ताज़ा खबर
 

बरसात के मौसम में हो जाए स्किन इंफेक्शन तो ऐसे करें बचाव

मानसून का मौसम जितना सुहावना होता है बीमारियों के मसले में उतना ही संवेदनशील भी होता है। जरा सी असावधानी किसी न किसी बीमारी के गर्त में ढकेल ही देती है।
बरसात मों कई तरह के स्किन इंफेक्शन से भी बचाव करने की जरूरत है।

मानसून का मौसम जितना सुहावना होता है बीमारियों के मसले में उतना ही संवेदनशील भी होता है। जरा सी असावधानी किसी न किसी बीमारी के गर्त में ढकेल ही देती है। ऐसे मौसम में खुद का बचाव करना एक बड़ी चुनौती है। सर्दी, जुकाम, डेंगू, मलेरिया जैसी तमाम बीमारियों के खतरे से बचने के अलावा तमाम तरह के स्किन इंफेक्शन से भी बचाव करने की जरूरत है। आज हम बरसात में स्किन को इंफेक्शन से बचाने के लिए किए जाने वाले उपायों के बारे में बात करेंगे। जब मौसम ही बरसात का है तो बारिश में भीगना एक आम समस्या है।

अगर आप बारिश में भीग गए हैं तो उसके बाद आपको नहाना जरूर चाहिए। इससे इंफेक्शंस से सुरक्षा मिलती है। इस दौरान नहाते हुए शरीर की अच्छी तरह से सफाई के लिए ठीक से स्क्रब करें। बारिश के पानी में काफी मात्रा में प्रदूषक तत्व मौजूद होते हैं, जो आपके बालों पर बुरा असर डालते हैं। इससे बाल झड़ने की समस्या भी हो सकती है। बारिश में भीगने पर बालों को शैंपू से अच्छी तरह से धोएं और कंडीशनर लगाएं। बारिश के मौसम में जगह-जगह पानी इकट्ठा हो जाता है। इस तरह के गंदे पानी में चलने से बचें। इससे आपके पैरों में फंगल इंफेक्शन हो सकता है।

बरसात में पसीना निकलने पर माथे, मुंह, ठोड़ी और नाक पर चिपचिपापन आ जाता है। इसके लिए हमेशा अपने पास टिश्यू पेपर या ब्लॉटिंग पेपर रखें। इस मौसम में सर्दी-जुकाम होने का काफी खतरा रहता है। बारिश के पानी में बैक्टीरिया पनपते हैं, इसलिए अपने पास हैंड सैनिटाइजर जरूर रखें। बरसात के मौसम में सफाई के मद्देनजर हाथ के नाखूनों की सफाई भी बहुत जरूरी है। इनके जरिए कई तरह के रोगजन्य हानिकारक बैक्टीरिया शरीर में पहुंचते हैं। इसलिए हमेशा अपने हाथों और पैरों के नाखून छोटे और साफ रखें। मानसून के मौसम में महिलाएं मेक अप से परहेज करें तो बेहतर है, क्योंकि इससे स्किन को रोमछिद्र बंद हो जाने की वजह से पिंपल्स होने का खतरा रहता है। इसके अलावा स्किन को हाइड्रेटेड रखने के लिए खूब पानी पिएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.