March 24, 2017

ताज़ा खबर

 

चाय बनाने के बाद चायपत्ती को फेकने की बजाय इन कामों में कर सकते हैं दोबारा इस्तेमाल

चायपत्ती चोट व घावों को जल्दी ठीक करने और उन्हें भरने का काम करती है। चाय की पत्ती में एंटीआक्सीडेंट होती है। यदि आपको चोट लगी हो तो उस पर चायपत्ती लगाने से जल्दी ठीक हो जाती है।

Author नई दिल्ली | October 15, 2016 18:02 pm
चाय बनाने के बाद बची हुई चायपत्ती का बालों को चमकाने में इस्तेमाल किया जा सकता है।

भारत में शायद ही कोई घर ऐसा हो जिसमें चाय न बनती हो। आप किसी भी तरह की चाय बनाते हैं चाहे ग्रीन टी हो, ब्लैक टी हो या फिर दूध वाली चाय हो अमूमन बनने के बाद सभी लोग चायपत्ती को फेक देते हैं।। क्या आप जानते हैं दोबारा इन चाय की पत्तियों का इस्तेमाल किया जा सकता है, जो न केवल आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है बल्कि आपके घर के अन्य कामों में भी आसानी से प्रयोग में लाई जा सकती है। चाय बनने के बाद अक्सर हम चाय की पत्तियां फेंक देते हैं, क्योंकि हमें यह नहीं पता होता कि यूज होने के बाद चायपत्ती का क्या किया जाए, इसलिए अक्सर लोग चाय की पत्तियों को कूड़े में डाल देते हैं। हम आपको चाय की पत्तियों का इस्तेमाल दोबारा कैसे करें बता रहे हैं…

आप चाय बनाने के बाद बची हुई चायपत्ती का इस्तेमाल लकड़ी से बनी हुई चीजों को चमकाने में भी कर सकते हैं। बची हुई चायपत्तियों को दोबारा से पानी में उबाल लें और इसे किसी शीशी या फिर स्प्रे की बोतल में डाल दें। अब इससे लकड़ी से बने सामानों की सफाई करें। इससे शानदार चमक आती है। चायपत्ती चोट व घावों को जल्दी ठीक करने और उन्हें भरने का काम करती है। चाय की पत्ती में एंटीआक्सीडेंट होती है। यदि आपको चोट लगी हो तो उस पर चायपत्ती लगाने से जल्दी ठीक हो जाती है। सबसे पहले आप चायपत्तियों को उबाल लें और इसे चोट के ऊपर लगा दें या फिर आप चायपत्ती के पानी से चोट और घावों को धो सकते हैं। यह संक्रमण से भी आपको बचाती है।

वीडियो: मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति ने चाकू से किया कई लोगों पर हमला

आप चाय बनने के बाद चायपत्ती को फेकने की बजाय अपने बालों की चमक बढ़ाने के लिए इस्तेमाल कर सकते है। चायपत्ती बालों के लिए नेचुरल कंडिशनर का काम करती है। आप चाय बनने के बाद बची हुई पत्तियों को एक बार धो लें और इन्हें दोबारा पानी में उबाल लें। और फिर इस पानी से अपने बालों को साफ करें। नियमित ऐसा करने से बालों में प्राकृतिक चमक आएगी। आप अपने घर के किचेन गार्डन में चायपत्ती का इस्तेमाल पौधों को पौष्टिक आहार देने के रूप में कर सकते हैं। घर के गमलों में लगे पौधों को समय-समय पर खाद की जरूरत होती है। ऐसे में आप बची हुई चायपत्ती को साफ कर लें और गमले में डाल दें। इससे आपके पौधे स्वस्थ रहेगें और उनको पौष्टिक आहार भी मिल जाएगा।

Read Also: ये जॉब करने वाली ज्यादातर महिलाएं देती हैं अपने पार्टनर को धोखा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 15, 2016 6:01 pm

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग