December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

क्या आप जानते हैं जींस धोने का सबसे सही तरीका, पढ़िए दुनिया की पहली जींस बनाने वाली कंपनी के सीईओ ने क्या कहा

लिवाई स्ट्रास एंड कंपनी के मौजूदा सीईओ और प्रेसीडेंट चिप बर्ग ने एक इंटरव्यू में कहा कि वो खुद भी यही तरीका अपनाते हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

आज पूरी दुनिया में जींस से ज्यादा प्रचलित शायद ही कोई और पैंट हो। आज जींस स्टाइल और स्टेटस की पहचान है लेकिन दुनिया की पहली जींस मजदूरों के इस्तेमाल के लिए बनाई गई थी ताकि कामगारों की पैंट ज्यादा दिन तक चल सके। जींस के जिस रूप से हम परिचित हैं उसे सबसे पहले जैकब डब्ल्यू डेविस ने 1871 में बनाया था। जैकब ने जींस बनाने के लिए लिवाई स्ट्रास एंड कंपनी के डेनिम का प्रयोग किया था। बाद उन्होंने इसी कंपनी के साथ मिलकर डेनिम जींस बनाने का कारखाना खोल लिया और 1873 में डेनिम जींस बाजार में लॉन्च की। जींस अगर लोकप्रिय है तो साथ ही इसके रख-रखाव को लेकर लोग अक्सर शिकायत करते नजर आते हैं। मोटे कपड़े वाली जींस को धोना और प्रेस करना काफी मुश्किल प्रतीत होता है। अगर आप भी इस समस्या से परेशान हैं तो लिवाई स्ट्रास एंड कंपनी के मौजूदा सीईओ और प्रेसीडेंट चिप बर्ग ने आपकी मुश्किल हल कर दी है।

वीडियो: अजय देवगन की फिल्म शिवाय की समीक्षा-

मशहूर कारोबारी पत्रिका फार्चून को दिए इंटरव्यू में बर्ग ने बताया था कि जींस को धोने का सबसे सही तरीका ये है कि आप इसे बिल्कुल न धोएं। ऐसा नहीं है कि बर्ग ये सलाह बस दूसरों को देते हैं। उन्होंने इंटरव्यू में बताया कि वो खुद भी अपनी जींस पर लगे दाग-धब्बों को टूथब्रश से साफ करते हैं। यूट्यूब पर मौजूद इस इंटरव्यू में बर्ग कहते नजर आते हैं, “मेरा कहना है कि ये सभी कंज्यूमर के जागने का वक्त है। हम सब ऑटो पायलट मोड में चले गए हैं. हमें आदत हो गई है कि कुछ भी पहनने के बाद हम उसे धोने के लिए लॉन्ड्री में दे देते हैं।”

बर्ग के अनुसार “असलियत में किसी अच्छी जींस को वाशिंग मशीन में धोने की बिल्कुल जरूरत नहीं होती।” बर्ग कहते हैं कि जींस को जितना कम हो सका उतना कम धोना चाहिए। और अगर धोना ही हो तो इसे मशीन में धोने के बजाय हाथों से धोकर सूखने के लिए डाल दें। जाहिर है इस खबर को पढ़ने के बाद आपको जींस को पसंद करने की एक और वजह मिल गई होगी!

देखें चिप्स बर्ग का इंटरव्यू-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 4, 2016 8:17 am

सबरंग