December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

भारत को कबड्डी वर्ल्‍ड चैंपियन बनाने वाले अजय ठाकुर की दास्‍तां, पिता ब्‍लास्‍ट में हुए थे घायल, खुद घुटने से परेशान

रेडर अजय ठाकुर के जोरदार खेल के बूते भारत ने ईरान को 39-28 से हराकर कबड्डी वर्ल्‍ड कप 2016 का खिताब जीत लिया।

Author अहमदाबाद | October 23, 2016 14:46 pm
अजय ठाकुर कबड्डी वर्ल्‍ड कप 2016 में टॉप रेडर रहे। (Photo:PTI)

रेडर अजय ठाकुर के जोरदार खेल के बूते भारत ने ईरान को 39-28 से हराकर कबड्डी वर्ल्‍ड कप 2016 का खिताब जीत लिया। इसी के साथ भारत ने इस खेल में अपना दबदबा बनाए रखा है। 1990 में कबड्डी को एशियाई खेलों में शामिल किया गया तब से हर बार भारत ने गोल्‍ड जीता है। साथ ही सभी विश्‍व कप भी जीते हैं। भारत ने पांचवीं बार ईरान को खिताबी मुकाबले में मात दी है। अहमदाबाद में वर्ल्‍ड कप फाइनल से पहले भारत ने 2010 व 2014 एशियाड और 2004 व 2007 वर्ल्‍ड कप में ईरान को हराया था। हालांकि इस बार भारत के लिए जीत आसान नहीं रही। हाफ टाइम तक तो भारत 19-15 से पिछड़ रहा था। ईरान की मजबूत रक्षापंक्ति के आगे भारतीय रेडर नाकाम साबित हो रहे थे। राहुल चौधरी, प्रदीप नरवाल और संदीप नरवाल चल ही नहीं पाए। भारतीय डिफेंस भी पहले हाफ में बैरंग रहा। मंजीत छिल्‍लर और सुरजीत ईरानी रेडर्स को रोकने में असफल रहे।

हाफ टाइम के बाद अजय ठाकुर की रेड ने मैच का पासा पलटा। ठाकुर ने अपनी रेड में ईरान के कप्‍तान मेराज शेख और डिफेंस की जान फजल अत्राचली को बाहर किया। इस रेड से भारत को दो पॉइंट मिले लेकिन भारत फिर भी पिछड़ रहा था। लेकिन अजय ठाकुर ने टीम इंडिया में ऐसा जोश फूंका कि टीम की डिफेंस ने ईरान के आक्रमण को ठंडा कर दिया। मैच के शुरुआती 25 मिनट तक भारत पिछड़ रहा था। लेकिन ठाकुर की रेड के बाद अगले पांच मिनट में भारत ने 10 पॉइंट लिए जबकि ईरान के खाते में एक अंक आया। मैच शुरू होने से पहले अजय ठाकुर टॉप रेडर्स की लिस्‍ट में दूसरे नंबर पर थे। लेकिन फाइनल में 12 अंक लेकर वे टॉप पर आ गए। उनके इस प्रदर्शन ने टीम के बाकी रेडर्स की विफलता को छुपा दिया। भारत के ‘डू ओर डाई रेड’ स्‍पेशलिस्‍ट प्रदीप नरवाल फाइनल में बुरी तरह नाकाम रहे। इसके चलते टीम मैनेजमेंट को उन्‍हें बाहर बैठाना पड़ा।

भारत के कबड्डी विश्वकप जीतते ही वीरेंद्र सहवाग ने पियर्स मॉर्गन को दिया करारा जवाब

Kabaddi World Cup: भारत की बादशाहत बरकरार, फाइनल में ईरान को दी मात

फाइनल के प्रदर्शन ने अजय ठाकुर के कंधों से भी बोझ उतार दिया। पिछले दो साल से वे घुटने की चोट से परेशान थे। इसके चलते प्रो कबड्डी में भी उनका प्रदर्शन प्रभावित हुआ और बेंगलुरु बुल्‍स व पुनेरी पलटन के कई मैचों में वे खेल नहीं पाए। वर्ल्‍ड कप के शुरुआती मैचों में तो उन्‍हें फर्स्‍ट सेवन में भी जगह नहीं मिली थी। अजय को चोटों के साथ ही पारिवारिक मोर्चे पर भी जूझना पड़ा। हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के नलागढ़ के रहने वाले अजय के पिता गैस सिलेंडर में ब्‍लास्‍ट के चलते बुरी तरह घायल हो गए थे। वे बाल-बाल बचे। अजय ने बताया कि उनके कोच कहते रहते थे कि वे बेस्‍ट हैं। फाइनल के बाद भारतीय टीम के कोच बलवान सिंह ने कहा, ”अजय ने साबित किया कि वह दुनिया का बेस्‍ट रेडर है।” कप्‍तान अनूप कुमार ने भी इस बात को माना। उन्‍होंने कहा, ”अजय ने हमें फाइनल जिताया।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 23, 2016 2:46 pm

सबरंग