखिर 14 सितंबर को ही हिन्दी दिवस क्यों मनाया जाता है और ये कब से मनाया जा रहा है। इस विशेष दिन पर हिन्दी दिवस मनाने के पीछे एक खास वजह है। इसी दिन 14 सितंबर 1949 को भारत की संविधान सभा में देवनागरी लिपि में लिखी हिन्दी को देश की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया गया था। हमारा संविधान 26 जनवरी 1950 से लागू हुआ और उसी दिन से हिन्दी और अंग्रेजी देश की आधिकारिक भाषाएं बन गईं।  लेकिन 14 सितंबर को हिन्दी दिवस पहली बार 1953 में मनाया गया था। जब संविधान लागू हुआ तब अंग्रेजी को केवल  15 सालों तक के लिए आधिकारिक भाषा बनाया गया था। उसके उपरांत हिन्दी एकमात्र आधिकारिक भाषा होनी थी। हालांकि 1960 के दशक में दक्षिण भारतीय राज्यों खासकर तमिलनाडु हिन्दी को एकमात्रा राजभाषा बनाए जाने के हिंसक विरोध हुआ। परिणामस्वरूप अंग्रेजी को सर्वदा के लिए हिन्दी के साथ आधिकारिक भाषा का दर्जा प्राप्त हो गया। हिन्दी दिवस पर पूरे देश में विशेष कार्यक्रम होते हैं। इनमें भाषण और वाद-विवाद प्रतियोगिताएं भी शामिल हैं। नीचे इस हिन्दी दिवस पर दिया जा सकने वाला एक भाषण प्रस्तुत है। पाठक इसका प्रयोग अपन संभाषणों में करने के अलावा इसके आधार पर अपने स्वतंत्र भाषण भी लिख सकते हैं।

हिन्दी दिवस 2017 पर भाषण- 

आज हिन्दी का दिन है। हिन्दी दिवस। आज ही के दिन हिन्दी को संवैधानिक रूप से भारत की आधिकारिक भाषा का दर्जा मिला था। दो सौ साल की ब्रिटिश राज की गुलामी से आजाद हुए देश ने तब ये सपना देखा था कि एक दिन पूरे देश में एक ऐसी भाषा होगी जिसके माध्यम से कश्मीर से कन्याकुमारी तक संवाद संभव हो सकेगा। आजादी के नायकों को इस बात में तनिक संदेह नहीं था कि हिन्दुस्तान की संपर्क भाषा बनने का महती दायित्व केवल और केवल हिन्दी उठा सकती है। इसीलिए इस संविधान निर्माताओं ने देवनागरी में लिखी हिन्दी को नए देश की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया। संविधान निर्माताओं ने तय किया था कि जब तक हिन्दी वास्तविक अर्थों में पूरे देश की संपर्क भाषा नहीं बना जाती तब तक अंग्रेजी भी देश की आधिकारिक भाषा रहेगी।

संविधान निर्माताओं का अनुमान था कि आजादी के बाद अगले 15 सालों में हिन्दी पूरी तरह अंग्रेजी की जगह ले लेगी। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी हों या देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, सभी इस बात पर एकमत थे कि ब्रिटेन की गुलामी की प्रतीक अंग्रेजी भाषा को हमेशा के लिए देश की आधिकारिक भाषा नहीं होना चाहिए। लेकिन अंग्रेजों के जाने के बाद भी उनकी “फूट डालो और राज करो” की नीति भाषा के क्षेत्र में चलती रही। हिन्दी को एकमात्र आधिकारिक भाषा के खिलाफ उसकी बहनों ने ही बगावत कर दी। उन्होंने एक परायी भाषा “अंग्रेजी” के पक्ष में खड़ा होकर अपनी सहोदर भाषा का विरोध किया। जबकि उनका भय पूरी तरह निराधार था। हिन्दी किसी भी दूसरी भाषा की कीमत पर राष्ट्रभाषा नहीं बनना चाहती। देश की सभी राज्य सरकारें अपनी-अपनी राजभाषाओं में काम करने के लिए स्वतंत्र थीं। हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने का विचार परस्पर सह-अस्तित्व पर आधारित था, न कि एक भाषा की दूसरी भाषा की अधीनता पर।

आजादी के 70 साल बाद भी स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों की वह इच्छा अधूरी है। आज पूरे देश में शायद ही ऐसा कोना हो जहां दो-चार हिन्दी भाषी न हों। शायद ही ऐसा कोई प्रदेश हो जहां आम लोग कामचलाऊ हिन्दी न जानते हों। भले ही आधिकारिक तौर पर हिन्दी देश की राष्ट्रभाषा न हो केवल राजभाषा हो, व्यावाहरिक तौर पर वो इस देश की सर्वव्यापी भाषा है। ऐसे में जरूरत है हिन्दी को उसका वाजिब हक दिलाने की जिसका सपना संविधान निर्माताओं ने देखा था।

हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने की माँग कमोबेश हर हिन्दी भाषी को सुहाती है। लेकिन इसकी आलोचना पर बहुत से लोग मुँह बिचकाने लगते हैं। आज हम हिन्दी की ऐसी दो खास समस्याओं पर बात करेंगे जिन्हें दूर किए बिना हिन्दी सही मायनों में राष्ट्रभाषा नहीं बन सकती। अंग्रेजी, चीनी, अरबी, स्पैनिश, फ्रेंच इत्यादि के साथ ही हिन्दी दुनिया की सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में एक है।  लेकिन इसकी तुलना अगर अन्य भाषाओं से करें तो ये कई मामलों में पिछड़ी नजर आती है और इसके लिए जिम्मेदार है कुछ हिन्दी प्रेमियों का संकीर्ण नजरिया। हिन्दी के विकास में सबसे बड़ी बाधा वो शुद्धतावादी हैं जो इसमें से फारसी, अरबी, तुर्की और अंग्रेजी इत्यादि भाषाओं से आए शब्दों को निकाल देना चाहते हैं। ऐसे लोग संस्कृतनिष्ठ तत्सम शब्दों के बोझ तले कराहती हिन्दी को “सच्ची हिन्दी” मानते हैं। लेकिन यहाँ मशहूर भाषाविद प्रोफेसर गणेश देवी को याद करने की जरूरत है जो कहते हैं भाषा जितनी भ्रष्ट होती है उतनी विकसित होती है।

प्रोफेसर देवी का सीधा आशय है कि जिस भाषा में जितनी मिलावट होती है वो उतनी समृद्धि और प्राणवान होती है। अंग्रेजों को लूट, डकैती, धोती और पंडित जैसे खालिस भारतीय शब्द अपनी भाषा में शामिल करने में कोई लाज नहीं आती लेकिन भारतीय शुद्धतावादी लालटेन, कम्प्यूटर, अस्पताल, स्कूल, इंजन जैसे शब्दों को देखकर भी मुँह बिचकाते हैं जिनका प्रयोग अनपढ़ और गंवई भारतीय भी आसानी से कर लेते हैं। तो हिन्दी को राष्ट्र भाषा बनाने के लिए जरूरी है कि वो समस्त भारतीय भाषाओं और अन्य भाषाओं से अपनी जरूरत के हिसाब से शब्दों को लेने में जरा भ संकोच न करे। हम परायी भाषा के शब्दों को हिन्दी में जबरन घुसेड़ने की वकालत नहीं कर रहे। लेकिन जो शब्द सहज और सरल रूप से हिन्दी में रच-बस गये हों उन्हें गले लगाने की बात कर रहे हैं।

हिन्दी के राष्ट्रभाषा बनने में दूसरी बड़ी दिक्कत है इसका ज्ञान-विज्ञान में हाथ तंग होना। कोई भाषा केवल अनुपम साहित्य के बल पर राष्ट्रभाषा का दायित्व नहीं निभा सकती। भाषा को ज्ञान, विज्ञान, व्यापार और संचार इत्यादि क्षेत्रों के लिए भी खुद को तैयार करना होता है। आज हिन्दी इन क्षेत्रों में दुनिया की अन्य बड़ी भाषाओं से पीछे है। गैर-साहित्यिक क्षेत्रों में हिन्दी में उच्च गुणवत्ता के चिंतन और पठन सामग्री के अभाव से हिन्दी बौद्धिक रूप से विकलांग प्रतीत होती है। आज जरूरत है कि विज्ञान और समाज विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में हिन्दुस्तानी को बढ़ावा दिया जाए। तभी सही मायनो में हिन्दी देश की राष्ट्रभाषा बन सकेगी। अगर इन दो बातों पर पर्याप्त ध्यान दिया जाए तो हिन्दी को वैश्विक स्तर पर पहचान और प्रतिष्ठा पाने से कोई नहीं रोक सकेगा। हिन्दी दिवस पर आधुनिक हिन्दी के जनक माने जाने वाले भारतेंदु हरिश्चंद्र की कालजयी पंक्तियां याद करना समीचीन होगा-

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल। बिन निज भाषा-ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल।।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग