December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

वीडियो: कृत्रिम पैर के निकल जाने के बाद भी एक पैर पर ही फील्डिंग करता रहा क्रिकेटर

हालांकि थॉमस के लिए मैच का परिणाम सुखद नहीं रहा। पाकिस्तान ने इंग्लैंड को फाइलन मुकाबले में तीन विकेट से हरा दिया।

थॉमस गेंद पकड़ने लपके तो उनका नकली पैर बाहर छिटक गया। (ट्विटर वीडियो स्क्रीनग्रैब)

आईसीसी अकादमी दुबई शारीरिक रूप से विकलांग खिलाड़ियों का टी-20 मुकाबला कर रही है। इस मुकाबले में इंग्लैंड, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान की टीमें हिस्सा ले रही हैं। सामान्य क्रिकेट की तरह इन मुकाबलों को देखने के लिए भारी भीड़ नहीं जुटती लेकिन विकलांग खिलाड़ियों का हुनर और हौसला किसी से कम नहीं है। इंग्लैंड के खिलाड़ी लियाम थॉमस ने पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल मुकाबले में फील्डिंग का ऐसा नमूना पेश किया कि देखने वालों ने दांतों तले उंगलियां दबा लीं। हुआ ये कि मैच के दौरान बल्लेबाज ने गेंद सीमारेखा की तरफ मारी। वहां मौजूद थॉमस गेंद पकड़ने के लिए आगे बढ़े तभी उनका कृत्रिम पैर बाहर निकल गया। लेकिन थॉमस ने इसकी परवाह न करते हुए एक पैर के सहारे गेंद पकड़ी और उसे विकेट कीपर तक पहुंचाई। थॉमस की इस साहसिक फील्डिंग का वीडियो क्रिकेट प्रशंसक ट्विटर पर शेयर कर रहे हैं और उनकी जमकर तारीफ कर रहे हैं।

थॉमस के इस अनुकरणीय प्रदर्शन के बाद न केवल उनके साथी खिलाड़ी बल्कि वहां मौजूद दर्शकों ने भी तालियां बजाकर उनका हौसला बढ़ाया। मीडिया से बात करते हुए थॉमस ने कहा कि जब उनका एक पैर बाहर निकल गया तो कुछ पल के लिए वो दुविधा में पड़ गए कि वो गेंद पकड़ें या अपना पैर उठाएं। थॉमस ने मीडिया से कहा, “ये बस हो गया। मैं गेंद पकड़ने के लिए लपक रहा था, मैं गेंद के पीछे जमीन पर गिरा, जब मैंने उठने की कोशिश की तो मुझे अहसास हुआ कि मेरा एक पैर नहीं है। कुछ पल के लिए मैं समझ नहीं पाया कि मैं गेंद पकड़ूं या पैर उठाऊं। मैंने गेंद के पीछे जाने के फैसला लिया।”

वीडियो:  जेल से भागे सिमी के आठों सदस्य मुठभेड़ में मारे गए-  

हालांकि थॉमस के लिए मैच का परिणाम सुखद नहीं रहा। पाकिस्तान ने ये मैच तीन विकेट से जीत लिया। लेकिन जिस तरह पूरी दुनिया में इस घटना की चर्चा हुई उससे विकलांग खेलों को मिलने वाला प्रोत्साहन बढ़ेगा। थॉमस ने मीडिया से कहा, “हम लोग विकलांग हैं, हम सब एक दूसरे के साथ भी मजाक करते रहते हैं। साथ ही हम सब एक दूसरे का पूरा सपोर्ट भी करते हैं। ऐसे किसी मौके पर हम सब एक दूसरे का दुख आपस में बांट लेते हैं।”

इस महीने की शुरुआत में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और कॉमनवेल्थ बैंक ने अगले तीन सालों के लिए विकलांग, महिला और आदीवासियों को बढ़ावा देने के लिए पचास लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर खर्च करने की घोषणा की थी। इस तरह क्रिकेट पहला ऐसा खेल बन गया जो पैराओलंपिक में शामिल नहीं है फिर भी उसके विकलांग खिलाड़ियों को पूरा समर्थन मिलेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 31, 2016 4:56 pm

सबरंग