ताज़ा खबर
 

तीन शब्द के एसएमएस में बयां हुआ कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले का बड़ा झगड़ा

इसमें कोई शक नहीं कि कोहली फिलहाल इस टीम के पावर सेंटर हैं।
कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले। (Representative Image)

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले के बीच खटास अब खुलकर सामने आ गई है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले हफ्ते एक बीसीसीआई अधिकारी के फोन पर एक मैसेज आया, जिसमें लिखा था-वह असहनीय हैं। कहा जा रहा है कि वह मैसेज विराट कोहली की ओर से आया था और यह कोच अनिल कुंबले के लिए था। इसके बाद बीसीसीआई के गलियारों में गड़गड़ाहट एक बार फिर शुरू हो गई है। लेकिन इंग्लैंड में बैठे एक शख्स को इससे जरा भी हैरानी नहीं हुई। आईपीएल में विराट कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कोच रहे अफ्रीकी खिलाड़ी रे जेनिंग्स कहते हैं-मैंने बतौर कोच कोहली से मैदान के बाहर और मैदान पर कुछ छोटी चीजें पूछी थीं, जैसे स्ट्रैटजी, टीम का फ्यूचर और यही उसे पसंद नहीं आया और जल्द ही कोच को बाहर कर दिया गया लोगों को अपनी कमियों पर सवाल उठाने वाले पसंद नहीं आते। 2015 में उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में यह बात कही थी। एक साल बाद उन्हें हटा दिया गया और कुछ दिनों बाद कोहली टीम इंडिया के कप्तान बन गए।

इंडियन एक्सप्रेस से ताजा बातचीत में जेनिंग्स ने कहा, यह कोहली ही थे, जो कोच को बदलना चाहते थे। मुझए उनकी तरफ से कोई फोन नहीं आया, न ही बातचीत हुई। बस डैनियल विटोरी को कोच बना दिया गया। उन्होंने कहा, वह बहुत काबिल खिलाड़ी है, लेकिन कभी-कभी वह समझता है कि वह खेल से भी अच्छा है। वहीं ड्रेसिंग रूम के सूत्र बताते हैं कि कोहली को शुरुआत से ही कुंबले पर शंका थी। जबकि पूर्व कोच रवि शास्त्री एक चीयर लीडिंग कोच थे और हमेशा कप्तान को पूरा सपोर्ट देते थे। यहां तक कि जब नए कोच के लिए इंटरव्यू प्रक्रिया चल रही थी, जिसमें कुंबले को कोच बनाया गया, उसमें शास्त्री को अपने चांस को लेकर बड़ी उम्मीदें थीं, क्योंकि उनके कप्तान विराट कोहली से बेहतर संबंध थे।

कुछ सूत्रों का मानना है कि अॉस्ट्रेलिया सीरीज के दौरान कुंबले के दिए गए टिप्स काफी कारगर साबित हुए। एक टीम के खिलाड़ी ने यह भी कहा था कि कोहली उस तरह का माहौल पसंद करेंगे, जैसा महेंद्र सिंह धोनी के समय में था। धोनी जब कप्तान थे तो उन्हें तत्कालीन बीसीसीआई प्रेजिडेंट एन श्रीनिवासन का पूरा सपोर्ट था। जब मोहिंदर अमरनाथ की अगुआई वाली समिति उन्हें हटाना चाहती थी, तब भी श्रीनिवासन उनके सपोर्ट में खड़े थे। कोहली को यह सपोर्ट पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर से मिलता था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें भी हटा दिया गया।

इसमें कोई शक नहीं कि कोहली फिलहाल इस टीम के पावर सेंटर हैं। अजिंक्य रहाणे का खेल अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में काफी अच्छा था, लेकिन खेल के सभी प्रारूपों में नहीं। आर अश्विन भी शानदार खिलाड़ी हैं, लेकिन उन्हें बोर्ड कप्तान के तौर पर नहीं देख रहा। दूसरे शब्दों में कहें तो इस समय में सौरव गांगुली, सचिन तेंडुलकर, अनिल कुंबले या राहुल द्रविड़ भी कप्तान नहीं हो सकते थे। सिर्फ विराट कोहली हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग
Indian Super League 2017 Points Table

Indian Super League 2017 Schedule