ताज़ा खबर
 

गर्भावस्था में एनीमिया के खतरे को कम करता है तुलसी का पत्ता, जानें और क्या हैं फायदे

तुलसी में पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स, फाइबर, मिनरल्स और अनेक तरह के आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसलिए यह गर्भावस्था में सेवन किए जाने वाले सबसे लाभकारी आहारों में से एक है।
तुलसी के पौधे की एक तस्वीर।

प्रेग्नेंसी के दौरान मां की डाइट होने वाले बच्चे की सेहत के आधार पर तय की जाती है। पोषक तत्वों से भरपूर ऐसे आहार मां के लिए जरूरी होते हैं जिनसे बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास बेहतर तरीके से हो सके। प्रेग्नेंसी के समय अगर आप अपनी डाइट में तुलसी के पत्ते को शामिल करती हैं तो यह आपके होने वाले बच्चे की सेहत के लिए बेहद लाभकारी होता है। गर्भावस्था के दौरान मां के लिए तुलसी के पत्ते का सेवन बिल्कुल सुरक्षित होता है। तुलसी एक आयुर्वेदिक औषधि है, जिसका अपना धार्मिक महत्व भी है। लोग घरों में इसकी पूजा भी करते हैं। आयुर्वेद में तुलसी को बेहतरीन औषधि के रूप में माना गया है। इसमें तमाम तरह के औषधीय गुण मौजूद होते हैं। तुलसी में पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स, फाइबर, मिनरल्स और अनेक तरह के आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसलिए यह गर्भावस्था में सेवन किए जाने वाले सबसे लाभकारी आहारों में से एक है। तो आइए, जानते हैं कि तुलसी गर्भावस्था में किस तरह से लाभकारी हो सकती है।

1. रक्त का थक्का बनाने में – तुलसी के पत्ते में भरपूर मात्रा में विटामिन के पाया जाता है। यह मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी तत्व है। यह रक्त का थक्का बनाने में काफी उपयोगी है, इस प्रकार से यह गर्भवती महिला में खून की कमी की समस्या को कम करने में मदद करता है।

2. भ्रूण के विकास में – तुलसी में विटामिन ए की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। यह भ्रूण के संपूर्ण विकास में काफी मददगार होती है। तुलसी भ्रूण के दिल, आंखों, लंग्स और नसों के विकास में भी सहायता करती है।

3. हड्डियों के लिए – तुलसी भ्रूण की हड्डियों के लिए काफी फायदेमंद होती है। इसमें पाया जाने वाला मैंगनीज एक शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट होता है। यह गर्भवती महिलाओं में कोशिकाओं के डैमेज होने से रक्षा करता है।

4. खून की बढ़ोत्तरी के लिए – तुलसी में पाया जाने वाला फोलेट कंटेंट शरीर में खून का उत्पादन बढ़ाता है। गर्भावस्था के दौरान शरीर में खून की बेहद जरूरत होती है। तुलसी भ्रूण में कई तरह के बर्थ डिफेक्ट्स को रोकने में भी मददगार होता है।

5. एनीमिया की रोकथाम में – तुलसी में काफी मात्रा में आयरन होता है, जो रक्त में हिमोग्लोबिन की बढ़ोत्तरी करता है। यह एनीमिया की रोकथाम के लिए बेहद फायदेमंद औषधि है। गर्भावस्था में महिलाओं में अक्सर एनीमिया की शिकायत देखी जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.