ताज़ा खबर
 

पिच की आलोचना से बचे डोमिंगो, भारतीय स्पिनरों को दिया श्रेय

दक्षिण अफ्रीका के कोच रसेल डोमिंगा ने कहा कि उनकी टीम वीसीए स्टेडियम की पिच की आलोचना नहीं करेगी जहां पहले दो दिन में 32 विकेट गिरे और दक्षिण अफ्रीकी की टीम भारत के खिलाफ तीसरे टैस्ट क्रिकेट मैच में बैकफुट पर है। डोमिंग ने दूसरे दिन 20 विकेट गिरने के बाद संवाददाताओं से कहा […]
Author नागपुर | November 27, 2015 02:04 am

दक्षिण अफ्रीका के कोच रसेल डोमिंगा ने कहा कि उनकी टीम वीसीए स्टेडियम की पिच की आलोचना नहीं करेगी जहां पहले दो दिन में 32 विकेट गिरे और दक्षिण अफ्रीकी की टीम भारत के खिलाफ तीसरे टैस्ट क्रिकेट मैच में बैकफुट पर है। डोमिंग ने दूसरे दिन 20 विकेट गिरने के बाद संवाददाताओं से कहा कि आपको भारत को श्रेय देना चाहिए। उन्होंने अपनी खेल शैली के अनुरू प विकेट तैयार किए और उसके स्पिनरों ने वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने बेहतरीन गेंदबाजी की और हम अभी पिच की आलोचना नहीं कर सकते।

डोमिंगो ने कहा कि जब आप सीरीज जीत रहे होते हो तो पिच की आलोचना करना आसान होता है लेकिन जब आप सीरीज में पीछे होते हो तो पिच की आलोचना करना मुश्किल होता है। उन्होंने हालांकि अभी जीत की उम्मीद नहीं छोड़ी है हालांकि यह बहुत मुश्किल लगती है। डोमिंगो ने कहा कि खेल में इससे पहले भी कुछ हटकर होता रहा है। अभी हम भले ही इस मैच में काफी पीछे हैं लेकिन हम अभी खुद की हार नहीं मान रहे हैं। डोमिंगो ने कहा कि उनके और भारतीय स्पिनरों के बीच अंतर प्रतिद्वंद्वी बल्लेबाजों को जाल में फंसाने के लिए निरंतरता रही।

उन्होंने कहा कि निरंतरता का अंतर रहा है। मुझे लगता है कि हमारे स्पिनरों की तुलना में भारतीय स्पिनरों ने अधिकतर समय सही स्थान पर गेंद पिच करायी और ऐसा उन्होंने लंबे समय तक किया। हमने दो या तीन ओवरों में सही जगह पर गेंद पिच कराई और उन्होंने आठ और नौ ओवर तक ऐसा किया। हमने आसानी से एक दो रन दिए और उन्होंने ऐसा नहीं किया। दोनों टीमों के स्पिनरों के बीच यह मुख्य अंतर रहा। डोमिंगो ने 38 रन देकर पांच विकेट लेने वाले इमरान ताहिर को देर से आक्रमण पर लगाने के कप्तान हाशिम आमला के फैसले का भी बचाव किया।

उन्होंने कहा कि इमरान ताहिर ने वास्तव में अच्छी गेंदबाजी की और मोर्ने मोर्कल का जवाब नहीं था। हमारी तरफ से आज इन दोनों ने अच्छा प्रदर्शन किया। मुझे लगता कि कप्तान को लगा कि साइमन हार्मर बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं और दाएं हाथ के बल्लेबाजों को भी परेशान कर रहे हैं। इसके अलावा जेपी डुुमिनी भी अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे क्योंकि गेंद टर्न ले रही थी और वह कुछ नुकसान पहुंचा सकता था। मुझे लगता है कि यही कारण रहा होगा।

’’दूसरी तरफ, भारतीय आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने भारत की टर्निंग पिचों की आलोचना करने लोगों से सवाल किया कि उन्होंने तब कोई सवाल क्यों नहीं उठाया जब टेटब्रिज में एशेज टैस्ट लगभग दो दिन में समाप्त हो गया था। यह आफ स्पिनर दक्षिण अफ्रीकी पिचों पर सवालिया निशान उठाने से नहीं चूका जैसे कि जोहानिसबर्ग जहां दिसंबर 2013 में पांचवें दिन भी उन्हें विकेट से कोई मदद नहीं मिली थी। अश्विन से पूछा गया कि दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों का स्वागत टर्निंग विकेट से हो रहा है, उन्होंने कहा कि मैंने जोहानिसबर्ग के बाद शिकायत नहीं की थी।

मुझे उसके बाद एक साल के लिए बाहर कर दिया गया था। और मैं यहां खेलने को लेकर भी शिकायत दर्ज करने नहीं जा रहा हूं। इसका कोई कारण नजर नहीं आता। मैं आखिर शिकायत क्यों करूं। ब्रिज में दो दिन तक स्विंग, सीम और उछाल रही और मैच समाप्त हो गया। तमिलनाडु के इस स्पिनर ने कहा कि स्पिन को खेलने के लिए भी कौशल की जरू रत पड़ती है।
उन्होंने भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीसरे टैस्ट क्रिकेट मैच के दूसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद संवाददाताओं से कहा कि स्पिन और उछाल को लेकर समस्या क्या है। यह अच्छा है कि विकेट में स्पिन और उछाल है। बल्लेबाजों में इससे निबटने के लिए कौशल होना चाहिए। सीरीज में दूसरी बार पांच विकेट लेने वाले अश्विन ने कहा कि सौभाग्य कहो या दुर्भाग्य, मुझे मैदानकर्मियों को यह कहने का अधिकार नहीं है कि किस तरह की पिच तैयार करने की जरू रत है। एक बार जब वे पिच तैयार कर लेते हैं तो उस पर खेलना मेरा काम होता है। अश्विन लगता है कि टैस्ट सीरीज के दौरान विकेटों की प्रकृति को लेकर चल रही चर्चा से खुश नहीं दिखे।

उन्होंने तल्ख अंदाज में कहा कि पिच को लेकर चर्चा जरू रत से ज्यादा हो चुकी है। यह मेरे दिल की आवाज है। आप मेरे से अलग राय रख सकते हो। दोनों टीमों में कई अच्छे क्रिकेटर हैं आप जिनके बारे में बात कर सकते हो।
सीरीज के शुरू से ही दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों की नाक में दम करने वाले अश्विन ने कहा कि सुबह उन्होंने जो दो विकेट हासिल किए उसने मैच का रुख भारत के पक्ष में मोड़ा। अश्विन ने डीन एल्गर और कप्तान हाशिल अमला को आउट करके स्कोर चार विकेट पर 12 रन कर दिया। उन्होंने कहा कि सुबह मैंने जो पहली चार गेंद की उससे मैच हमारे पक्ष में आया। इसके बाद वे वापसी करने के लिए जूझते रहे। अश्विन ने कहा कि दिन आगे बढ़ने के साथ्घ पिच धीमी होती गई और बल्लेबाज को आउट करने के लिए गेंदबाज को धैर्य बनाए रखने की जरू रत थी।

उन्होंने कहा कि इस तरह की पिच में जो गेंदबाजी सीधी गेंद करता है उसकी गेंद बल्ले का किनारा लेकर जा सकती है। पहली पारी में यह मेरी रणनीति थी। दूसरी पारी में मैंने इसमें थोड़ा बदलाव किया। दूसरी पारी में हमें थोड़ा संयम बरतना होगा। अश्विन ने कहा कि सुबह हमने काफी अनुशासन दिखाया और शुक्रवार को भी हम ऐसा करेंगे। विकेट दिन के आगे बढ़ने के साथ शुष्क और धीमा पड़ता गया। इस विकेट पर बल्लेबाजों को रणनीति के साथ खेलने की जरू रत है। रन बनाने की संभावनाएं सीमित हैं। अश्विन ने कहा कि दक्षिण अफ्रीकी मानसिक रू प से मैच हार चुके हैं। उन्होंने स्टियान वान जिल के संदर्भ में कहा कि हां, मुझे लगता है कि यह मानसिक है। अगर आपको कोई एक गेंदबाज आउट कर देता है तो आपको हर समय लगता है कि किसी भी समय गेंद बल्ले का किनारा लेकर चली जाएगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
Indian Super League 2017 Points Table

Indian Super League 2017 Schedule