ताज़ा खबर
 

गर्भवती हैं तो भूलकर भी न खाएं ये फूड्स, गर्भपात का बढ़ सकता है खतरा

बहुत से फूड्स ऐसे होते हैं जिनका सेवन न सिर्फ प्रेग्नेंट महिला को बल्कि उसके बच्चे को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। गर्भवती महिलाओं को ऐसे फूड्स से दूर ही रहना चाहिए।
चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है

हम सभी के लिए संतुलित आहार हर समय की जरूरत होती है। बेहतर स्वास्थ्य के लिए खाने में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व होना सभी के लिए बहुत जरूरी है। लेकिन यह बात तब और ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाती है जब आप प्रेग्नेंट हों। प्रेग्नेंसी में बच्चे के समुचित विकास के लिए तथा मां के बेहतर स्वास्थ्य के लिए पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व, विटामिन्स और मिनरल्स की जरूरत पड़ती है। बहुत से फूड्स ऐसे होते हैं जिन्हें खाने से किसी भी तरह के खतरे की कोई बात नहीं होती मतलब कि वे सर्वथा सुरक्षित होते हैं लेकिन बहुत से फूड्स ऐसे भी होते हैं जिनका सेवन न सिर्फ प्रेग्नेंट महिला को बल्कि उसके बच्चे को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। गर्भवती महिलाओं को ऐसे फूड्स से दूर ही रहना चाहिए। आइए, जानते हैं कि ऐसे कौन से फूड्स हैं जो गर्भावस्था में नहीं खाने चाहिए।

1. एल्कोहल – अगर आप एल्कोहल लेती हैं तो प्रेग्नेंसी के दौरान इससे दूर ही रहें। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्भावस्था में एल्कोहल का सेवन करने से समयपूर्व प्रसव की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा बच्चे की मानसिक क्षमता भी प्रभावित होती है तथा कम वजनी बच्चा पैदा होने की आशंका भी बढ़ जाती है।

2. कॉफी – कई तरह के शोध बताते हैं कि प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करने से गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए इस दौरान कॉफी का सेवन बिल्कुल न करें। कैफीन डाइयूरेटिक होता है। इसका मतलब है कि यह शरीर से ज्यादा से ज्यादा मात्रा में द्रव्यों के निष्कासन का काम करता है। इस वजह से शरीर में पानी और कैल्शियम की भारी कमी हो जाती है। इसलिए गर्भावस्था में कॉफी की बजाय खूब पानी पिएं और साथ में दूध और ताजा फलों के जूस का सेवन करें।

3. मछली – मछली में भारी मात्रा में मर्करी पाई जाती है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान मछली का सेवन बच्चे के शारीरिक विकास में देरी और उसके दिमाग को नुकसान पहुंचाने का कारण बन सकता है। इस दौरान कच्ची मछली भी खाने से बचना चाहिए।

4. कच्चे फूड्स – गर्भावस्था में सब्जियों का सेवन हर तरह से सुरक्षित है। बस उनका इस्तेमाल करते वक्त इतना ध्यान रखें कि वह ठीक तरह से धुली गई हों। इसके अलावा किसी भी तरह का कच्चा खाना खाने से बचें। ऐसे खाने में वायरस या फिर बैक्टीरिया हो सकते हैं जो मां और बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

5. पपीता – पपीते की तासीर गर्म होती है। ऐसे में इसका सेवन बच्चे की सेहत पर बुरा असर डालता है। साथ ही किसी भी तरह का फल खाने से पहले उसे ताजे पानी से अच्छी तरह धोना न भूलें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.