ताज़ा खबर
 

इन घरेलू उपयों से दूर होगीं आंखो के नीचे की झुर्रियां

आंखें चेहरे की खूबसूरती का सबसे अहम हिस्सा होती हैं। आंखों की ठीक तरह से देखभाल आपके आकर्षक पर्सनैलिटी को बनाए रखने के लिए काफी जरूरी है।
आंखो के आस पास की त्वचा बेहद मुलायम होती है। यही कारण है कि यहां त्वचा बहुत जल्दी ही ढीली और काली होने लगती है

आंखें चेहरे की खूबसूरती का सबसे अहम हिस्सा होती हैं। आंखों की ठीक तरह से देखभाल आपके आकर्षक पर्सनैलिटी को बनाए रखने के लिए काफी जरूरी है। इसकी अच्छी तरह से देखभाल न करने की वजह से आखों के नीचे झुर्रियों की समस्या उत्पन्न हो जाती है। दरअसल आंखो के आस पास की त्वचा बेहद मुलायम होती है। यही कारण है कि यहां त्वचा बहुत जल्दी ही ढीली और काली होने लगती है। इसका पता यूं तो नहीं चलता लेकिन जब आप हंसते हैं तो आपकी आंखों के आस पास की त्वचा में झुर्रियां दिखने लगती है। और फिर आपको लगता है कि आप बुढ़ापे की ओर बढ़ रहे हैं।

आंखों के नीचे की इन झुर्रियों से बचने के लिए कई तरह के आयुर्वेदिक उपचार मौजूद हैं, जिनका इस्तेमाल कर आप प्राकृतिक तरीके से अपनी त्वचा को झुर्रियों से बचा सकते हैं। खीरा त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए काफी कारगर आयुर्वेदिक औषधि है। रोज सुबह उठकर खीरे से आंखों के नीचे की त्वचा पर मसाज करने से यह स्किन में कसावट लाने का काम करता है। इसके अलावा पके हुए केले को मसलकर इसमें गुलाब जल मिलाकर आंखों के आस पास लगाने से भी झुर्रियां दूर होती हैं। इसमें ध्यान देने वाली बात ये है कि इसे लगाने के लगभग आधे घंटे के बाद गुनगुने पानी से चेहरा धोएं।

टमाटर का रस, नींबू का रस, चुटकी भर बेसन और हल्‍दी को मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्‍ट को अपनी आंखों के चारों ओर लगाएं और 20 मिनट के बाद चेहरे को धो लें। हफ्ते में 3 बार ऐसा करने पर डार्क सर्कल धीरे-धीरे कम होने लगता है। एक चम्मच एलोवेरा के रस को सुबह-शाम नहाने के बाद और सोने से पहले दो बार चेहरे पर लगाने से यह आपकी त्वचा को टाईट करेगा। एक चम्मच बेसन, एक चम्मच शहद, एक चम्मच दूध और आधा चम्मच सरसो का तेल मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर 15 मिनट के लिए छोड दें। बाद में गुनगुने पानी से धो लें। सप्ताह में 2 बार इसका प्रयोग करने से यह आखों के नीचे और आस पास की त्वचा को टाइट करता है। इसके अलावा बहुत ज्यादा टेंशन लेने की वजह से भी आंखों के आस-पास झुर्रियां बढ़ने लगती हैं इसलिए बेवजह की टेंशन से बचें। अधिक देर तक टी वी और कंप्यूटर पर काम न करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग