ताज़ा खबर
 

धोनी को सुप्रीम कोर्ट से राहत, धार्मिक भावनाएं आहत करने के खिलाफ याचिका खारिज

सामाजिक कार्यकर्ता जयकुमार हीरमथ ने याचिका दायर करके आरोप लगाया था कि धोनी को एक बिजनेस पत्रिका के मुखपृष्ठ पर भगवान विष्णु के रूप में दिखाया गया है।
Author नई दिल्ली | September 5, 2016 17:39 pm
बिजनेस टूडे मैगज़ीन ने अप्रेल 2013 में अपने मुख्य पृष्ठ पर एमएस धोनी की एक तस्वीर प्रकाशित की थी, जिसमें वो भगवान विष्णु के रूप में दिखाए गए थे।

सुप्रीम कोर्ट ने एक पत्रिका के मुखपृष्ठ पर खुद को भगवान के रूप में दर्शाकर कथित तौर पर धार्मिक भावनाएं आहत करने के लिए महेंद्र सिंह धोनी के खिलाफ दायर आपराधिक मामले को सोमवार (5 सितंबर) को खारिज कर दिया। न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ ने धोनी को राहत देते हुए कहा कि कर्नाटक की निचली अदालत ने कानूनी प्रक्रिया का पालन किए बिना इस क्रिकेटर को समन भेजने की गलती की। पीठ ने कहा, ‘हम उच्च न्यायालय के आदेश में हस्तक्षेप करके इस मामले को खारिज करते हैं जिसमें आरोपी को समन भेजने का आदेश भी शामिल है। हमने यह आदेश पारित करते हुए शिकायत और कथित अपराध को संज्ञान में लिया है।’

उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल 14 सितंबर को धोनी के खिलाफ आपराधिक प्रक्रिया चलाने पर रोक लगा दी थी। धोनी के खिलाफ एक पत्रिका के मुखपृष्ठ पर कथित तौर पर खुद को भगवान विष्णु के रूप में दर्शाने को लेकर शिकायत की गयी थी। न्यायालय ने कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश पर भी रोक लगा दी थी। उच्च न्यायालय ने इस क्रिकेटर के खिलाफ चल रहे आपराधिक मामले पर रोक लगाने से इन्कार कर दिया था। धोनी ने कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए विशेष अनुमति याचिका दायर की थी।

सामाजिक कार्यकर्ता जयकुमार हीरमथ ने याचिका दायर करके आरोप लगाया था कि धोनी को एक बिजनेस पत्रिका के मुखपृष्ठ पर भगवान विष्णु के रूप में दिखाया गया है। उनके हाथों कई चीजें हैं जिनमें जूता भी शामिल है। शिकायत पर संज्ञान लेते हुए अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने धोनी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 295 (धार्मिक भावनाएं आहत करने से संबंधित) के अलावा धारा 34 (इरादतन) के तहत मामला दर्ज करने के निर्देश दिये थे। बाद में मजिस्ट्रेट ने धोनी को अदालत में उपस्थित होने के लिए समन जारी किया था जिसके खिलाफ वह उच्च न्यायालय चले गये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग