ताज़ा खबर
 

India vs west Indies: तेज गेंदबाज शार्दुल शार्दुल को टेस्ट मैचों में धीमे विकेट की उम्मीद

पहला टेस्ट 21 जुलाई से एंटीगा में होगा और शार्दुल को अंतिम एकादश में शामिल होने की उम्मीद नहीं है।
Author बासेटेरे (सेंट कीट्स) | July 17, 2016 16:06 pm
मुंबई के तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर। (Photo: Express Archive)

युवा तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर को कैरेबियाई परिस्थितियों में खेलने का अभी कुछ अनुभव ही मिला है लेकिन उन्हें 21 जुलाई से वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू होने वाली चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला में धीमे विकेट मिलने की उम्मीद है जैसे कि पहले दो अभ्यास मैचों के दौरान थी। भारत और वेस्टइंडीज बोर्ड अध्यक्ष एकादश के बीच दूसरा अभ्यास मैच भी ड्रा रहा। शार्दुल ने दूसरे अभ्यास मैच के बाद कहा, ‘मैंने इस पर सीनियर खिलाड़ियों के साथ बात की और गेंदबाजी इकाई के रूप में हमने पिचों और परिस्थितियों पर चर्चा की। यहां दोनों अभ्यास मैचों की पिचें धीमी थी और टेस्ट श्रृंखला में भी हमें इसी तरह के धीमे विकेट मिलने की उम्मीद है।’

उन्होंने कहा, ‘इसलिए गेंदबाज जानते हैं कि हमें प्रयास जारी रखने होंगे। विकेट जितना धीमा होगा उतने अधिक प्रयास करने होंगे। प्रयास करना मेरा काम है और इसकी हर मैच में जरूरत होती है। यह मायने नहीं रखता कि पिच कैसी है। एक तेज गेंदबाज को हर गेंद के लिए प्रयास करना होता है।’ इस युवा खिलाड़ी को रणजी सत्र में अच्छे प्रदर्शन के कारण भारत की 17 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया। ठाकुर ने कहा, ‘मैंने शुरू से ही टेस्ट टीम का हिस्सा बनने का सपना देखा था। टीम में अनुभवी खिलाड़ियों के साथ रहने से आपको काफी कुछ सीखने को मिलता है। मैं अधिक से अधिक सीखने की कोशिश कर रहा हूं क्योंकि यह भविष्य में मेरी प्रगति के लिएअच्छा होगा।’

शार्दुल ठाकुर ने कहा, ‘मैंने कुछ बाउंसर किए और दूसरी पारी में ऐसी गेंद पर एक बार विकेट भी हासिल कर लिया था। यहां तक कि पहली पारी में भी मैंने बाउंसर पर विकेट लिया था। मैं इसे चौंकाने वाली गेंद के रूप में इस्तेमाल कर रहा हूं और इससे मेरी गेंदबाजी में विविधता आती है।’ अनिल कुंबले और इशांत शर्मा के प्रभाव के बारे में ठाकुर ने कहा, ‘उन्होंने मुझे सहज रहने का अहसास कराया और जब एक खिलाड़ी सहज रहता है तो अच्छा प्रदर्शन करता है।’ उन्होंने कहा, ‘ड्रेसिंग रूम में किसी तरह का दबाव नहीं होना चाहिए और जितने स्वच्ंछद होकर रहोगे, मैदान पर उतना अच्छा प्रदर्शन करोगे। सीनियर साथियों और अनिल भाई ने मेरा काफी हौसला बढ़ाया और इसलिए अब अच्छा प्रदर्शन करना मेरा काम है।’

पहला टेस्ट 21 जुलाई से एंटीगा में होगा और शार्दुल को अंतिम एकादश में शामिल होने की उम्मीद नहीं है। भारत को हालांकि इस सत्र में 17 टेस्ट मैच खेलने हैं और इसलिए जल्द ही उन्हें मौका मिल सकता है। उन्होंने कहा, ‘प्रत्येक अलग तरह का गेंदबाज है तथा अपने मजबूत पक्षों की पहचान करना और लगातार सुधार करना महत्वपूर्ण होता है। हमने टेस्ट श्रृंखला में गेंदबाजी को लेकर अपने विचार रखे हैं और उम्मीद है कि हमारी रणनीति कारगर साबित होगी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.