ताज़ा खबर
 

क्यों कोच नहीं बन सके वीरेंद्र सहवाग? विराट से कर ली थी बात, प्रेजेंटेशन भी था दमदार, पर अंत में कोहली ने खड़े कर दिए हाथ

बीसीसीआई ने रवि शास्त्री को टीम इंडिया का मुख्य कोच नियुक्त किया है।
टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग।

बीसीसीआई ने रवि शास्त्री को टीम इंडिया का मुख्य कोच नियुक्त कर दिया है। इस रेस में टॉम मूडी, लालचंद राजपूत, रिचर्ड पायबस के अलावा वीरेंद्र सहवाग भी मौजूद थे, जिन्हें इस पद का बेहद अहम दावेदार माना जा रहा था। लेकिन क्रिकेट अडवाइजरी कमिटी (सीएसी) ने शास्त्री को तरजीह दी। टाइम्स अॉफ इंडिया के मुताबिक पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग को कोहली का पूरा समर्थन था। रिपोर्ट्स के मुताबिक वे उन पांच आवेदकों में से एक थे, जिनका प्रेजेंटेशन टॉम मूडी और रवि शास्त्री के बाद तीसरा सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाला था। टीम इंडिया कैंप और वीरेंद्र सहवाग के बीच काफी ग्राउंड वर्क भी हुआ था, जिसके लिए पहल खुद पूर्व ओपनर ने ही की थी।

मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने टीओआई को बताया, आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के मेंटर सहवाग को यह विश्वास था कि उनमें बड़े स्तर पर इसी क्षमता के साथ काम करने का माद्दा है। इसके बाद एक वरिष्ठ बीसीसीआई अधिकारी ने उनसे टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए अप्लाई करने को कहा। इसके बाद सहवाग कोहली के मन की स्थिति को समझने के लिए उनके पास पहुंचे। कोहली ने उनसे कहा, आपका भारतीय क्रिकेट में शानदार योगदान है और हम सभी के आपके साथ अच्छे संबंध भी हैं। जो भी कोच पद के लिए अप्लाई कर रहा है, मुझे उससे कोई परेशानी नहीं है। जो भी यह समझता है कि वो भारतीय क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ योगदान दे सकता है, उसे अप्लाई करना चाहिए।

दिल्ली के दोनों खिलाड़ियों के बीच प्रफेशनल रिश्ता इसलिए नहीं बन पाया, क्योंकि सहवाग ने यह प्रपोजल रखा था कि वह अपने साथ सपोर्ट स्टाफ लाएंगे, जिसमें फिजियोथेरेपिस्ट अमित त्यागी और किंग्स इलेवन पंजाब के असिस्टेंट कोच मिथुन मनहास शामिल थे।

इस पर कोहली ने कहा, पाजी मैं आपकी बहुत इज्जत करता हूं, लेकिन यह नहीं हो सकता। बाकी सीएसी पर निर्भर करता है। कोहली ने कहा, यहां सपोर्ट स्टाफ है, जिसने काफी समय से टीम के साथ काम किया है। कई लोग एेसे भी हैं, जो व्यक्तिगत तौर पर टीम के हर एक खिलाड़ी की जरूरत समझते हैं। सूत्रों ने कहा कि इसके बाद रेस में रवि शास्त्री आगे हो गए। उन्होंने यह भी कहा कि शास्त्री वर्क एथिक्स की अहमियत जानते हैं। उन्हें मौजूदा सपोर्ट स्टाफ ने ही आगे रखा था, जिन्होंने उनके साथ 3 साल काम किया है।

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on July 15, 2017 3:53 pm

  1. No Comments.
सबरंग