December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

कप्तानी के भार का आकलन तीन साल बाद करूंगा: कोहली

बेशक जिम्मेदारी काफी बढ़ जाती है। लेकिन यह साथ ही मुझे गेंद को हवा में खेलने से रोकता है जो मैं संभवत: टेस्ट क्रिकेट में खेलना पसंद करता।’

Author November 22, 2016 00:33 am
कप्तान विराट कोहली ने विशाखापत्तनम टेस्ट मैच की दूसरी पारी में शानदार अर्धशतक जड़ा।(Photo: AP)

विशाखापत्तनम। विराट कोहली अपेक्षाओं के दबाव का लुत्फ उठाते हैं और उन्होंने साफ किया कि वह तीन साल बाद ही आकलन करेंगे कि कप्तानी उनके लिए कितना ‘भार’ साबित हो रही है। कोहली ने दूसरे क्रिकेट टेस्ट में इंग्लैंड पर 246 रन की जीत के बाद कहा, ‘शायद तीन से चार साल में मैं आकलन कर पाऊंगा कि मैं कप्तानी का कितना भार महसूस कर रहा हूं लेकिन इस समय सब कुछ सही है इसलिए मुझे कोई परेशानी नहीं है।’ भारतीय टेस्ट कप्तान ने मौजूदा कैलेंडर वर्ष में सभी अंतरराष्ट्रीय मैचों में 2277 रन बनाए हैं और इस मामले में सिर्फ इंग्लैंड के जो रूट (2285) से कुछ पीछे हैं। उन्होंने कहा, ‘जब आप बल्लेबाजी के लिए जाते हो तो खुद को कप्तानी से अलग करना मुश्किल होता है विशेषकर तब जब आप पांच बल्लेबाजों के साथ खेल रहे हो। बेशक जिम्मेदारी काफी बढ़ जाती है। लेकिन यह साथ ही मुझे गेंद को हवा में खेलने से रोकता है जो मैं संभवत: टेस्ट क्रिकेट में खेलना पसंद करता।’

कोहली ने स्पष्ट किया कि उन्हें अपने पारंपरिक शॉट पर भरोसा हैं और यही कारण है कि जब वह हवा में शॉट नहीं खेल पाते तो उन्हें कोई मलाल नहीं होता। महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई वाले सीमित ओवरों के प्रारूप के संदर्भ में कोहली ने कहा कि यह आसान होता है क्योंकि उन्हें काफी कुछ सोचना या लागू नहीं करना होगा। उन्होंने कहा, ‘अन्य प्रारूपों में तैयारी करना मानसिक रूप से आसान होता है क्योंकि आपको सिर्फ बल्लेबाजी के बारे में सोचना होता है, बेशद मैदान पर आपको सलाह देनी होती है लेकिन यह जरूरी नहीं कि आप फैसला करें, आपको सुझाव देने होते हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 22, 2016 12:33 am

सबरंग