ताज़ा खबर
 

कॉफी पीने से पहले जरूर पढ़ें..

आज के बीज़ी शेड्युल में हर कोई कॉफी को अपना रिफ्रेशमेंट का ज़रिया मानता है लेकिन रिफ्रेशमेंट का यह बेहतरीन ज़रिया कॉफी को कैसे तैयार किया जाता है यह आप जानेंगे तो शायद कॉफी पीना ही छोड़ देंगे।
हाथी के गोबर से बनती है यह कॉफी

आज के बीज़ी शेड्युल में हर कोई कॉफी को अपना रिफ्रेशमेंट का ज़रिया मानता है लेकिन रिफ्रेशमेंट का यह बेहतरीन ज़रिया कॉफी को कैसे तैयार किया जाता है यह आप जानेंगे तो शायद कॉफी पीना ही छोड़ देंगे।

सोच में पड़ गए ना… जी हां दुनिया की सबसे महंगी कॉफी ब्लैक आइवरी ब्लैंड जिसका एक किलोग्राम कॉफी का मूल्य 1100 डॉलर यानि 67100 रुपए है, जो पीने में भी बेहद स्वादिष्ट लगता है इसे बहुत ही अजीब तरीके से तैयार किया जाता है। अगर आप में यह पढ़ने की हिम्मत है तभी आगे हमारी स्टोरी पढ़े…

इस कॉफी को बनाने में हाथी बहुत बड़ा रोल प्ले करती है। आइए हम आपको बताते हैं कैसे यह कॉफी तैयार की जाती है…

फर्स्ट स्टेप: हाथी को कॉफी के बीज खिलाए जाते हैं।

दूसरा स्टेप: हाथी कच्ची फली खाकर उसे पचाते हैं, और फिर लीद गिरा देते हैं।

तीसरा स्टेप: हाथी के वही लीद यानि कि गोबर में से कॉफी के बीज निकाले जाते हैं।

चौथा स्टेप: इसके बाद इन बीजों को अच्छी तरह से साफ किया जाता है और फिर धूप में सुखने के लिए छोड़ दिया जाता है।

पांचवा स्टेप: धूप में सुखा देने के बाद उसे पीसकर पाउडर बनाया जाता है। इस तरह आपकी पसंदीदा ब्लैक आइवरी कॉफी तैयार की जाती है।

Also Read: 

नग्न फोटो खींची तो देने होंगे 10 भैंसे

कुत्ते संग महिला की यह कैसी शादी?

आपको बता दें कि एक किलोग्राम कॉफी प्राप्त करने के लिए हाथी को लगभग 33 किलोग्राम कॉफी के बीज खिलाए जाते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    Manish
    Jul 6, 2015 at 6:47 am
    हाथी का खाना पचने की प्रक्रिया में कॉफ़ी के प्रोटीन्स टूटते हैं, जिससे कॉफ़ी की कड़वाहट काम होती है और स्वाद बढ़ता hai
    (0)(0)
    Reply
    1. D
      Dr. Deepak
      Jul 6, 2015 at 10:27 pm
      आजकल सब कुछ हाथियों से होकर ही जनता तक पहुंचता है। हाथी सफेद हो सकते हैं, काले हो सकते हैं और दूसरे किसी भी प्रकार के हो सकते हैं। हस्तियों का जमाना है। हस्तियों की लीद के प्रॉडक्ट भी हमको भाते हैं। हाथी की लीद भी अच्छी पैकिंग में भर कर किसी विदेशी नाम या ब्राण्ड से आ जाए तो हम भारतीय इसे भी श्रद्धा और प्रेम से स्वीकार कर लेंगे। विदेशियों के प्रति हमारी परंपरागत निष्ठा और दासत्व भाव जो ठहरा।
      (0)(0)
      Reply
      1. Ashok Kumar
        Jun 27, 2015 at 10:30 am
        इंसान क्या खायेगा जो वास्तव में शद्ध हो? इंसान ही इंसान को पैसा कमाने के उद्देश्य से गंध परोस रहा है, जोकि अमानवीय है|
        (1)(0)
        Reply
        सबरंग