December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

दिवाली 2016: 2 साल बाद रविवार को पड़ रही दिवाली, लक्ष्मी पूजन के लिए 1 घंटे 42 मिनट का समय

Diwali 2016 date India: दिवाली के मौके पर लक्ष्मी पूजा का खास महत्व है। यह पूजा सबसे ज्यादा तब फलदायी होती है जब इन्हें शुभ मुहूर्त में किया जाए।

इस साल 30 अक्टूबर, रविवार को दिवाली मनाई जाएगी।

इस साल दिवाली का त्योहार 30 अक्टूबर 2016, रविवार को मनाया जाएगा।  इस साल यह त्योहार रविवार को पड़ने से नौकरीपेशा लोग नाखुश हैं। रविवार को दिवाली पड़ने की वजह से उन्हें दिवाली की अतिरिक्त छुट्टी नहीं मिली।  इस दिन हिंदू देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। इस त्योहार को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में देखा जाता है। दिवाली के मौके पर लक्ष्मी पूजा का खास महत्व है। यह पूजा सबसे ज्यादा तब फलदायी होती है जब इन्हें शुभ मुहूर्त में किया जाए। इस साल 30 अक्टूबर 2016 को लक्ष्मी पूजन का समय शाम 6 बजकर 26 मिनट से 8 बजकर 09 मिनट तक सबसे शुभ समय है। इस महूर्त का कुल समय 1 घंटे 42 मिनट है।  29 अक्टूबर को अमावस्या की तिथि शाम को 8 बजकर 40 मिनट से शुरु होगी और 30 अक्टूबर 2016 को रात 11 बजकर 08 मिनट पर समाप्त होगी। दिवाली का त्योहार 4 दिनों तक मनाया जाता है।  28 अक्टूबर को धनतेरस का त्योहार मनाया जाएगा।  नरक चौदसी इस साल 29 अक्टूबर को मनायी जाएगी। लक्ष्मी पूजन 30 अक्टूबर को मनाया जाएगा। 31 अक्टूबर को कार्तिक शुद्ध पद्यमी मनाई जाएगी। वहीं 1 नवंबर 2016 को भाई दूज के रूप में मनाया जाएगा। पिछले साल दिवाली 11 नवंबर बुधवार को मनाई गई थी।

वीडियो: इस दिवाली दिल्ली की महिलाओं ने ‘चीनी माल’ को न कहा; केवल भारतीय वस्तुओं का करेंगी इस्तेमाल

भारत में दिवाली प्राचीन समय से ही मनाई जा रही है।  यह त्योहार 14 साल के वनवास के बाद दशरथ के पुत्र राम के अयोध्या वापस लौटने की खुशी में मनाया जाता है। इस दिन राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापस आये थे। राम की वापसी पर अयोध्या वासियों ने दीपक जलाए थे। इसके बाद से ही दिवाली का त्योहार रोशनी के त्योहार के रूप में मनाया जाने लगा। हालांकि दिवाली की उत्पत्ति को लेकर और कई मत भी हैं। कई जगह इस त्योहार को देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु की शादी के रुप में मनाया जाता है। वहीं पश्चिम बंगाल में दिवाली का त्योहार काली मां को समर्पित किया जाता है। जैन समुदाय में भी दिवाली का त्योहार मनाया जाता है। इस समुदाय के देवता महावीर के निर्वान की प्राप्ति के उपलक्ष्य में यह त्योहार मनाया जाता है। दिवाली के दिन लोग शगुन के तौर पर जुआ भी खेलते हैं। माना जाता है कि इस दिन देवी लक्ष्मी ने भगवान विष्णु के साथ चौसर का खेल खेला था। दिवाली से दो दिन पहले धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन लोग बर्तन, सोना और कई सामानों की खरीदारी करते हैं।

Read Also: OnePlus की दिवाली सेल शुरू, सिर्फ 1 रुपए में मिलेगा 28 हजार वाला स्मार्टफोन, जीत सकते हैं लंदन की फ्री ट्रिप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 3:36 pm

सबरंग