December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

क्या आप जानते हैं अपनी शर्ट के पीछे लगे लूप का इस्तेमाल?

आज हम आपको इसके पीछे की वजह बताते हैं। यकीनन आप इसे जानकर हैरान रह जाएंगे या चौंका उठेंगे। पुरुषों का फैशन बहुत बड़े पैमाने पर बढ़ा है। लेकिन 1960 से आजतक लूप उसी तरह से शर्ट में मौजूद है जैसा कि अतीत में हुआ करता था।

बड़े काम का है आपकी शर्ट पर बना हुआ लूप।

आप में से कितने लोगों ने अपनी शर्ट के पीछे लगे लूप पर ध्यान दिया है। शायद बहुत ही कम लोगों का ध्यान उसपर जाता होगा। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि उसका यूज क्या है। आखिर क्यों कंपनी उसे आपकी शर्ट पर लगाती है। ऐसा नहीं हैं कि वो वहां पर किसी बटन को लगाना भूल जाती है या वो स्टाइल स्टेटमेंट है। आप में से किसी को इसके होने का सही मतलब बमुश्किल ही पता होगा। आज हम आपको इसके पीछे की वजह बताते हैं। यकीनन आप इसे जानकर हैरान रह जाएंगे या चौंका उठेंगे। पुरुषों का फैशन बहुत बड़े पैमाने पर बढ़ा है। लेकिन 1960 से आजतक लूप उसी तरह से शर्ट में मौजूद है जैसा कि अतीत में हुआ करता था। दरअसल इन लूप को ईस्ट कोस्ट के सेलर्स के लिए बनाया गया था। जिसकी मदद से वो अपने कपड़ों को हैंगर की गैर-मौजूदगी में कील पर टांग कर सुखा सकें। इसकी मदद से शर्ट पर बिना सिलवट पड़े यह आसानी से सूख जाती है। जिसकी मदद से सेलर दूसरे दिन भी इसे पहन लेते थे।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

समय के साथ यह ट्रेंड समुद्र से होते हुए शहरों तक पहुंचा। जहां इसे काफी पसंद किया गया। इसके बाद बढ़ती लोकप्रियता की वजह से इसे यूनिवर्सल शेप के तौर पर उस समय अपना लिया गया जब 1960 के दशक में अमेरिका ने ऑक्सफोर्ड की बटन वाली शर्ट बनानी शुरू कर दी। अब पुरुष जिम लॉकर में अपनी शर्ट टांगते हैं। इन्हें लॉकर लूप के नाम से जाना जाता है। अब दुनियाभर की सभी शर्ट्स में लूप का होना एक जरूरी फीचर है। लेकिन अफसोस की बात यह है कि हम लोग इसका इस्तेमाल उस चीज के लिए नहीं करते जिनके लिए इसे बनाया गया था।

नेपोलियन बोनापार्ट को अपना सीधा हाथ अपनी शर्ट के अंदर डालकर रखना पसंद था। उनकी लगभग हर फोटो में वह इसी पोजिशन में हैं। उन्हें देखकर कई महिलाओं ने उन्हीं की तरह हाथ रखकर ‘स्टाइल’ में घूमना शुरू कर दिया। यह नेपोलियन को अच्छा नहीं लगा। इसके बाद उसने फरमान सुना दिया कि अब से महिलाओं के कपड़ों में बटन सीधे की जगह उल्टे हाथ पर होंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 4, 2016 11:15 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग