ताज़ा खबर
 

गहरी नींद है हमेशा जवान रहने का राज

नींद की कमी से बुजुर्गों में अल्जाइमर रोग जैसे कई शारीरिक एवं मानसिक विकार पैदा होने का खतरा बढ़ सकता है जबकि गहरी नींद लेने से व्यक्ति सदा जवान बना रह सकता है।
Author लॉस एंजिलिस | April 7, 2017 02:49 am

नींद की कमी से बुजुर्गों में अल्जाइमर रोग जैसे कई शारीरिक एवं मानसिक विकार पैदा होने का खतरा बढ़ सकता है जबकि गहरी नींद लेने से व्यक्ति सदा जवान बना रह सकता है।
अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि उम्र बढ़ने के साथ व्यक्ति की नींद बार-बार टूटती है, उसे बार-बार शौचालय जाना पड़ता है। इसी प्रकार की अन्य बाधाएं उसकी नींद में खलल डालती हैं। व्यक्ति उम्र बढ़ने के साथ उस तरह गहरी नींद नहीं ले पाता, जैसी वह युवावस्था में लेता है। अनुसंधानकर्ताओं ने उन अध्ययनों की समीक्षा की जिनमें यह दर्शाया गया है कि बुजुर्ग व्यक्ति के दिमाग को वह धीमी मस्तिष्क तरंगें पैदा करने में समस्या होती है जिनसे गहरी नींद आती है। युवावस्था में गहरी नींद लेने वाले व्यक्ति को अनियमित एवं असंतोषजनक नींद की शिकायत 30 साल की उम्र के बाद शुरू हो सकती है जिसके कारण उसे उम्र बढ़ने के साथ नींद संबंधी बीमारियां हो सकती हैं।

अमेरिका में यूनिवर्सिटी आॅफ कैलिफोर्निया (यूसी) बर्कले के ब्रायसे मांदेर ने कहा, ‘दिमाग के जिन हिस्से में सबसे पहले समस्या होेती है, वे वहीं हिस्से हैं जो गहरी नींद में मददगार होते हैं।’ यूसी बर्कले के जोसेफ विनर ने कहा कि उम्र बढ़ने के साथ नींद में कमी का संबंध याददाश्त कम होने से भी जुड़ा है। यूसी बर्कले में प्रोफेसर मैथ्यू वाल्कर ने कहा, ‘उम्र बढ़ने के साथ होने वाली लगभग सभी बीमारियों का संबंध कहीं न कहीं नींद की कमी से जुड़ा है। हमने जीवनकाल बढ़ाने की दिशा में तो अच्छा काम किया है लेकिन स्वास्थ्य में सुधार की दिशा में खराब प्रदर्शन रहा है।’ नींद की कमी से झुर्रियों, बाल सफेद होना, अल्जाइमर रोग, हृदय संबंधी बीमारी, मोटापा और मधुमेह जैसी बीमारियां भी जुड़ी हैं। यह अध्ययन न्यूरॉन पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग