ताज़ा खबर
 

मां बनने के बाद पहली बार शारीरिक संबंध बनाते समय इन बातों का रखें ध्यान

डॉक्टर्स का ऐसा मानना है कि प्रसव के बाद लगभग 4-6 हफ्तों तक शारीरिक संबंध बनाने से परहेज करना चाहिए।
प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में आए बदलावों के चलते कई दिनों तक शारीरिक संबंध बनाना सही नहीं माना जाता है।

प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। इन बदलावों के चलते ही प्रसव के बाद कई दिनों तक शारीरिक संबंध बनाना सही नहीं माना जाता है। डॉक्टर्स का भी ऐसा मानना है कि प्रसव के बाद लगभग 4-6 हफ्तों तक शारीरिक संबंध बनाने से परहेज करना चाहिए। सीजेरियन तकनीक से प्रसव होने के बाद शारीरिक संबंध बनाने पर टांकों के खुलने का डर बना रहता है। प्रसव के बाद महिलाओं का गर्भनाल बाहर आ जाता है। इसकी जगह पर हुए खालीपन की वजह से यह एक घाव की तरह हो जाता है। इस घाव को भरने में थोड़ा समय लगता है। ऐसे में यदि शारीरिक संबंध बनाए गए तो संक्रमण होने की संभावना रहती है।

इसके अलावा इसकी वजह से प्रसव के तकरीबन 3 सप्ताह तक रक्तस्त्राव की समस्या भी होती है। प्रसव बाद शारीरिक संबंध बनाने के लिए कम से कम रक्तस्त्राव के बंद होने तक का इंतजार तो जरूर करना चाहिए। इसके अलावा प्रसव के बाद शारीरिक संबंध बनाने से पहले आपको क्या सावधानियां बरतनी चाहिए, आज हम इसी पर बात करने वाले हैं। बच्चे को जन्म देने के बाद पहली बार शारीरिक संबंध बनाने में दर्द की समस्या हो सकती है। इसका कारण पेडू की मांसपेशियों में आई कमजोरी हो सकती है जो कीगल एक्सरसाइज से ठीक भी हो सकती है। ऐसे में अगर दर्द ज्यादा होता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

शारीरिक संबंध बनाते समय गर्भाशय के सिकुड़ने के फलस्वरूप कभी कभार ब्लीडिंग की भी समस्या आती है जो कि काफी गंदा लगता है। हालांकि यह एक सामान्य घटना है। ऐसे में संबंध बनाने से पहले बिस्तर पर एक तौलिया फैलाकर रख दें। मां बनने के बाद नवजात शिशु को हर दो घंटे में स्तनपान कराने की जरूरत पड़ती है, जिस वजह से बच्चा रात भर सोता नहीं है। ऐसे में शारीरिक संबंध बनाने के लिए सुबह का समय ठीक होता है। प्रसव के बाद शरीर में प्रोक्लेटिन हार्मोन की वजह से स्तनों में दूध बनना शुरू हो जाता है, जिस वजह से शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा नहीं रहती। ऐसे में आप बच्चे को स्तनपान कराके इस समस्या से बच सकती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.