ताज़ा खबर
 

VIDEO: आठवीं बार विंबलडन चैंपियन बन रोजर फेडरर ने रचा इतिहास, कोर्ट पर ही लगे बच्चों की तरह रोने

फेडरर ने ओपन एरा में सर्वाधिक आयु में विंबलडन खिताब जीतने का रिकॉर्ड भी कायम किया। उन्होंने 35 साल 342 दिन की आयु में यह खिताब जीता है।
आठवीं बार खिताब जीतकर ट्रॉफी को चूमते रोजर फेडरर। (Photo Courtesy : IANS)

स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने रविवार को क्रोएशिया के मारिन सिलिक को आसानी से हराते हुए साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का पुरुष एकल खिताब जीत लिया। ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकार्ड आठवीं खिताबी जीत है और इसके साथ ही फेडरर ने ओपन एरा में पीट सैंप्रास और ओवरऑल ब्रिटेन के महान खिलाड़ी विलियम रेनशॉ के रिकॉर्ड को ध्वस्त किया। सैंप्रास और रेनशॉ के नाम सात-सात बार विंबलडन जीतने का रिकॉर्ड है।

यह फेडरर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब है और सर्वाधिक ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने के मामले में वह स्पेन के राफेल नडाल (15 खिताब) से चार खिताब आगे निकल आए हैं। फेडरर ने ओपन एरा में सर्वाधिक आयु में विंबलडन खिताब जीतने का रिकॉर्ड भी कायम किया। उन्होंने 35 साल 342 दिन की आयु में यह खिताब जीता है।

अपने दूसरे ग्रैंड स्लैम और पहले विंबलडन खिताब के लिए प्रयासरत सिलिक की फेडरर के सामने एक नहीं चली। अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिक को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया। 2014 से 16 के बीच तीन बार विंबलडन क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हारने वाले सिलिक ने पहली बार इस अग्रणी ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी, लेकिन ग्रास कोर्ट का बादशाह कहे जाने वाले फेडरर ने उन्हें पहली बार विंबलडन खिताब जीतने से रोक दिया।

दूसरी ओर, इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुके फेडरर विंबलडन में रिकॉर्ड 11वां फाइनल खेलते हुए एक बार फिर विजेता बने। वह 2014, 2015 में भी फाइनल में पहुंचे थे लेकिन वह सर्बिया के नोवाक जोकोविक के हाथों हार गए थे। इसके अलावा 2016 में वह सेमीफाइनल में कनाडा के मिलोस राओनिक के हाथों हार गए थे।

बहरहाल, पहले सेट की शुरुआत में सिलिक ने अपना क्लास दिखाया और एक समय 2-2 की बराबरी पर पहुंच गए थे लेकिन बाद में वह फेडरर के अद्वितीय क्लास और अनुभव के आगे बेबस नजर आए। फेडरर ने यह सेट 6-3 से अपने नाम कर मैच को दूसरे सेट तक बढ़ाया।

दूसरा सेट सिलिक के लिए और भी निराशाजनक साबित हुआ। वह इस सेट में सिर्फ एक गेम जीत सके। फेडरर ने अपना वर्चस्व कायम करते हुए यह सेट 6-1 से जीता और यह जता दिया कि उनके अनुभव और क्लासिक टेनिस के आगे सिलिक की तेजतर्रार सर्विस की एक नहीं चलने वाली है।

तीसरे और निर्णायक सेट में सिलिक ने धमाकेदार शुरुआत करते हुए 2-1 की बढ़त हासिल कर ली। वह इस सेट में पहले से बेहतर नजर आए। फेडरर ने इसके बाद दो गेम जीतते हुए 3-3 की बराबरी और फिर 5-3 से आगे हो गए। सिलिक ने स्कोर 4-5 कर मैच को रोमांच देने का प्रयास किया, लेकिन फेडरर ने यहां अपने अनुभव का कमाल दिखाते हुए सिलिक को वापसी का मौका नहीं दिया और सेट के साथ मैच भी अपने नाम किया।

इस तरह फेडरर ने आठवीं बार ऑल इंग्लैंड क्लब में अपना परचम लहराया। एक समय उन्हें चुका हुआ कहा जाने लगा था, लेकिन इस कद्दावर खिलाड़ी ने कोर्ट पर शानदार वापसी करते हुए अपनी प्रतिष्ठा के साथ न्याय किया। फेडरर ने इससे पहले 2003, 2004, 2005, 2006, 2007, 2009 और 2012 में यहां चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था। विंबलडन में आठ खिताब के अलावा फेडरर पांच बार आस्ट्रेलियन ओपन, एक बार फ्रेंच ओपन और पांच बार अमेरिकी ओपन खिताब जीत चुके हैं।

मिताली को बधाई देने के चक्कर में विराट ने कर दी ये बड़ी गलती, देखें वीडियो...

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on July 17, 2017 8:53 am

  1. No Comments.
सबरंग